1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bihar panchayat chunav bjp demands to ec for cancel voter list made in year 2020 before bihar panchayat elections sanjay jaiswal upl

Bihar Panchayat Chunav से पहले BJP की EC से मांग, 2020 में बनी मतदाता सूची रद्द हो, आधार से लिंक हो वोटर लिस्ट

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
डॉ. संजय जायसवाल  के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने  मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी  से मुलाकात की.
डॉ. संजय जायसवाल के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से मुलाकात की.
File

Bihar Panchayat Chunav: बिहार पंचायत चुनाव (Bihar Panchayat Election) से पहले भाजपा (BJP) ने चुनाव आयोग (Election Commission) से वर्ष 2020 में बने मतदाता सूची (Voter List) को अविलंब समाप्त करने की मांग की है. साथ ही कहा है कि 2008 में हुए नये परिसीमन के आधार पर बूथ तय किये जाएं. इस संबंध में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल (Sanjay Jaiswal) के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी एच. आर. श्रीनिवासन से मुलाकात की.

इस दौरान भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने अपनी मांगों को लेकर एक ज्ञापन सौंपा. इसमें भाजपा की तरफ से मांग की गयी कि 2020 में बनी मतदाता सूची को तुरंत समाप्त किया जाये. साथ ही 2008 में बनी नयी परिसीमन के आधार पर बूथ स्तर पर नजरिया नक्शा बनवाया जाये. पुरानी मतदाता सूची को रद्द किया जाये. नजरिया नक्शा बनने के बाद बीएलओ और बीएलए की संयुक्त बैठक बुलायी जाये. इसमें टोला या मोहल्ला तथा घर संख्या अंकित हो. मतदाताओं को उनके घर के पास स्थित मतदान केंद्रों में नाम जोड़े जाये.

मतदाता सूची बनाते समय ही मतदाता का आधार नंबर ले लिया जाये. ताकि आधार से मतदाता सूची लिंक हो सके और एक मतदाता का नाम एक ही विधानसभा में रहे. मतदाता सूची की दोबारा निरीक्षण से पहले सभी राष्ट्रीय मान्यता प्राप्त दल की एक बैठक चुनाव आयोग के साथ की जाये. सभी राष्ट्रीय दलों को विधानसभा एवं बूथ स्तर का नजरिया नक्शा दिया जाये.

इस ज्ञापन में भाजपा ने यह भी मांग की है कि निर्वाचन आयोग प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र में एक पर्यवेक्षक प्रतिनियुक्त कर मतदान केंद्र का चयन अपनी देख-रेख में करे. बूथ के चयन की प्रक्रिया में संबंधित पदाधिकारियों से इस आशय का भी प्रमाण-पत्र देने का निर्देश दिया जाये कि बूथ चयन प्रक्रिया में निर्वाचन आयोग के निर्देश का पूरी तरह से पालन किया गया है. इन निर्देशों का पालन नहीं करने वाले पदाधिकारियों पर सख्त कार्रवाई की जाये.

Posted By: Utpal kant

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें