1. home Hindi News
  2. life and style
  3. ranchis raunak is identifying the flavors of ranchi know about the first food blogger of jharkhand sry

रांची के जायकों की पहचान करवा रहे हैं रांची के रौनक,जानें झारखंड के पहले फूड ब्लॉगर के बारे में

आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे ही एक फूड ब्लॉगर के बारे में जिनका नाम झारखंड के पहले फूड ब्लॉगर के तौर पर लिया जाता है. हम बात कर रहे हैं रौनक किशोर सहाय के बारे में

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
झारखंड के पहले फूड ब्लॉगर रौनक किशोर सहाय
झारखंड के पहले फूड ब्लॉगर रौनक किशोर सहाय
Prabhat Khabar Graphics

खाने का शौक रखने वालों के लिए आज कल फूड ब्लॉगिंग एक नया ट्रेंड बन गया है. ट्रैवल करके एक जगह से दूसरी जगह पर जाकर रेस्टोरेंट और फूड स्टॉल्स की जानकारी इन ब्लॉगर्स के जरिए मिल जाती है. यू ट्यूब और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आप कई ऐसे फूड ब्लॉगर को देखेंगे जो खाने के बारे में दिलचस्प तरीके से सही जानकारी देते हैं. आज हम आपको बताने जा रहे हैं ऐसे ही एक फूड ब्लॉगर के बारे में जिनका नाम झारखंड के पहले फूड ब्लॉगर के तौर पर लिया जाता है. हम बात कर रहे हैं रौनक किशोर सहाय के बारे में

प्रश्न 1- रांची के जायके को लोगों तक पहुंचाने को कैसे सोचा ?

उत्तर मैंने दूसरे शहरों का खाना खाया है, दिल्ली, मुंबई जैसे शहरों के जैसा ही हमारे रांची का खाना भी काफी अच्छा है. इसलिए मैनें सोचा कि अपने शहर के जायके की खुशबू को लोगों तक पहुंचाया जाए. रांची की बात आती है तो लोग धौनी और वॉटरफॉल्स के बारे में जानते हैं, मैने सोचा खाने के बारे में भी लोगों को जानकारी दी जाए.

प्रश्न 2- आपके फूड चैनल की शुरुआत कैसे हुई

साल 2017 के 20 नवंबर महीने में मैंने अपने फूड ब्लॉगिंग चैनल की शुरुआत की थी. मैंने अपना पोस्ट लिट्टी चोखा पर किया था. अब लोग मुझे फूड रांची के तौर पर लोग जानने लगे हैं.

प्रश्न 3- कोरोना के इस दौर में खाने पीने के तरीके में आए बदलाव को आप कैसे देखते हैं ?

उत्तर 3- कोरोना एरा में खाने के तरीके में काफी बदलाव हुए हैं, लोग रेस्टोरेंट के बदले ऑनलाइन फूड ऑर्डर कर रहे हैं, लेकिन हां रेस्टोरेंट और होटल्स में खाने का क्रेज कम नहीं हुआ है. साथ ही क्लाउड किचन का ट्रेंड देखने को मिल रहा है. क्लाउड किचन एक ऐसा किचन है जहां खाना तैयार किया जाता है और डिलीवरी और टेकअवे के लिए उपलब्ध होता है. क्लाउड किचन और रेस्टोरेंट में बस इतना ही अंतर है कि क्लाउड किचन में लोगों के बैठने और खाने का विकल्प नहीं होता है. जारी कोरोना महामारी की लहरों के साथ घर पर रहना और ऑर्डर देना नया दौर बन गया है. इसलिए यह लागत और सुरक्षा के मामले में काफी बेहतर बिजनेस बनता जा रहा है.

प्रश्न 4- फूड ब्लॉगिंग के अलावा और क्या क्या शौक आप रखते हैं ?

उत्तर 4- मुझे ट्रैवेलिंग का काफी शौक है, नई नई जगहों पर घूमना पसंद है.

प्रश्न 5- अपने बारे में कुछ बताएं, आपने पढ़ाई कहां से की है ?

उत्तर 5-मैंने डीपीएस रांची से अपनी स्कूलिंग पूरी की, इसके बाद मैंने एमईटी नोएडा से एमबीए की पढ़ाई पूरी की, फिर मैं सिंगापुर चला गया. चार साल पहले सिंगापुर से लौटा हूं. एक एनजीओ से भी मैं जुड़ा हूं.

प्रश्न 6- आने वाले दिनों में फूड ब्लॉगिंग को लेकर क्या क्या प्लानिंग है ?

उत्तर 6-आने वाले दिनों में फूड ब्लॉगिंग जारी रखूंगा, नई नई जगहों के फूड्स का टेस्ट करवाउंगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें