1. home Hindi News
  2. national
  3. fact check vacancy in south western railway know the truth of viral letter here mtj

Fact Check|दक्षिण-पश्चिम रेलवे में निकली है भर्ती, सोशल मीडिया में वायरल लेटर का क्या है सच, यहां जानें

Sarkari Naukri|Fact Check|रेल मंत्रालय के हवाले से इस चिट्ठी में कहा गया है कि टेक्निकल और नॉन-टेक्निकल स्टाफ, जिनकी हायरिंग की गयी है, उन्हें उन पदों पर नियुक्त किया जायेगा, जहां से लोग रिटायर होंगे. साथ ही रिक्त पड़े पदों पर भी उनकी नियुक्ति की जायेगी.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Viral Fake Letter
Viral Fake Letter
Social Media

Sarkari Naukri|Fact Check|दक्षिण-पश्चिम रेलवे (South Western Railway) का एक सर्कुलर सोशल मीडिया में वायरल है. इसमें बताया गया है कि लोगों को नौकरी दी जायेगी. रेल मंत्रालय (Railway Ministry) के हवाले से इस चिट्ठी में कहा गया है कि टेक्निकल और नॉन-टेक्निकल स्टाफ, जिनकी हायरिंग की गयी है, उन्हें उन पदों पर नियुक्त किया जायेगा, जहां से लोग रिटायर होंगे. साथ ही रिक्त पड़े पदों पर भी उनकी नियुक्ति की जायेगी.

31 मार्च 2022 की चिट्ठी

इस पत्र में कहा गया है कि इस नियुक्ति से जुड़े अधिकारी इस जानकारी को सार्वजनिक नहीं करेंगे. 31 मार्च 2022 को जारी इस चिट्ठी में और भी कई बातें लिखी गयी है. इस चिट्ठी को देखने के बाद सरकारी नौकरी की इच्छा रखने वाले युवा इसके बारे में पूरी जानकारी जुटाने में लग गये हैं. ऐसे युवाओं के लिए दक्षिण-पश्चिम रेलवे ने ट्विटर पर एक जानकारी साझा की है.

फेक है यह लेटर

अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से दक्षिण-पश्चिम रेलवे ने सोशल मीडिया में वायरल हो रही इस चिट्ठी को ‘फेक’ (FAKE) करार दिया है. दक्षिण-पश्चिम रेलवे ने कहा है कि रेलवे में नियुक्ति से संबधित एक फेक लेटर कुछ गलत तत्वों के द्वारा सोशल मीडिया में चलाया गया है. रेलवे में नौकरी की इच्छा रखने वाले सभी लोगों को सावधान किया जाता है कि वे किसी फ्रॉड के चक्कर में न पड़ें.

रेलवे की वेबसाइट पर लें जानकारी

इतना ही नहीं, दक्षिण-पश्चिम रेलवे ने कहा है कि अगर आप रेलवे की नौकरी के बारे में जानकारी चाहते हैं, तो आप रेलवे रिक्रूटमेंट बोर्ड (RRB) की आधिकारिक वेबसाइट https://rrbbnc.gov.in पर जायें और सारी आधिकारिक जानकारी एकत्र करें. सोशल मीडिया में जारी किसी भी सूचना पर भरोसा न करें. अगर कोई लिंक एप्लीकेशन के लिए दिया जाता है, तो उसे क्लिक करने से बचें. पीआईबी ने भी इसका फैक्ट चेक किया और लेटर को फर्जी बताया है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें