1. home Hindi News
  2. health
  3. world hepatitis day 2020 vaccine protects us from which disease hepatitis a b c d e precautions treatment symptoms transmitted by liver disease latest health news

World Hepatitis Day 2020 : हेपेटाइटिस वैक्सीन हमें किस रोग से बचाती है ? जानिए क्या है सच्चाई और क्या बरतें सावधानियां

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
World Hepatitis Day 2020, hepatitis A B C D E, Symptoms, treatment, vaccine, Liver disease
World Hepatitis Day 2020, hepatitis A B C D E, Symptoms, treatment, vaccine, Liver disease
Prabhat Khabar

World Hepatitis Day 2020, hepatitis A B C D E, Symptoms, Prevention, treatment, vaccine, Liver disease : वैक्सीन (Vaccine) उपलब्ध होने के बावजूद हेपेटाइटिस बी (Hepatitis B) से हर साल लाखों लोगों की मौत हो रही है. इसका मुख्य कारण है लोगों में इसके प्रति जागरूकता की कमी होना. सामान्य लक्षणों (hepatitis symptoms) के साथ शुरू होने वाली इस घातक बीमारी (dangerous diseases) को वक्त रहते समाप्त किया जाता है. हेपेटाइटिस बी की वैक्सीन (hepatitis b vaccine dose) करीब 95 प्रतिशत तक इस रोग को कम करने में कारगार है. डर इस बात का है कि कोरोना (Corona) काल में कहीं हेपेटाइटिस ((hepatitis) से मरने वालों का आंकड़ा न बढ़ जाए.

कोरोना महामारी के दौरान क्या रखें ख्याल

दरअसल, कोरोना महामारी के दौरान जरूरी स्वास्थ्य सेवाएं बाधित हुई है. और उपलब्ध भी हैं तो लोग वेबजह अस्पताल जाने की नहीं सोच रहे. ऐसे व्यक्तियों को विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है क्योंकि इसके वैक्सीन को नजरअंदाज करना आपके सेहत पर बुरा प्रभाव डाल सकता है.

क्या है हेपेटाइटिस (what is hapatitis) 

हेपेटाइटिस बीमारी किसी वायरस के संक्रमण से होती है. यह वायरस ज्यादा शराब पीने या दवा खाने के कारण हो सकती है. गर्मी व मानसून में इसके ज्यादा रोगी पाये जाते है. विशेषज्ञों की मानें तो इस दौरान जीवाणु ज्यादा सक्रिय होते है. इसका सीधा असर लीवर पर पड़ता है. परिणामस्वरूप लीवर में संक्रमण, सूजन, ठीक से काम नहीं करना आदि की समस्याएं देखी जाती है. यह वायरस धीरे-धीरे लिवर सेल्स को भी डैमेज कर देता है जिससे लिवर कैंसर का खतरा भी बढ़ सकता है. शरीर में मैजूद रक्त के जरिए पूरे शरीर में फैल जाता है. ऐसे में हेपेटाइटिस की वैक्सीन हमें लीवर के रोगों से बचाने में कारगार है. अत: इसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए.

लीवर के वायरल संक्रमण को हेपेटाइटिस के रूप में वर्गीकृत किया गया है. यह मुख्य तौर पर पांच प्रकार के हो सकते है. जिनमें हेपेटाइटिस ए, बी, सी, डी और ई शामिल हैं.

हेपेटाइटिस ए (hepatitis a)

यह बीमारी हेपेटाइटिस ए वायरस (एचएवी) के कारण होता है. इसे अल्पकालिक (एक्यूट/प्रारंभिक) संक्रमण भी कहा जा सकता है क्योंकि, इसके लक्षण ज्यादा-से-ज्यादा तीन महीने में समाप्त हो जाते हैं. आमतौर पर यह रोग ऐसे इलाकों में पाया जाता है, जहां स्वच्छता और मल निष्कासन का प्रबंध सही नहीं होता है. यह रोग दूषित भोजन या पानी के सेवन से हो सकता है. इसका कोई घरेलू या अन्य उपचार नहीं है. ऐसे में इसका सही ईलाज अस्पताल से ही करवाना चाहिए.

हेपेटाइटिस बी (hepatitis b)

हेपेटाइटिस बी वायरस के कारण होने वाला यह रोग बाकि के मुकाबले ज्यादा खतरनाक है. आमतौर पर यह रक्तस्त्राव और असुरक्षित संबंध बनाने से हो सकता है. यही नहीं यह सुइयों के दोबारा इस्तेमाल से भी हो सकता है. इस रोग में लंबे समय तक संक्रमण का विकास मरीज के शरीर में हो सकता है. इसे क्रोनिक हेपेटाइटिस बी के रूप में भी जाना जाता है. यह केवल भारत ही नहीं वैश्विक रूप में पाया जाता है. विशेषज्ञों की मानें तो इससे उबरने में दो महीने से ज्यादा समय लग सकता है. इस दौरान मरीजों की लाइफ काफी कष्टदायक हो जाती है. हालांकि, हेपेटाइटिस बी का वैक्सीन अब उपलब्ध है.

हेपेटाइटस सी (hepatitis c)

हेपेटाइटिस सी एचसीवी वायरस से होता है. यह आमतौर पर हेपेटाइटिस सी संक्रमित शरीर के तरल पदार्थ के साथ सीधे संपर्क में आने से होता है. इसके अलावा इंजेक्शन, दवा के अधिक उपयोग और यौन संपर्क के माध्यम से भी होता है.

हेपेटाइटिस डी (hepatitis d)

इसे डेल्टा हेपेटाइटिस भी कहा जाता है. हेपेटाइटिस डी हेपेटाइटिस डी वायरस (एचडीवी) के कारण होने वाला एक गंभीर लीवर संबंधी रोग है. HDV संक्रमित रक्त के साथ सीधे संपर्क से होता है.

हेपेटाइटिस ई (Hepatitis E)

हेपेटाइटिस ई हेपेटाइटिस ई वायरस (HEV) के कारण होने वाला एक जलजनित रोग है. हेपेटाइटिस ई मुख्य रूप से अस्वच्छता वाले क्षेत्रों में पाया जाता है और आम तौर पर दूषित जल या भोजन के सेवन से हो सकता है.

हेपेटाइटिस के लक्षण (hepatitis symptoms)

- भूख कम लगना,

- शरीर में भारीपन,

- बैचेनी महसूस करना,

- हल्का बुखार आना,

- लीवर में दाई तरफ हल्का दर्द देना,

- उल्टी होना,

- एक सप्ताह बाद पेशाब में पीलापन और

- आंखों का भी पीला होना

हेपेटाइटिस कितना खतरनाक (hepatitis a b c d e)

आपको बता दें कि जिन मरीजों में हेपेटाइटिस ए, ई होता है वह ज्यादा-से-ज्यादा एक महीने में दवा देने से स्वस्थ हो जाते है. लेकिन, बी, सी, डी का पता काफी लेट से चलता है. तब तक यह लीवर को डैमेज कर चुका होता है. लीवर सिरोस बीमारी में यह बदल चुका होता है.

बचाव के उपाय (hepatitis treatment)

- खानेपीने की चीजों को साफ-सुथरा और ढक कर रखें,

- कोशिश करें की पानी उबालकर पिएं,

- आरओ, डिस्टल वाटर का प्रयोग भी कर सकते हैं,

- मार्केट में बेची जा रही खुली चीजें जिन पर मक्खी, बैठ सकती हो उनका सेवन से बचें,

- किसी के इस्तेमाल की हुई सुई को दोबारा इस्तेमाल न करें

- रेजर भी अपना इस्तेमाल करें

Posted By : Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें