1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. haryana health minister anil vij on jitan ram manjhi for lord ram controversy in bihar news skt

जीतन राम मांझी को धरती का बोझ बता रहे खट्टर सरकार के मंत्री अनिल विज, भगवान राम पर विवादित बयान का मामला

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी को हरियाणा सरकार के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने धरती का बोझ बताते हुए काफी कुछ कहा. मांझी ने भगवान राम को लेकर फिर एकबार विवादित बयान दिया जिसके बाद ये प्रतिक्रिया सामने आयी है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
जीतन राम मांझी  व मंत्री अनिल विज
जीतन राम मांझी व मंत्री अनिल विज
फाइल

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने जीतन राम मांझी को धरती का बोझ बता दिया. ये सियासी बयानबाजी तब शुरू हुई है जब एकबार फिर जीतन राम मांझी ने भगवान राम को नहीं मानने की बात कहते हुए उन्हें काल्पनिक पात्र बताया. खट्टर सरकार के मंत्री ने कहा कि जीतन राम मांझी को हिंदुस्तान के इतिहास और संस्कृति की समझ नहीं है. वहीं जीतनराम मांझी के इस बार-बार होने वाले बयानबाजी से अब उनके ऊपर सियासी हमले भी तेज हुए हैं.

मांझी ने भगवान राम पर दिया विवादित बयान

अपने विवादित बयानों से अक्सर सुर्खियों में रहने वाले पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने विगत 14 अप्रैल को जमुई के लछुआड़ में एक बार फिर से भगवान राम एवं सत्यनारायण स्वामी को लेकर ऐसा बयान दे दिया जिससे विवाद छिड़ गया. जीतन राम मांझी ने अपने संबोधन में खुद को माता शबरी का वंशज बताया और भगवान राम को काल्पनिक बता दिया. मांझी ने कहा कि राम कोई भगवान नहीं थे बल्कि महर्षि वाल्मीकि और तुलसीदास के काव्य ग्रंथ के महज एक काल्पनिक पात्र थे.

सत्यनारायण स्वामी की पूजा नहीं कराने की नसीहत

बिहार के मुख्यमंत्री रहे जीतन राम मांझी ने लोगों को सत्यनारायण स्वामी की पूजा नहीं कराने की नसीहत फिर एकबार दे दी. उन्होंने ये तक कहा कि सत्यनारायण स्वामी की पूजा कराने से कोई स्वर्ग नहीं चला जाता है. ये सब पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा द्वारा आयोजित अंबेदकर जयंती सह शबरी महोत्सव में शामिल होकर कहा. इस समारोह के लिए मांझी शुक्रवार को लछुआड़ पहुंचे थे.

हम राम को नहीं मानते हैं- मांझी

मांझी विवादों की फिक्र करते बगैर ये कह गये कि हम खुले तौर पर कहना चाहते हैं कि हम राम को नहीं मानते हैं. राम महर्षि बाल्मीकि और तुलसीदास के द्वारा रचित काव्य ग्रंथ के एक काल्पनिक पात्र मात्र ही थे. उन्होंने कहा कि कल के अखबार में खबर छपेगा की जीतन राम मांझी पागल हो गया है लेकिन हम आज ये बात खुलेआम कह रहे हैं.

POSTED BY: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें