1. home Hindi News
  2. religion
  3. makar sankranti 2021 live shubh muhurat puja vidhi timing and get happy makar sankranti wishes image status video and quotes in hindi today rdy

Makar Sankranti 2021 Date, Puja Vidhi, Timings : आज मकर संक्रांति पर करें स्नान-दान, जानें शुभ मुहूर्त और खिचड़ी से जुड़ी पूरी जानकारी... 

By Radheshyam Kushwaha
Updated Date
Makar Sankranti 2021 Puja Vidhi
Makar Sankranti 2021 Puja Vidhi
Prabhat Khabar

Happy Makar Sankranti 2021, Makar Sankranti 2021 Puja Vidhi, Muhurat, Puja Samay Time, Samagri in Hindi : आज मकर संक्रांति का पर्व है. वहीं, आज माघ मेला का पहला स्नान भी है. इस दिन स्नान और दान के लिए विशेष दिन होता है. मान्यता है कि आज गरीबों को दान करने पर सूर्यदेव की कृपा बरसती है. सभी राशियों के स्वामी भगवान सूर्य आज 14 जनवरी दिन गुरुवार की सुबह 08 बजकर12 मिनट पर धनु राशि की यात्रा समाप्त करके अपने पुत्र शनिदेव की राशि मकर में प्रवेश करेंगे. इस राशि पर गोचर करते ही सूर्य उत्तरायण की यात्रा आरम्भ करेंगे. आइए जानते है शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, स्नान-दान करने का शुभ समय और मकर संक्रांति से जुड़ी कुछ महत्वपूण बातें...

email
TwitterFacebookemailemail

आज मकर राशि में है पांच ग्रह एक साथ

इस बार मकर संक्रांति पर मकर राशि में कई महत्वपूर्ण ग्रह एक साथ गोचर करेंगे. इस दिन सूर्य, शनि, गुरु, बुध और चंद्रमा मकर राशि में रहेंगे. जोकि एक शुभ योग का निर्माण करते हैं

email
TwitterFacebookemailemail

मकर संक्रांति पर होता है पुण्य काल का विशेष महत्व

मकर संक्रांति पर पुण्य काल का विशेष महत्व होता है. मान्यता है कि पुण्य काल में पूजा और दान करने से मकर संक्रांति का पूर्ण लाभ मिलता है. मकर संक्रांति आज भगवान सूर्य सुबह 8 बजकर 20 मिनट पर धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेंगे. पंचांग के अनुसार मकर संक्रांति का पुण्यकाल सूर्यास्त तक बना रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दिन क्यों बनाई जाती है खिचड़ी

मान्यता है कि खिलजी के आक्रमण के दौरान नाथ योगियों के पास खाने के लिए कुछ नहीं था. तब बाबा गोरखनाथ ने दाल, चावल और हरी सब्जियों को एक साथ पकाने की सलाह दी थी. इस दिन से खिचड़ी खाने और बनाने का रिवाज चला आ रहा है. खिचड़ी को पौष्टिक आहार के रूप में भी ग्रहण किया जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

क्यों उड़ाते हैं इस दिन पतंग

मान्यता है कि सूर्य के मकर राशि में जाते ही शुभ समय की शुरुआत हो जाती है. इसलिए लोग शुभता की शुरुआत का जश्न पतंग उड़ाकर मनाते हैं. इस दिन आसमान में रंग बिरंगी पतंगे लहराती हुई नजर आती हैं. कई जगहों पर पतंग उड़ाने की प्रतियोगताएं भी आयोजित की जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

सूर्यदेव को इस सामग्री से करें पूजा

सूर्यदेव को जल, लाल फूल, लाल वस्त्र, गेहूं, गुड़, अक्षत, सुपारी और दक्षिणा अर्पित की जाती है. पूजा के उपरांत लोग अपनी इच्छा से दान-दक्षिणा करते हैं. वहीं, इस दिन खिचड़ी का दान करना भी विशेष महत्व रखता है.

email
TwitterFacebookemailemail

37 साल बाद इस योग में स्नान करेंगे श्रद्धालु

दान-पुण्य और स्नान का पर्व मकर संक्रांति है. इस बार मकर संक्राति पर पंचग्रही योग बना है. ज्योतिष के अनुसार यह योग 37 साल बाद बना है. श्रद्धालु 37 साल बाद इस योग में पुण्य की डुबकी लगाएंगे. आज श्रद्धालु घाट किनारे स्नान कर पूजा-अर्चना, अंजलि से ही सूर्य को अर्घ्य देंगे. इसके बाद गंगापुत्र घाटियों के यहां तिलक-चंदन लगवाएंगे और यथाशक्ति दान-दक्षिणा देंगे. वहीं, खिचड़ी के साथ ही पूछ पकड़कर गोदान भी करेंगे. मकर राशि में प्रवेश करने के साथ ही सूर्य देव उत्तरायण हो जाएंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

Makar Sankranti 2021: जानें इस दिन की मान्यता

इस दिन स्नान-दान करने का विशेष महत्व है. इस दिन लाखों श्रद्धालु गंगा और पावन नदियों में स्नान कर दान करते हैं. मकर संक्रांति के दिन भगवान विष्णु ने पृथ्वी लोक पर असुरों का वध कर उनके सिरों को काटकर मंदरा पर्वत पर गाड़ दिया था. तभी से भगवान विष्णु की इस जीत को मकर संक्रांति पर्व के रूप में मनाया जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

आज कब तक रहेगा पुण्य काल

आज भगवान सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश कर गये है. आज पुण्य काल सुबह 8 बजकर 30 मिनट से शाम 5 बजकर 46 मिनट तक रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

आपके राज्य में किस नाम से मनाया जाता है मकर संक्रांति

हर राज्य में मकर संक्रांति के अलग-अलग नाम..

  • हरियाणा, पंजाब व दिल्ली के कुछ स्थानों में लोहड़ी,

  • उत्तराखंड में उत्तरायणी,

  • गुजरात में उत्तरायण,

  • केरल में पोंगल,

  • गढ़वाल में खिचड़ी संक्रांति

  • झारखंड, बिहार, बंगाल में मकर संक्रांति के नाम से प्रसिद्ध है यह त्योहार

email
TwitterFacebookemailemail

Makar Sankranti Shubh Muhurat: मकर संक्रांति का शुभ मुहूर्त (Dan Punya Timing)

पुण्य काल : सुबह- 8 बजकर 3 मिनट 7 सेकेंड से 12 बजकर 30 मिनट तक

महापुण्य काल: सुबह- 8 बजकर 3 मिनट 7 सेकेंड से 8 बजकर 27 मिनट 7 सेकेंड तक

email
TwitterFacebookemailemail

मकर संक्रांति का समय सर्वाधिक पुण्य

मकर राशि में सूर्य के प्रवेश को देवताओं के दिन का प्रातः काल माना गया है. इसीलिए वर्ष की सभी संक्रांतियों में मकर संक्रांति का समय सर्वाधिक पुण्य फल दायक होता है. इस दिन किया गया स्नान, जप-तप, पूजा-पाठ, दान पुण्य का फल अक्षुण रहता है. दिन का आरम्भ स्नान ध्यान और दान के साथ करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

आज न भूलें ये काम

मकर संक्रांति का पुण्यकाल सुबह 7 बजकर 24 मिनट से शुरू हो चुका है. यह मुहूर्त सूर्यास्त तक बना रहेगा. ऐसे में इस बीच स्नान से लेकर पूजा-पाठ तक का निपटा ले काम और आज दान करना न भूलें. कहा जाता है कि इसका विशेष महत्व है. इससे बरकत होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

तिल के दान का खास महत्व

मकर संक्रांति पर तिल के दान का खास महत्व होता है. इस दिन ब्राह्माणों को तिल से बनी चीजों का दान करना सबसे अधिक पुण्यकारी माना जाता है. वहीं, इस दिन भगवान विष्‍णु, सूर्य और शनिदेव की भी तिल से पूजा की जाती है. मान्यता है कि शनि देवता ने अपने क्रोधित पिता सूर्य देव की पूजा काले तिल से ही की थी, जिससे सूर्य देव प्रसन्‍न हो गए थे.

email
TwitterFacebookemailemail

आज स्नान और दान का होता है विशेष महत्व

मकर संक्रांति के दिन स्नान और दान-पुण्य जैसे कार्यों का विशेष महत्व होता है. इस दिन किया गया दान अक्षय फलदायी होता है. इस दिन शनि देव के लिए प्रकाश का दान करना भी बहुत शुभ होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इन चीजों से भोग लगाने की है मान्यता

मकर संक्रांति पर तिल और गुड़ से बने लड्डू और अन्य मीठे पकवान बनाने की परंपरा है. इन सभी पकवान से ही भोग लगाया जाता है और दान किया जाता है. यह भी कहा जाता है कि इस समय मौसम में काफी सर्दी होती है, तो तिल और गुड़ से बने लड्डू खाने से स्वास्थ्य ठीक रहता है.

email
TwitterFacebookemailemail

मकर संक्रांति पर इन चीजों का दान करने का महत्व

आज मकर संक्रांति है. इस दिन स्नान- दान का विशेष महत्व है. इस दिन पुण्य काल में स्नान के बाद सूर्य उपासना, जप, अनुष्ठान, दान-दक्षिणा दी जाती है. इस दिन गुड़, काले तिल, खिचड़ी, कंबल और लकड़ी का दान करने की मान्यता है.

email
TwitterFacebookemailemail

मकर संक्राति पर 5 ग्रह होंगे एक साथ, बन रहा है विशेष योग

इस बार मकर संक्रांति पर मकर राशि में कई महत्वपूर्ण ग्रह एक साथ गोचर करेंगे. इस दिन सूर्य, शनि, गुरु, बुध और चंद्रमा मकर राशि में रहेंगे. जोकि एक शुभ योग का निर्माण करते हैं

email
TwitterFacebookemailemail

स्नान-दान करने का शुभ मुहूर्त

आज मकर संक्रांति है. इस दिन सूर्य देव सुबह 8 बजकर 30 मिनट यानी साढ़े 8 बजे धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करेंगे. इसी के साथ मकर संक्रांति की शुरुआत हो जाएगी. आज सुबह से लेकर शाम 5 बजकर 46 मिनट तक रहेगा पुण्य काल का समय रहेगा. हालांकि, महापुण्य काल प्रात: काल में ही रहेगा. माना जाता है कि पुण्य काल में स्नान-दान करने से अक्षय फल की प्राप्ति होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

पूजा विधि

इस दिन भगवान सूर्य मकर राशि में प्रवेश करते है, इसके साथ ही सूर्यदेव उत्तरायण होते हैं. मान्यता है कि इस दिन से देवताओं के दिन शुरू हो जाते हैं. इसलिए आज का दिन बेहद खास माना जाता है. सूर्यदेव को जल, लाल फूल, लाल वस्त्र, गेहूं, गुड़, अक्षत, सुपारी और दक्षिणा अर्पित की जाती है. पूजा के उपरांत लोग अपनी इच्छा से दान-दक्षिणा करते हैं. वहीं, इस दिन खिचड़ी का दान भी विशेष महत्व रखता है.

email
TwitterFacebookemailemail

Posted by: Radheshyam Kushwaha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें