1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. dumka
  5. santhali panchhi saree attracts jharkhand ias officer rajeshwari b

झारखंड की महिला आइएएस अधिकारी को पसंद आयी ‘संथाली पंछी साड़ी’, सोशल मीडिया पर शेयर की Pics

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
संथाली साड़ी में दुमका की उपायुक्त राजेश्वरी बी.
संथाली साड़ी में दुमका की उपायुक्त राजेश्वरी बी.
Twitter

jharkhand news, santhali panchhi saree, jharkhand, ias officer, rajeshwari b, dumka, deputy commissioner : रांची : झारखंड में पदस्थ भारतीय प्रशासनिक सेवा (आइएएस) की अधिकारी को ‘संथाली पंछी साड़ी’ इतनी पसंद आयी कि उन्होंने इसे पहनकर तस्वीरें खिंचवायी और उसे सोशल मीडिया पर शेयर भी किया. इस आइएएस अधिकारी इसके साथ लिखा कि संथाली संस्कृति हमें सरलता और सादगी से जीना सिखाती है. यह हमें प्रकृति के आदर और उसके संरक्षण का संदेश भी देती है.

शहीदों के चरणों में उपायुक्त ने पुष्प अर्पित की.
शहीदों के चरणों में उपायुक्त ने पुष्प अर्पित की.
Twitter

यह महिला आइएएस अधिकारी झारखंड की उप-राजधानी दुमका की उपायुक्त हैं. नाम है राजेश्वरी बी. मंगलवार (30 जून, 2020) को ‘हूल क्रांति दिवस’ पर आयोजित कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचीं थीं. इसी दौरान उपायुक्त राजेश्वरी बी ने ‘संथाली पंछी साड़ी’ पहनी और संथाल हूल क्रांति के नायकों सिद्धो-कान्हू मुर्मू और चांद-भैरव को श्रद्धांजलि दी.

हूल क्रांति के नायकों को पहनायी माला.
हूल क्रांति के नायकों को पहनायी माला.
Twitter

संथाल हूल क्रांति को भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन की पहली क्रांति माना जाता है. संथाल परगना के वीर सपूतों सिद्धो-कान्हू मुर्मू और चांद-भैरव ने वर्ष 1855 में ब्रिटिश सरकार के खिलाफ विद्रोह का बिगुल फूंक दिया था. स्वतंत्रता और न्याय के लिए लड़ते हुए ये लोग शहीद हो गये. राजेश्वरी बी ने इस अवसर पर कहा कि सिद्धो-कान्हू और चांद-भैरव आज भी लोगों को प्रेरणा देते हैं.

कोरोना काल में आयोजित कार्यक्रम में मास्क पहनकर शामिल हुए लोग. सोशल डिस्टेंसिंग का भी रखा गया ख्याल.
कोरोना काल में आयोजित कार्यक्रम में मास्क पहनकर शामिल हुए लोग. सोशल डिस्टेंसिंग का भी रखा गया ख्याल.
Twitter

Posted By : Mithilesh Jha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें