Advertisement

Delhi

  • Dec 7 2018 5:38PM

आपस में ही भिड़ गये शिविंदर और मालविंदर, हाथापाई के बाद शिविंदर ने कहा कि अब नहीं निभेगा साथ

आपस में ही भिड़ गये शिविंदर और मालविंदर, हाथापाई के बाद शिविंदर ने कहा कि अब नहीं निभेगा साथ
मालविंदर सिंह और शिविंदर सिंह की फाइल फोटो.

नयी दिल्ली : फोर्टिस एवं रेनबैक्सी के पूर्व प्रवर्तक सिंह बंधु मालविंदर और शिविंदर के बीच का विवाद अब आपसी भिड़ंत तक पहुंच गया है. कंपनी की एक बैठक के दौरान दोनों भाइयों के बीच विवाद इतना अधिक बढ़ गया कि दोनों ने आपस में हाथापाई तक कर ली. घटना के बाद छोटे भाई शिविंदर सिंह ने कहा कि इसके बाद अब उनका बड़े भाई के साथ मिलकर चलने सभी संभावित रास्ते बंद हो गये हैं.

इसे भी पढ़ें : छोटे भाई शिविंदर की याचिका पर मालविंदर को NCLT से लगा करारा झटका, जानिये क्यों...?

सोशल मीडिया पर पोस्ट किये गये एक वीडियो में मालविंदर सिंह को यह कहते हुए देखा जा सकता है कि आज पांच दिसंबर, 2018 है और शाम के छह बजकर कुछ मिनट हुए हैं. शिविंदर मोहन ने 55 हनुमान रोड पर मुझ पर हमला किया. उन्होंने मेरी पिटाई की. उन्होंने अपने दाहिने बांह पर खरोंच के निशान को दिखाते हुए कहा है कि उसने मुझे यहां खरोंच दिया. उसने यह बटन तोड़ दिया और यहां खरोचा. वह मुझे लगातार धमकाता रहा और जब तक यहां मौजूद टीम ने उसे मुझसे अलग नहीं किया, वह यहां से नहीं गया.

संपर्क किये जाने पर मालविंदर ने किसी प्रकार की टिप्पणी करने से इनकार कर दिया. वहीं, उनके छोटे भाई शिविंदर ने संदेशों का जवाब नहीं दिया. यह कथित घटना बुधवार की है. कहा जा रहा है कि शिविंदर सिंह ने कारोबारी समूह की एक कंपनी प्रीयस रीयल एस्टेट के निदेशक मंडल की बैठक को बाधित करने की कोशिश की. मालविंदर का दावा है कंपनी ने गुरिंदर सिंह ढिल्लो और उनके परिवार की स्वामित्व वाली कंपनियों को 2,000 करोड़ रुपया का कर्ज दे रखा है.

मालविंदर ने कहा कि ढिल्लो समूह से रुपये की वसूली पर निर्णय के लिए निदेशक मंडल की बैठक बुलायी गयी थी. शिविंदर ने एक बयान में कहा कि यह मेरी निष्ठा को संदेहास्पद बनाने की एक झूठी बात और घिनौनी कोशिश है. उन्होंने कहा है कि अब कुछ समय से मेरे लिए यह साफ हो चुका है कि मालविंदर और मैं साथ साथ नहीं चल सकते. शिंविंदर ने अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि पांच दिसंबर को वह कंपनी की आमसभा की बैठक के लिए हम अपनी कंपनी के कार्यालय में गये थे. वहां पहुंचने पर ‘ मुझे यह जानकर चिंता हुई कि बोर्ड के दूसरे सदस्य मालविंदर की धौंस पट्टी के कारण एक निदेशक बैठक से उठ कर चले गये थे.

उन्होंने आरोप लगाया कि ऐसा लग रहा था कि मालविंदर कुछ कर्मचारियों को भी डरा रहे थे और उन्हें दबाव में डालकर उनके बयान की वीडियो रिकॉर्डिंग कराने का प्रयास कर रहे थे. मैं स्थिति को समझने के लिए कमरे में धुसा तो वह (मालविंदर) मेरे ऊपर भड़क उठे और मुझे जबरदस्ती दीवार पर ठकेल दिया और मेरी सांस रुकने लगी. शिविंदर ने कहा है कि उन्होंने इस मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज करायी है, लेकिन बाद में परिवार वालों के कहने पर उसे वापस ले लिया.

मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक, शिविंदर ने मालविंदर के दावों को झूठा और मनगढ़ंत करार दिया. उन्होंने कहा कि मालविंदर ने उन पर हमला किया. फोर्टिस हेल्थकेयर के फंड में हेरफेर के आरोपों के बाद सिंह भाइयों के बीच संबंध खराब हो गये थे.

Advertisement

Comments

Advertisement