1. home Home
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. delhi police picked up two fraudsters from bihar money was withdrawn from fake cheque in the account of mp sakshi maharaj asj

दिल्ली पुलिस ने बिहार से दो जालसाजों को उठाया, सांसद साक्षी महाराज के खाते में सेंध लगा फर्जी चेक से निकाले थे पैसे

यूपी के सांसद साक्षी महाराज के खाते से एक लाख रुपये की ठगी के मामले में दिल्ली पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. दोनों पटना के गर्दनीबाग व कंकड़बाग के रहने वाले है.

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बीजेपी सांसद साक्षी महाराज
बीजेपी सांसद साक्षी महाराज
फाइल

पटना. यूपी के सांसद साक्षी महाराज के खाते से एक लाख रुपये की ठगी के मामले में दिल्ली पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया है. दोनों पटना के गर्दनीबाग व कंकड़बाग के रहने वाले है. मालूम हो कि इसके लिए दिल्ली पुलिस ने पटना में छापेमारी भी की है. गत शनिवार को दिल्ली पुलिस ने जिसको गिरफ्तार किया है उसमें गर्दनीबाग के रहने वाले दिनेश राय और कंकड़बाग निवासी निहाल सिन्हा शामिल है.

पटना पुलिस के मुताबिक दिनेश राय ठग गिरोह का मास्टर माइंड है, जबकि निहाल सिन्हा के खाते में रुपये स्थानांतरित किये गये थे. दोनों के खिलाफ स्थानीय थाने में फिलहाल कोई मुकदमा दर्ज नहीं है. निहाल को रिमांड पर लेकर जेल भेज दिया है, जबिक दिनेश से पूछताछ की जा रही है.

जानकारी के अनुसार उन्नाव से भाजपा सांसद साक्षी महाराज ने अप्रैल में संसद मार्ग थाने में दी शिकायत में बताया था कि किसी ने फर्जी चेक के माध्यम से उनके एसबीआई के खाते से 97,500 रुपये निकाल लिए हैं। जिन चेक से रुपये निकाले हैं वह उनके पास हैं. इसके बाद संसद मार्ग थानाध्यक्ष अजय शर्मा व वोट क्लब चौकी प्रभारी राज किरण की टीम ने इस मामले की जांच शुरू की थी.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार आरोपियों ने खुलासा किया है कि वह 1000 से ज्यादा लोगों के बैंक खातों से करोड़ों रुपये निकाल चुके हैं. जांच के बाद आरोपी निहाल को 22 जून को पटना से गिरफ्तार कर लिया गया.

उससे ट्रांजिट रिमांड पर दिल्ली में पूछताछ की गयी. पूछताछ के दौरान उसने दिनेश के नाम का खुलासा किया. पुलिस ने शनिवार को दिनेश राय को छपरा से गिरफ्तार कर लिया है. बताया जाता है कि बीएससी डिग्री होल्डर निहाल को दिनेश राय फर्जी चेक देता था. वह इन चेकों को विभिन्न बैंकों में जमाकर पैसे ट्रांसफर करता था. इस काम के लिए उसे 30 फीसदी कमीशन मिलता था.

दिनेश राय ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया कि वह फर्जी चेक छपवाता था. किसी को शक न हो इस लिए 50 हजार से कम राशि एक बार में निकालता था. अमूमन 50 हजार या उससे ज्यादा का चेक लगाने पर बैंक संबंधित ग्राहक को सूचना दे देता है. पुलिस अधिकारियों का कहना है कि शुरुआती जांच में बैंक कर्मचारियों की मिलीभगत भी सामने आ रही है. मामले की जांच जारी है.

Posted by Ashish Jha

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें