1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. patna
  5. cbse board exam 2021 marking scheme changed for class 10th and 12th know how to get good marks in board exams news and date sheet with pariksha papers news skt

CBSE ने 10वीं और 12वीं परीक्षा के लिए किया बदलाव, गूगल बढ़ाएगी मुश्किलें और जानें कैसा उत्तर लिखने पर मिलेंगे अतिरिक्त अंक

बोर्ड परीक्षा के लिए CBSE ने कुछ बदलाव किए हैं. अब बोर्ड परीक्षा में अपनी भाषा में उत्तर देने वाले विद्यार्थियों को अतिरिक्तत अंक मिलेगा. वहीं जो छात्र थोड़ी अलग शैली में (Innovative) उत्तर लिखेंगे उन्हें भी अतिरिक्त अंक(Extra Marks) मिल सकेगा. जबकि ऑनलाइन परीक्षा के दौरान गूगल की मदद से सर्च करके उत्तर लिखने वाले छात्रों के नंबर काटे जायेंगे.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
CBSE: 10वीं-12वीं की परीक्षा को लेकर आयी बड़ी खबर, जानें लेटेस्ट अपडेट
CBSE: 10वीं-12वीं की परीक्षा को लेकर आयी बड़ी खबर, जानें लेटेस्ट अपडेट
twitter

बोर्ड परीक्षा के लिए CBSE ने कुछ बदलाव किए हैं. अब बोर्ड परीक्षा में अपनी भाषा में उत्तर देने वाले विद्यार्थियों को अतिरिक्तत अंक मिलेगा. वहीं जो छात्र थोड़ी अलग शैली में (Innovative) उत्तर लिखेंगे उन्हें भी अतिरिक्त अंक(Extra Marks) मिल सकेगा. जबकि ऑनलाइन परीक्षा के दौरान गूगल की मदद से सर्च करके उत्तर लिखने वाले छात्रों के नंबर काटे जायेंगे.

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने अपने मार्किंग स्कीम को चेंज किया है. बोर्ड ने सभी मूल्यांकन केंद्रों को इसकी जानकारी भेजनी शुरू कर दी है. जिसके तहत अब जो भी छात्र किसी भी प्रश्न का उत्तर अपनी भाषा में देंगे उन्हें बोर्ड की तरफ से अतिरिक्त अंक मिल सकेगा. जबकि रटे रटाये उत्तर लिखने वाले छात्रों को इसका लाभ नहीं मिल सकेगा.

सीबीएसई ने नये नियमों के तहत अधिकतम पांच अंक की सीमा तय की है जो इनोवेटिव उत्तर लिखने वाले छात्रों को मिल सकेगा. वहीं अब ऐसे छात्रों को जिन्होंने परीक्षा के लिए अपने सवालों के जवाब को गूगल से सर्च करके तैयार किया है और वो उसे ही रट कर परीक्षा में लिखते हैं तो ऐसे छात्रों के अंक काट लिये जायेंगे. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, बोर्ड ने परीक्षकों को यह निर्देश दिया है कि कॉपी के मूल्यांकन के दौरान ऐसे उत्तरों के लिए वो नंबर में कटौती कर सकते हैं.

वहीं नंबर देने में बोर्ड के इस बदलाव के फैसले के बाद अब छात्रों के साथ ही स्कूलों में शिक्षकों ने भी मेहनत शुरू कर दी है. बता दें कि बोर्ड परीक्षा में अभी दो महीने का वक्त है. छात्रों को इस दौरान इसकी प्रैक्टिस भी हो जायेगी. वहीं इस बदलाव के बाद छात्रों को सवालों का जवाब रटने की आदत भी कम हो जाने की संभावना है. वो अपनी भाषा में उत्तर लिखेंगे तो आत्मविश्वास भी बढ़ेगा.

Posted By: Thakur Shaktilochan

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें