1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bihar news a man jump in river for suicide after make facebook video on inlaws torture husband wife fight motihari news upl

Bihar News: सास-ससुर के 'गंदे काम' की कहानी वीडियो में बतायी, फेसबुक पर अपलोड किया, फिर युवक ने नदी में कूद की आत्महत्या

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
नदी युवक का तैरता शव देख ग्रामीणों ने सूचना  पुलिस को दी.
नदी युवक का तैरता शव देख ग्रामीणों ने सूचना पुलिस को दी.
Twitter

गुजरात के अहमदाबाद स्थित साबरमती रिवरफ्रंट पर वीडियो बनाने के बाद आत्महत्या करने वाली आयशा की तरह ही एक घटना बिहार में घटी है. पूर्वी चंपारण जिले में ससुराल वालों की प्रताड़ना से आजिज एक युवक ने मधुबनीघाट सिकरहना नदी में कूद आत्महत्या कर ली. उसने आत्महत्या से पहले खुद का वीडियो बना सोशल साइट पर वायरल किया है.

इसमें उसने पत्नी, सास व ससुर सहित ससुराल पक्ष वालों द्वारा शारीरिक व मानसिक रूप से प्रताड़ित करने के कारण आत्महत्या करने की बात कही है. रविवार सुबह नदी किनारे युवक का तैरता शव देख ग्रामीणों ने इसकी सूचना मुफस्सिल पुलिस को दी.थानाध्यक्ष रोहित कुमार ने घटना की छानबीन की. शव की पहचान पकड़ीदयाल के शिवशंकर प्रसाद केशरी के पुत्र संजीव राजा के रूप में हुई है.

परिजनों को इसकी सूचना दी गयी. उसके पिता शिवशंकर प्रसाद केशरी सहित परिवार के सभी सदस्य घटना स्थल पर पहुंचे. संजीव के शव को देख दहाड़ मार रोने लगे. घटना को लेकर उसके पिता ने प्राथमिकी दर्ज करायी है. उन्होंने संजीव की पत्नी रोशनी देवी सहित बंजरिया दारोगा टोला के ससुर महेश प्रसाद केशरी, सास गौरा देवी, साला आकाश प्रसाद केशरी, विकास प्रसाद केशरी, ननद ज्योति कुमारी, प्रियंका देवी के अलावे पकड़ीदयाल के रामनाथ प्रसाद केशरी, प्रभावती देवी व रोशन कुमार को आरोपित किया है. उन्होंने पुलिस को बताया है कि सभी आरोपितों ने संजीव को प्रताड़ित कर आत्महत्या करने के लिए बाध्य किया है.

वैवाहिक जीवन में ससुराल वालों का हस्तक्षेप

संजीव की शादी 2017 में रोशनी देवी के साथ हुई. ढाई साल का एक पुत्र है. शिवशंकर का आरोप है कि शादी के कुछ महीने बाद से ही संजीव के वैवाहिक जीवन में उसके ससुराल वाले हस्तक्षेप करने लगे. हमेशा घर आकर रोशनी को पति के खिलाफ भड़काते. साथ ही संजीव को मारपीट के साथ ताना देते.

आभूषण सहित सारे सामान के साथ रोशनी को लेकर अपने घर चले गये. संजीव उसे विदा कराने गया, तो गलत आरोप लगा महिला थाना में आवेदन दिलवा दिया. किसी तरह मामला शांत हुआ. उसके बाद संजीव को घर छोड़ ससुराल में रहने के लिए बाध्य किया. चार-पांच महीने से संजीव ससुराल में था, जहां उसे बंधक बना मारपीट व प्रताड़ित किया जा रहा था.

Posted By: Utpal Kant

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें