बिहार : मुजफ्फरपुर में पैक्स अध्यक्ष के पुत्र की हत्या, हंगामा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
मुजफ्फरपुर : पारू थाने के नया गोपालपुर गांव निवासी पैक्स अध्यक्ष राजेंद्र राय के पुत्र हरिश्चंद्र की हत्या हो गयी है. उनका शव नया टोला गांव के समीप वैशाली कैनाल नहर में मिला है. पोस्टमार्टम के बाद शव को एसएच 74 पर रख कर ग्रामीणों ने सड़क जाम कर दिया. आक्रोशित ग्रामीण देर रात तक प्रदर्शन करते रहे.
परिजनों ने बताया कि हरीशचंद्र बुधवार की रात नौ बजे करीब दो लोगों के साथ गांव में भोज खाने गये थे. रात तक वापस नहीं लौटे. सुबह में ग्रामीणों ने सूचना दी कि उनका शव नयाटोला गांव वैशाली कैनाल नहर में है. इसकी सूचना पुलिस को भी दी. थानाध्यक्ष जितेंद्र देव दलबल के साथ पहुंचे. पुलिस ने शव को जांच के लिए पीएचसी में भेजा, लेकिन डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. फिर पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच भेज दिया.
पेड़ से लटका मिला पान दुकानदार का शव
मुजफ्फरपुर. अहियापुर के जमालाबाद गांव के पास पान दुकानदार प्रेमलाल साह का शव गुरुवार की सुबह पेड़ से लटका मिला.इसके विरोध में स्थानीय लोगों ने मुजफ्फरपुर-सीतामढ़ी एनएच 77 और शिवहर मार्ग को छह घंटे जाम कर दिया . सैकड़ों की संख्या में लोगों ने एनएच पर टायर जला कर दोनों एनएच को जाम कर नारेबाजी शुरू कर दी. ये लोग हत्यारे की गिरफ्तारी व मुआवजा की मांग कर रहे थे. एनएच 77 व शिवहर मार्ग बंद होने से दोनों मार्ग पर वाहनों की लंबी कतार लग गयी. दोनों एनएच में करीब दस किमी तक वाहनों की कतार थी.
सूचना मिलने पर मौके पर पहुंचे थानाध्यक्ष विजय कुमार ने लोगों को समझाने का प्रयास किया. लोगों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने हत्या की वैज्ञानिक व स्वान दस्ता से जांच करायी. इसके बाद शव को पेड़ से नीचे उतार कर पोस्टमार्टम के लिए एसकेएमसीएच में भेज दिया.
स्वान दस्ते व एफएसएल टीम ने की जांच शव को पेड़ से उतारने से पहले स्वान दस्ते को बुलाया गया. स्वान दल का कुत्ता शव के पास से जमालाबाद गांव की ओर गया, लेकिन वहां कोई सुराग नहीं मिला. इसके बाद पुन: शिवहर मार्ग की ओर गया, लेकिन वहां भी कोई सुराग नहीं मिला. इस दौरान एसएफसीएल टीम भी मौके पर पहुंच गयी. टीम ने पेड़ से लटके शव की मापी की. मौके पर मौजूद चप्पल का नमूना लिया. शव के आसपास अन्य सामान का नमूना लिया. इसके पूर्व शव की फोटोग्राफी हुई. इसके बाद शव पेड़ से उतार कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया.
दुकान से सौ मीटर पूरब पेड़ से लटका था शव
प्रेमलाल का शव लीची के पेड़ से लटका था. पैर जमीन से सटा हुआ था. प्लास्टिक की पट्टी प्रेमलाल के गले में बांध कर उसे पेड़ से लटकाया गया था. प्रेमलाल की पान की दुकान जमालाबाद मोड़ के पास है. वह बुधवार की शाम छह बजे खाना खाकर सो गया था. सुबह आठ बजे उसका पुत्र घर से खाना लेकर आया, तो उसके पिता दुकान में नहीं थे. खोजबीन करने पर प्रेमलाल पेड़ से लटका मिला.मृतक के छोटे भाई ने पुलिस को दर्ज कराया बयान
मृतक के छोटे भाई रंजीत कुमार ने पुलिस को दिये बयान में बताया कि सुबह नौ बजे पता चला कि उसके भाई की हत्या फांसी लगा कर कर दी गयी है. जानकारी मिलने पर वह लीचीगाछी में पहुंचा, जहां उसके भाई प्रेमलाल का शव लीची के पेड़ से लटका मिला. ग्रामीण भी जुट गये थे. उसने अज्ञात अपराधियों द्वारा भाई की हत्या करने की बात बतायी है. पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजन को सौंप दिया.
ग्रामीण थे हत्या से आहत
प्रेमलाल मिलनसार व्यक्ति था. उसका किसी से झगड़ा नहीं था. चौक पर उसकी पान की दुकान थी. कुछ लोगों ने चौक का नाम प्रेमलाल साह चौक रख दिया था. दुकान के साथ एक झोपड़ी भी था. इसमें रात में प्रेमलाल रहता था. शाम छह बजे जब उसका पुत्र रवि कुमार घर से खाना लेकर अाया, तो वह खाना खा कर सो गया. सुबह में पेपर आया, तो रवि पेपर लेकर चला गया. बाद में जब वह खाना लेकर आया, तो पिता झोंपड़ी में नहीं मिले. तरह-तरह की थी हत्या की चर्चा
हत्या के बाद सैकड़ों की संख्या में जुटे ग्रामीणों में तरह-तरह की चर्चा थी. सभी हत्या पर अपने-अपने कयास लगा रहे थे, लेकिन प्रेमलाल की बेदाग छवि के कारण किसी का अनुसंधान आगे नहीं बढ़ रहा था. सबके चेहरे पर हत्या किसने की होगी, यह सवाल था. बगल के दुकानदार को भी सूचना नहीं थी. वहीं प्रेमलाल की झोंपड़ी के बगल में उसके दुकान की कैंची थी. जिससे लोग अनुमान लगा रहे थे कि प्लास्टिक की पट्टी इसी से काटी गयी होगी.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें