1. home Hindi News
  2. business
  3. post office savings bank will linked to other banks of the country by april 2021 more than 50 crore customers will get benefit vwt

अप्रैल तक देश के दूसरे बैंकों के साथ जुड़ जाएगा डाकघर बचत बैंक, लाखों ग्राहकों को होगा फायदा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
भारतीय डाक विभाग का डिजिटाइजेशन पर जोर.
भारतीय डाक विभाग का डिजिटाइजेशन पर जोर.
फाइल फोटो.

Post Office Savings Bank : डाकघर बचत बैंक (POSB) का इस्तेमाल करने वाले ग्राहकों के लिए एक खुशखबरी है. देश के करीब 1.56 लाख डाकघरों (Post Office) के जरिए ग्राहकों को सेवाएं उपलब्ध कराने वाले डाकघर बचत बैंक (Post Office Savings Bank) इस साल के अप्रैल महीने तक दूसरे बैंकों के खातों से सीधे जुड़ जाएगा. डाकघर बचत बैंक का देश के दूसरे बैंकों के साथ जुड़ जाने के बाद देश के करीब 50 करोड़ ग्राहकों को फायदा होने की उम्मीद जाहिर की जा रही है.

भारतीय डाक विभाग (Indian Postal Department) को इस बात की उम्मीद है कि डाकघर बचत बैंक को दूसरे बैंक खातों के साथ अप्रैल तक जोड़ दिया जाएगा और 2021 में सभी सेवाओं के डिजिटलीकरण (Digitization) को बढ़ाने पर ध्यान दिया जाएगा.

डाक विभाग के सचिव (Secretary of postal department) प्रदीप्ता कुमार बिसोई ने कहा कि डाक विभाग ने लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान जब रेल (Rail), सड़क (Raod) और हवाई यातायात (Air Traffic) बंद थे, जरूरी सामानों को पहुंचाने में मुस्तैदी के साथ काम किया. साथ ही, यह अपनी क्षमता बढ़ाने पर निरंतर काम कर रहा है, क्योंकि अब तक ट्रेनों का परिचालन पूरी क्षमता के अनुसार नहीं हुआ है.

उन्होंने कहा कि हम नए साल में सेवाओं के डिजिटलीकरण को बढ़ाने और घरों तक सेवाएं (Postal Services) पहुंचाने पर जोर देंगे. हमारी बैंकिंग और वित्तीय सेवाएं (Banking and financial services) पहले से डिजिटलीकृत हैं. हम डाक घर बचत बैंकों को भी अप्रैल तक अन्य बैंकों के खातों से सीधे जोड़ने की उम्मीद कर रहे हैं. डाक घर कोर बैंकिंग समाधान (CBS) प्रणाली दुनिया में सबसे बड़ी है. 23,483 डाक घर पहले से नेटवर्क से जुड़े हैं.

भारतीय डाक 50 करोड़ से अधिक डाक घर बचत बैंक (POSB) ग्राहकों को देश भर में 1.56 लाख डाकघरों के जरिये सेवाएं दे रहा हैं. बिसोई ने कहा कि सेवाओं के डिजिटलीकरण के अलावा हम लोगों को घरों तक सेवाएं पहुंचाने पर ध्यान दे रहे हैं. इस साल हमने 85 लाख लेन-देन के जरिये 900 करोड़ रुपये भेजे और 3 लाख पेंशनभोगियों का सत्यापन उनके घर जाकर किया गया.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें