25.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

बांका पहुंचे केके पाठक ने बच्चों से सुनी ABCD, कहा- ड्रेस कोड में आना होगा स्कूल, नहीं तो कट जायेगी हाजिरी

बांका पहुंचे केके पाठक ने स्कूलों के निरीक्षण के दौरान दक्ष क्लास में बैठे बच्चों से अंग्रेजी वर्णमाला सुनाने को कहा. साथ ही कविताएं भी सुनीं. उन्होंने स्कूल में बने अतिरिक्त क्लास रूम एवं शौचालय की भी जांच की. केके पाठक ने बच्चों से स्कूल ड्रेस में आने को भी कहा.

बांका जिले के रजौन प्रखंड क्षेत्र के राष्ट्रीय उच्च विद्यालय धौनी का शिक्षा विभाग बिहार सरकार के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने शुक्रवार को निरीक्षण किया. इस दौरान उन्होंने विद्यालय के एक-एक कमरे की जाकर जांच की. विद्यालय पहुंचे ज्यादातर बच्चे ड्रेस कोड में नहीं थे. जिसे देखकर केके पाठक ने नाराजगी जाहिर की. उन्होंने विद्यालय के प्रधानाध्यापक कुमार दिनकर को ड्रेस कोड का पालन कराने का निर्देश दिया. साथ ही छात्र-छात्राओं को भी नियमित रूप से ड्रेस कोड में स्कूूल आने को कहा. उन्होंने कहा कि यह अनुसाशन का एक हिस्सा है. अगर आप ड्रेस कोड में स्कूल नहीं आयेंगे तो आपकी हाजिरी काट दी जायेगी. उन्होंने शिक्षकों को हिदायत दी कि उनके प्रयास के बाद विद्यालयों में नियमित शिक्षक उपस्थित हो रहे हैं. लेकिन यह सिलसिला आगे भी जारी रखना चाहिए.

निरीक्षण के दौरान एक छात्र व एक शिक्षक अनुपस्थित

जानकारी के अनुसार राष्ट्रीय उच्च विद्यालय धोनी में कक्षा 9 से 12 तक में करीब 2400 बच्चे नामांकित है. तथा इन विद्यालय में बच्चों को पढ़ने के लिए 19 शिक्षक कार्यरत हैं जिनमें 6 बीपीएससी से नवनियुक्त शिक्षक है. एक शिक्षक अवकाश पर है. वही निरीक्षण के दौरान एक छात्र अनुपस्थित पाए गए.

लैब, क्लासरूम, शौचालय का लिया जायजा

स्कूल के प्रधान कुमार दिनकर ने बताया कि स्मार्ट क्लास, बेहतर शिक्षा, छात्रों की उपस्थिति और साफ सफाई, चारदीवारी को लेकर मुख्य सचिव ने कई निर्देश दिए. साथ ही तीन दिन से ज्यादा अनुपस्थित रहने वाले छात्रों के नाम काटने का भी निर्देश दिया. वहीं, विद्यालय की छात्रा ने इस तरह के निरीक्षण को सही ठहराया और छात्रों के बेहतर भविष्य के लिए जरूरी बताया.

मिशन दक्ष को लेकर छात्रों से की बातचीत

रजौन के बाद अपर मुख्य सचिव बाराहाट प्रखंड क्षेत्र के बैद्यनाथ झा इंटर स्तरीय विद्यालय पहुंचे. जहां उन्होंने कंप्यूटर शिक्षक नीरज कुमार से बातचीत की. इस दौरान स्कूली छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि अब वह नियमित रूप से प्रत्येक दिन सुबह 9 से शाम 5 बजे तक विद्यालय संचालित होगा. जबकि दोपहर बाद 3:30 बजे से कमजोर छात्रों के लिए अतिरिक्त कक्षा आयोजित होगी. इसको लेकर स्कूली छात्रों से बातचीत भी किया.

शौचालय का निरीक्षण किया

बाद में अपर मुख्य सचिव ने विधायक फंड से विद्यालय की चारदिवारी निर्माण व बन रहे टायल्सयुक्त शौचालय का निरीक्षण किया. अच्छे कार्य की सराहना की. जबकि मैदान के समतलीकरण नहीं होने के कारण मनरेगा विभाग से कार्य कराने का निर्देश दिया. साथ ही डीएम को मामला देखने की बात कहीं गयी.

Also Read: बिहार में केके पाठक की राह पर अधिकारी, वर्तनी-अशुद्धि के फेर में निलंबित किए जा रहे शिक्षक

75 प्रतिशत उपस्थिति हैं अनिवार्य

मुख्य अपर सचिव ने विद्यालय में चल रहे 11वीं की मासिक परीक्षा का निरीक्षण किया. यहां 94 में से 40 छात्रों की परीक्षा चल रही थी. विद्यालय के निरीक्षण के दौरान उन्होंने कहा कि छात्रों के 75 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य है. इससे कम उपस्थिति होने पर मुख्य परीक्षा से छात्रों को वंचित कर दिया जायेगा. इसके लिए एचएम आनंदी यादव को निर्देशित किया. हालांकि विद्यालय के शैक्षणिक माहौल से संतुष्ट दिखें. इस मौके पर खेल शिक्षक पंकज कुमार सहित शिक्षा विभाग के सभी अधिकारी मौजूद थे.

Also Read: सासाराम पहुंचे केके पाठक ने शिक्षकों को सुनाया नया फरमान, कहा- एक शिक्षक हर दिन लेंगे छह क्लास

दक्ष क्लास में बैठे बच्चों से पढ़ाई के संबंध में पूछताछ की

अपर मुख्य सचिव ने अमरपुर प्रखंड क्षेत्र के दो विद्यालय का निरीक्षण किया. इस दौरान उच्च माध्यमिक विद्यालय फतेहपुर एवं माध्यमिक उच्च विद्यालय मकदुमा पहुंचे. मौके पर अपर मुख्य सचिव ने दक्ष क्लास में बैठे बच्चों से पढ़ाई के संबंध में पूछताछ की. स्कूल के एचएम अरूण कुमार से स्कूल में पढ़ने वाले छात्र-छात्राओं की अद्यतन जानकारी ली. दक्ष क्लास में बैठे बच्चों से अंग्रेजी वर्णमाला सुनाने को कहा. साथ ही कविताएं भी सुनीं. उन्होंने स्कूल में बने अतिरिक्त क्लास रूम एवं शौचालय की भी जांच की.

Also Read: नवनियुक्त शिक्षकों को केके पाठक की चेतावनी, कहा- नेता बनने का भूत उतार दें, नहीं तो कर दिये जायेंगे बर्खास्त

कमजोर बच्चों को अलग से पढ़ाई की व्यवस्था कराने का निर्देश

प्रधानाचार्य ने बताया कि दक्ष क्लास में सभी वर्गों से पढ़ाई में कमजोर पांच-पांच बच्चों को लिया गया है. स्कूल के सभी 16 शिक्षक इन बच्चों को पढ़ा रहे हैं. हालांकि डिप्टी डायरेक्टर रवि कुमार ने उनसे सभी वर्गों के कमजोर बच्चों को अलग से पढ़ाई की व्यवस्था कराने का निर्देश दिया. उन्होंने कहा कि एक वर्ग कक्ष में पांच से अधिक बच्चों को भी पढ़ाया जा सकता है. ऐसे बच्चों की संख्या अधिक होने पर दूसरे स्कूल से शिक्षक को बुलाकर पढ़ाने का निर्देश दिया.

स्कूलों में शिक्षक समय से पहले पहुंच गए थे

वहीं अपर मुख्य सचिव के अमरपुर आने की सूचना पर सभी स्कूलों में शिक्षक समय से पूर्व पहुंच गये थे. इस मौके पर डीएम अंशुल कुमार, डीइओ पवन कुमार, सीओ वत्सांक व बीइओ शिवनारायण ठाकुर आदि मौजूद थे. बांका में निरीक्षण के बाद अपर मुख्य सचिव मुंगेर जिला के लिए रवाना हो गये.

Also Read: बिहार शिक्षा विभाग के कर्मियों और शिक्षकों के लिए केके पाठक का नया आदेश, शाम 5 बजे के बाद ही कर सकेंगे ये काम

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें