1. home Hindi News
  2. national
  3. aimim chief asaduddin owaisi reacts on statement of rss chief mohan bhagwat mtj

ज्ञानवापी मामले पर मोहन भागवत के बयान पर AIMIM चीफ ओवैसी ने कही ये बात

ज्ञानवापी मामले पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत के बयान पर एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कोर्ट से अपील की है कि इन विवादों को हमेशा के लिए शांत कर दिया जाये. उन्होंने कई ट्वीट किये. विस्तार से यहां पढ़ें...

By Agency
Updated Date
Gyanvapi Dispute: भागवत पर बरसे ओवैसी
Gyanvapi Dispute: भागवत पर बरसे ओवैसी
Prabhat Khabar Graphics

हैदराबाद: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (AIMIM) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) सुप्रीम कोर्ट का ‘अनादर’ करते हुए बाबरी मस्जिद विध्वंस में शामिल हुआ. बाद में कार्रवाई का बचाव करते हुए कहा ‘ऐतिहासिक कारणों’ के चलते यह आवश्यक था. उन्होंने पूछा कि क्या संघ ज्ञानवापी मामले में भी यही तरीका अपनाएगा?

ज्ञानवापी विवाद में हैं आस्था से जुड़े कुछ मुद्दे

हैदराबाद से सांसद ओवैसी ने आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के बृहस्पतिवार के भाषण पर प्रक्रिया देते हुए कई ट्वीट किये, जिसमें भागवत ने कहा था कि ज्ञानवापी विवाद में आस्था से जुड़े कुछ मुद्दे शामिल हैं. इस पर अदालत के फैसले को सभी मानें.

ओवैसी ने भागवत के भाषण को बताया भड़काऊ

ओवैसी ट्वीट किया, ‘ज्ञानवापी को लेकर भागवत के भड़काऊ भाषण को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए. उन्होंने कहा था कि बाबरी के लिए आंदोलन ‘ऐतिहासिक कारणों से’ आवश्यक था. दूसरे शब्दों में, आरएसएस ने सुप्रीम कोर्ट का सम्मान नहीं किया और मस्जिद के विध्वंस में भाग लिया. क्या इसका मतलब यह है कि वे ज्ञानवापी पर भी कुछ ऐसा ही करेंगे?’

जबरन धर्मांतरण एक झूठ है: असदुद्दीन ओवैसी

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि जबरन धर्मांतरण एक झूठ है और भागवत व उनके जैसे लोग यह स्वीकार नहीं कर सकते कि आधुनिक भारत में पैदा हुए लोग भारतीय नागरिक हैं. भागवत ने कहा था कि यह अप्रासंगिक है कि उनके पूर्वज कहां से आये, या वे कौन थे या उन्होंने क्या किया. ओवैसी ने कहा कि भले ही आज के मुसलमानों के पूर्वज हिंदू थे, लेकिन वे संविधान के आधार पर भारत के नागरिक हैं.

विवादों को जड़ से खत्म करे कोर्ट: ओवैसी

उन्होंने पूछा कि यदि कोई यह कहने लगे कि भागवत के पूर्वजों का जबरन बौद्ध धर्म से धर्मांतरण कराया गया था, तो क्या होगा? ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘अदालतों को चाहिए कि वे इसे जड़ से खत्म कर दें. अगर इन चीजों को बढ़ने दिया जाता है, तो हम भीड़ को उत्साहित करने के लिए सब कुछ करेंगे. मोहन कहते हैं कि इस्लाम आक्रमणकारियों के साथ आया था. वास्तव में, यह मुस्लिम व्यापारियों, विद्वानों और संतों के माध्यम से आया था, मुस्लिम आक्रमणकारियों के भारत आने से भी बहुत पहले.’

Prabhat Khabar App :

देश-दुनिया, बॉलीवुड न्यूज, बिजनेस अपडेट, मोबाइल, गैजेट, क्रिकेट की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

googleplayiosstore
Follow us on Social Media
  • Facebookicon
  • Twitter
  • Instgram
  • youtube

संबंधित खबरें

Share Via :
Published Date

अन्य खबरें