1. home Hindi News
  2. religion
  3. dhanteras 2020 kab hai date time muhurat puja vidhi rashi ke anusar kya khareede confuse about dhanteras date know here the right date and auspicious time to shop rdy

Diwali 2020 Date, Laxmi Puja shubh Muhurat : मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए शुभ मुहूर्त में इस तरह करें दिवाली की पूजा

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Dhanteras 2020 Date: धनतेरस का पर्व कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है.
Dhanteras 2020 Date: धनतेरस का पर्व कार्तिक मास की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है.
Prabhat Khabar

Deepawali 2020 Date: 14 नवंबर 2020 को कार्तिक मास की अमावस्या के दिन दीपावली देशभर में मनाया जा रहा है. हिन्‍दू पंचांग के अनुसार दिवाली के दिन शुभ मुहूर्त में ही लक्ष्मी और गणेश की पूजा करने से सर्वसिद्धि की प्राप्ति होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर जरूर खरीदे झाड़ू

धनतेरस के दिन झाड़ू जरूर खरीदें. झाड़ू को माता लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है. इससे दरिद्रता का नाश होता है. मान्यता है कि धनतेरस के दिन झाड़ू खरीदने पर घर में सकारात्मकता का संचार ​होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

दिवाली की तिथि और शुभ मुहूर्त

दिवाली/लक्ष्‍मी पूजन की तिथि: 14 नवंबर 2020

अमावस्‍या तिथि प्रारंभ: 14 नवंबर 2020 को दोपहर 02 बजकर 17 मिनट से

अमावस्‍या तिथि समाप्‍त: 15 नवंबर 2020 को सुबह 10 बजकर 36 मिनट तक

लक्ष्‍मी पूजा मुहुर्त: 14 नवंबर 2020 को शाम 05 बजकर 28 मिनट से शाम 07 बजकर 24 मिनट तक

कुल अवधि: 01 घंटे 56 मिनट

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पूजा सामग्री

- लक्ष्मी-गणेश जी के चांदी के सिक्के

- 5 सुपारी

- मां लक्ष्मी को अर्पित करने के लिए 21 कमलगट्टे

- प्रसाद के लिए पीले और सफेद रंग की मिठाई

- 5 पान के पत्ते, कटे-फटे न हो

- लौंग

- कपूर

- रोली और अक्षत

- फूल-माला

- फलों में शरीफा सबसे उत्तम रहता है

- नारियल और मां लक्ष्मी को अर्पित करने के लिए गंगा जल

- कुछ पैसों के सिक्के

- धूप-दीप

- चंदन, हल्दी, शहद इत्यादि.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर कुबेर को प्रसन्न करने के लिए करें ये काम

धनतेरस के दिन मां लक्ष्मी और भगवान कुबेर को प्रसन्न करने के लिए पूजन के बाद रात को 21 चावल के दाने लाल कपड़े में बांधकर तिजोरी या पैसे रखने वाली जगह पर रखना चाहिए. कहते हैं कि ऐसा करने से समृद्धि आती है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस मुहूर्त में खरीदें सोना

धनतेरस के दिन सोना खरीदने का शुभ मुहूर्त होता है. इस साल आप धनतेरस के दिन सुबह 06:42 बजे से शाम के 05:59 बजे तक सोना खरीद सकते है. इस बार सोना खरीदने के लिए कुल 11 घंटे 16 मिनट का समय है. इस समय पर सोना खरीदने से पूरे साल घर में शुभ कार्य संपन्न होते हैं. साथ ही घर में सुख-शांति और समृद्धि भी आती है.

email
TwitterFacebookemailemail

यमराज के लिए दीपक

धनतेरस के दिन अकाल मृत्यु से बचने के लिए प्रदोष काल में घर के बाहर यमराज के नाम एक दिया जलाया जाता है, जिसे 'यम दीप' या यम का दीपक भी कहते हैं. लोगों में ऐसी मान्यता है कि इससे यमराज प्रसन्न होते हैं और वे उस परिवार के सदस्यों की अकाल मृत्यु से रक्षा करते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दिन दीपक जलाना है खास

धनतेरस के दिन दीपक जलाने का खास तरीका है. यदि आपके घर का मुख्य द्वार पश्चिम दिशा की तरफ है तो आपको तिल के तेल का दीपक जलाना चाहिए. साथ ही इस दीपक में काली किशमिश जरूर डालें.

email
TwitterFacebookemailemail

धनत्रयोदशी से दीपोत्सव पर्व का प्रारंभ

धनत्रयोदशी (धनतेरस) से दीपोत्सव पर्व का प्रारंभ होता है. दिवाली पूजा हेतु लक्ष्मी-गणेश, खील-बतासे आदि इसी दिन खरीदे जाते हैं. कार, दोपहिया, सोने-चांदी के सिक्के खरीदना अत्यंश शुभ माना जाता है. इस दिन किसी को वस्तु उधार नहीं दी जानी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस की पूजा का शुभ मुहूर्त

इस साल धनतेरस की पूजा के लिए शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 28 मिनट से लेकर शाम 5 बजकर 59 मिनट के बीच है. इस शुभ मुहूर्त में भगवान धनवंतरि और धन के देवता कुबेर जी की पूजा की जाती है. भगवान धनवंतरि को विष्णु जी का वह रूप माना जाता है, जिनके हाथ में अमृत कलश हो.

email
TwitterFacebookemailemail

नैरेत्य कोण का महत्व

अगर आपके घर का मुख्य द्वार दक्षिण दिशा में है तो आपको सोने या तांबे से बना सामान खरीदना चाहिए. वहीं अगर आपके घर का मुख्य द्वार अगर नैरेत्य कोण (Nairutya Kon) यानी दक्षिण-पश्चिम की तरफ है तो आपको चांदी या तांबे से बनी वस्तुएं खरीदनी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस में नहीं खरीदे काले रंग की वस्तुएं

धनतेरस की खरीदारी में रंगों का भी बहुत महत्व होता है. काले रंग की वस्तुओं की खरीदारी सर्वथा वर्जित है। इस दिन गहरे नीले रंग से भी परहेज करें.

email
TwitterFacebookemailemail

काले रंग की वस्तुएं से करें परहेज

धनतेरस की खरीदारी में रंगों का भी बहुत महत्व होता है. काले रंग की वस्तुओं की खरीदारी सर्वथा वर्जित है। इस दिन गहरे नीले रंग से भी परहेज करें.

email
TwitterFacebookemailemail

प्लास्टिक, कांच या चीनी मिट्टी की वस्तुओं को खरीदने से करें परहेज

धनतेरस के दिन लोग भूल से कांच, प्लास्टिक या चीनी मिट्टी की वस्तुएं खरीद लेते हैं। ऐसा न करें। ये वस्तु शुभता का प्रतीक नहीं होती हैं।

email
TwitterFacebookemailemail

मिट्टी के दीपक

दिवाली प्रकाश का पर्व है. ऐसे में धनतेरस के दिन मिट्टी के दीपक खरीदें. इसके बिना आपकी दिवाली पूरी नहीं होगी. बाजार में मिट्टी के ​दीपक में भी कई गुणवत्ता वाले दीपक हैं, जो आपकी जेब के अनुरुप हो, वे खरीदें.

email
TwitterFacebookemailemail

झाड़ू खरीदने की है मान्यता

धनतेरस के दिन झाड़ू जरूर खरीदें. झाड़ू को माता लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है. इससे दरिद्रता का नाश होता है. घर में सकारात्मकता का संचार ​होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

पीतल का सामान लेना होता है शुभ

समुद्र मंथन के समय जब भगवान धन्वंतरि प्रकट हुए थे तब उनके हाथों में पीतल के कलश में अमृत था. ऐसी मान्यता है कि धन्वंतरि को पीतल बहुत ​​प्रिय है, इसलिए धनतेरस के दिन पीतल की वस्तुएं खरीदना शुभ होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

लक्ष्मी माता तथा गणेश जी की मूर्ति

धनतेरस के दिन आपको दिवाली के दिन होनी वाली लक्ष्मी पूजा के लिए माता लक्ष्मी तथा गणेश जी की मूर्ति खरीदनी चाहिए। यह आपके लिए सौभाग्य, सुखदायक और शुभता प्रदान करने वाला होगा। माता लक्ष्मी की धन वर्षा करती हुई मूर्ति दिवाली के लिए उपयुक्त मानी जाती है।

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर नहीं खरीदें लोहे से बना सामान

हिंदू मान्यताओं के अनुसार, धनतेरस या धन त्रयोदशी के दिन लोहा या उससे बनी सामग्री नहीं खरीदनी चाहिए. लोहा खरीदना अशुभ माना गया है.

email
TwitterFacebookemailemail

घर के बाहर यम का दीपक जलाए

अकाल मृत्यु से बचने के लिए धनतेरस के दिन प्रदोष काल में घर के बाहर यमराज के लिए एक दीपक जलाया जाता है. इसे यम दीपम या यम का दीपक भी कहा जाता है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज प्रसन्न होते हैं और वे उस परिवार के सदस्यों की अकाल मृत्यु से रक्षा करते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

पूजन सामग्री Pujan Samagr

मां लक्ष्मी और भगवान गणेश की प्रतिमा, रोली, कुमुकम, अक्षत (चावल), पान, सुपारी, नारियल, लौंग, इलायची, धूप, कपूर, अगरबत्तियां, मिट्टी, दीपक, रूई, कलावा, शहद, दही, गंगाजल, गुड़, धनिया, फल, फूल, जौ, गेहूं, दूर्वा, चंदन, सिंदूर, पंचामृत, दूध, मेवे, खील, बताशे, जनेऊ, श्वेस वस्त्र, इत्र, चौकी, कलश, कमल गट्टे की माला, शंख, आसन, थाली. चांदी का सिक्का, चंदन, बैठने के लिए आसन, हवन कुंड, हवन सामग्री, आम के पत्ते प्रसाद.

email
TwitterFacebookemailemail

यमराज के लिए करें दीपदान

सूर्यास्त के बाद यमराज के लिए दीपदान जरूर करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

दीपक में गाय के घी का करें इस्तेमाल

पूजा में लगाए गए दीपक में गाय के घी का इस्तेमाल करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

भगवान धन्वंतरि को इन चीजों से लगाए भोग

भगवान धन्वंतरि को कृष्णा तुलसी, गाय का दूध और उससे बने मक्खन का भोग लगाना चाहिए

email
TwitterFacebookemailemail

भगवान धन्वंतरि को औषधियां जरूर चढ़ाएं

भगवान धन्वंतरि को पूजा सामग्री के साथ औषधियां चढ़ानी चाहिए. औषधियों को प्रसाद के तौर पर खाने से बीमारियां दूर होती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें इस दिन पीतल का महत्व

समुद्र मंथन के समय जब भगवान धन्वंतरि प्रकट हुए थे तब उनके हाथों में पीतल के कलश में अमृत था. ऐसी मान्यता है कि धन्वंतरि को पीतल बहुत ​​प्रिय है, इसलिए धनतेरस के दिन पीतल की वस्तुएं खरीदना शुभ होता है.

email
TwitterFacebookemailemail

आज चांदी की खरीदनी चाहिए आभूषण

धनतेरस की खरीदारी आज रात से शुरू हो जाएगी, क्योंकि आज रात में त्रयोदशी तिथि लग जाएगी. इस दिन चांदी के सिक्के, आभूषण आदि की खरीदारी करना शुभ होता है. लक्ष्मी पूजा के दिन चांदी के इन वस्तुओं की पूजा करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

27 मिनट तक ही पूजा का शुभ मुहूर्त

इस साल धनतेरस पूजा का अति शुभ मुहूर्त केवल 27 मिनट ही है. शाम 5:32 से 5:59 मिनट तक आप पूजा कर लें. इस दौरान पूजा करना फलदायी साबित होगा. यदि कोई इस समय दीपदान करता है तो अति शुभ होगा.

email
TwitterFacebookemailemail

कैसे जलाएं दीपक

यदि आपके घर का मुख्य द्वार पश्चिम दिशा की तरफ है तो आपको तिल के तेल का दीपक जलाना चाहिए. साथ ही इस दीपक में काली किशमिश जरूर डालें.

email
TwitterFacebookemailemail

यमराज के लिए दीपक

अकाल मृत्यु से बचने के लिए धनतेरस के दिन प्रदोष काल में घर के बाहर यमराज के लिए एक दीपक जलाया जाता है. इसे यम दीपम या यम का दीपक भी कहा जाता है. ऐसी मान्यता है कि ऐसा करने से यमराज प्रसन्न होते हैं और वे उस परिवार के सदस्यों की अकाल मृत्यु से रक्षा करते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

ये है मान्यता

ऐसी मान्यता है कि धनतेरस के शुभ दिन पर सोना, चांदी और बर्तन खरीदने से पूरे साल संपन्नता बनी रहती है

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर इन बातों का रखें खास ख्याल

  • धनतेरस पर संभलकर करें खरीददारी

  • लोहे के सामान खरीदने से बचें

  • कांच के सामान भूलकर भी न खरीदें

email
TwitterFacebookemailemail

स्टील न खरीदें

धनतेरस पर बर्तन खरीदने की परंपरा काफी समय से चली आ रही है. स्टील भी लोहा का ही दूसरा रूप है इसलिए कहा जाता है कि स्टील के बर्तन भी धनतेरस के दिन नहीं खरीदने चाहिए. स्टील के बजाए कॉपर या ब्रॉन्ज के बर्तन खरीदे जाने चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

कांच का सामान

कांच का सामान का संबंध भी राहु ग्रह से होता है इसलिए धनतेरस के दिन कांच की चीजें नहीं खरीदनी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

लक्ष्मी माता तथा गणेश जी की मूर्ति

धनतेरस के दिन आपको दिवाली के दिन होनी वाली लक्ष्मी पूजा के लिए माता लक्ष्मी तथा गणेश जी की मूर्ति खरीदनी चाहिए. यह आपके लिए सौभाग्य, सुखदायक और शुभता प्रदान करने वाला होगा. माता लक्ष्मी की धन वर्षा करती हुई मूर्ति दिवाली के लिए उपयुक्त मानी जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस को मत खरीदे ये चीजें

धनतेरस के दिन अगर आप खरीदारी करने निकले हैं तो चाकू, कैंची व दूसरे धारदार हथियारों को खरीदने से बचना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पूजा का मुहूर्त

शुक्रवार 13 नवंबर को शाम 05 बजकर 28 मिनट से शाम 05 बजकर 59 मिनट तक धनतेरस पूजा का शुभ मुहूर्त है. इस 30 मिनट की अवधि में आपको धनतेरस की पूजा कर लेनी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस 2020 की सही तिथि और समय

हिन्दी पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी ति​​थि को धनतेरस का त्योहार होता है. इस वर्ष कार्तिक कृष्ण त्रयोदशी ति​​थि का प्रारंभ 12 नवंबर दिन गुरुवार को रात 09 बजकर 30 मिनट से हो रहा है, जो 13 नवंबर दिन शुक्रवार को शाम 05 बजकर 59 मिनट तक है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस का शुभ मुहूर्त

  • 12 नंवबर को : सुबह 11:20 से 12:04 तक अभिजीत मुहूर्त

  • 13 नंवबर को : सुबह 11:20 से 12:04 तक अभिजीत मुहूर्त

email
TwitterFacebookemailemail

काले रंग की चीजों से करना चाहिए परहेज

धनतेरस के दिन काले रंग की चीजों को घर लाने से बचना चाहिए. धनतेरस एक बहुत ही शुभ दिन है, जबकि काला रंग हमेशा से दुर्भाग्य का प्रतीक माना गया है. इसलिए धनतेरस पर काले रंग की चीजें खरीदने से बचें.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस में नहीं खरीदें प्लास्टिक के बरतन

धनतेरस पर कुछ लोग प्लास्टिक की बनी चीजें घर ले आते हैं. बता दें कि प्लास्टिक बरकत नहीं देता है. इसलिए धनतेरस पर प्लास्टिक से बना किसी भी तरह का सामान घर न लेकर आएं.

email
TwitterFacebookemailemail

लोहा से बनने वाली चीजों का करें परहेज

ज्योतिष के अनुसार, लोहे को शनिदेव का कारक माना जाता है. इसलिए लोहे से बनी चीजों को धनतेरस पर भूलकर भी खरीदने की गलती न करें. ऐसा करने से त्योहार पर धन कुबेर की कृपा नहीं होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस के अवसर पर कर सकते हैं इन चीजों की भी खरीददारी

धनतेरस पर कुछ लोग एल्यूमिनियम के बर्तन या सामान भी खरीद लेते हैं. इस धातु पर भी राहु का प्रभाव अधिक होता है. एल्यूमिनियम को दुर्भाग्य का सूचक माना गया है. त्योहार पर एल्यूमिनियम की कोई भी नई चीज घर में लाने से बचें.

email
TwitterFacebookemailemail

ऐसे होगी है धन की बचत

वास्तु के अनुसार आर्थिक समृद्धि के लिए घर की उत्तर दिशा में धनतेरस के दिन कलश में जल और उसमें एक चांदी का सिक्का डाल दें. इससे धन की बचत होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस में शुभ माना जाता है इन चीजों की खरीदारी

धनतेरस में कलश,हल्दी की गांठ, झाड़ू खरीदना बहुत शुभ होता है। झाड़ू खरीदने के पीछे कहा जाता है कि धनतेरस के दिन घर की सफाई कर पुरानी झाड़ू की जगह नई झाड़ू लानी चाहिए. इसलिए इस दिन झाड़ू खरीदना शुभ माना जाता है। इस दिन धनिया के बीज, सोना-चांदी, धातु के बर्तन खासकर पीतल के बर्तन खरीदना भी बहुत शुभ होता है. इस दिन कलश खरीदना भी अच्छा रहता है. धनतेरस के दिन अगर आप बर्तन लाते हैं तो उन्हें खाली नहीं रखना चाहिए. पूजा से पहले उनमें जलभरकर रखना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस के दिन इन बातों का रखें ख्याल

धनतेरस के दिन यदि आप कोई बर्तन या इस्तेमाल करने का सामान खरीद रहे हैं तो ध्यान रखें कि उसे घर में खाली न लेकर आएं. घर में बर्तन लाने से पहले इसे पानी, चावल या किसी दूसरी सामग्री से भर लें.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस को ये भूलकर भी न खरीदें

इस दिन शीशे की भी खरीदारी नहीं करनी चाहिए. ऐसी मान्यता है कि इससे राहु की दृष्टि आप पर बनी रहती है जिससे घरेलू परेशानियां बढ़ सकती है. धनतेरस के दिन शीशे का बर्तन भूलकर भी नहीं खरीदना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर न करें ये काम

लोहे को शनिदेव का कारक माना जाता है. इसलिए लोहे से बनी चीजों को धनतेरस पर भूलकर भी खरीदने की गलती न करें. ऐसा करने से धन पर कुबेर की कृपा नहीं होती है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर बन रहा है ये दो शुभ योग

धनतेरस के दिन चित्रा नक्षत्र और आयुष्मान योग भी बन रहा है. धनतेरस के द‍िन आयुष्मान योग में भगवान धनवंतरि की पूजा करना बहुत फलदायी माना गया है. इस बार धनतेरस पर मृदु और मित्र संज्ञक नक्षत्र का योग बन रहा है. इस नक्षत्र में सोना, चांदी और बर्तन खरीदना बहुत शुभ रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दिन खील-बताशे की करें खरीदारी

धनतेरस के दिन खील-बताशे की खरीदारी करना भी बेहद शुभ माना जाता है. इन खील-बताशे का प्रयोग दिवाली के दिन पूजा में किया जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दिन सोलह श्रृंगार का तोहफा देना माना जाता है शुभ

धनतेरस के दिन विवाहित महिलाओं को सोलह श्रृंगार का तोहफा देना शुभ माना जाता है. इसके अलावा लाल रंग की साड़ी और सिंदूर देना भी अच्छा माना जाता है. इससे भी लक्ष्मी मां प्रसन्न होती हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दिन प्लास्टिक के सामान खरीदने से बचें

धनतेरस पर कुछ लोग प्लास्टिक की बनी चीजें घर ले आते हैं. बता दें कि प्लास्टिक बरकत नहीं देता है. इसलिए धनतेरस पर प्लास्टिक से बना किसी भी तरह का सामान नहीं खरीदना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

काले रंग की वस्तुएं न लाए इस दिन घर

धनतेरस के दिन काले रंग की चीजों को घर लाने से बचना चाहिए. धनतेरस एक बहुत ही शुभ दिन है, जबकि काला रंग हमेशा से दुर्भाग्य का प्रतीक माना गया है. इसलिए धनतेरस पर काले रंग की चीजें खरीदने से बचें.

email
TwitterFacebookemailemail

कांच का सामान भूलकर भी न खरीदे

धनतेरस पर कुछ लोग कांच के बर्तन या दूसरी चीजें खरीदते हैं. कांच का संबंध राहु से माना जाता है, इसलिए धनतेरस के दिन इसे खरीदने से बचना चाहिए. इस दिन कांच की चीजों का इस्तेमाल भूलकर भी नहीं करना चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

मिलावटी चीजें खरीदने से बचना चाहिए

धनतेरस के दिन यदि आप तेल या घी जैसी चीजें खरीदने जा रहे हैं तो थोड़ा सतर्क रहिए. ऐसी चीजों में मिलावट हो सकती है और इस दिन अशुद्ध चीजें खरीदने से बचना चाहिए. यदि आप घर में रिफाइंड का इस्तेमाल करते हैं तो वो भी इस दिन खरीदने से बचें.

email
TwitterFacebookemailemail

धारदार वस्तुएं खरीदने से बचें

धनतेरस के दिन धारदार वस्तुएं खरीदने से बचें. इस दिन चाकू, कैंची या कोई धारदार हथियार की खरीदारी नहीं करनी चाहिए. धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना शुभ नहीं माना जाता है.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दिन एल्यूमिनियम की कोई भी नई चीज घर में न लाएं

धनतेरस पर कुछ लोग एल्यूमिनियम के बर्तन या सामान भी खरीद लेते हैं. इस धातु पर भी राहु का प्रभाव अधिक होता है. एल्यूमिनियम को दुर्भाग्य का सूचक माना गया है, इसलिए धनतेरस पर एल्यूमिनियम की कोई भी नई चीज घर में नहीं लानी चाहिए.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर स्टील के बर्तनों की खरीदारी नहीं करनी चाहिए

धनतेरस के दिन कुछ न कुछ सामान की खरीदारी करने की मान्यता है. इस दिन बहुत से लोग स्टील के बर्तनों की खरीदारी करते है, जबकि ऐसा करने से बचना चाहिए. स्टील शुद्ध धातु नहीं है. इस पर राहु का प्रभाव भी ज्यादा होता है. आपको सिर्फ प्राकृतिक धातुओं की ही खरीदारी करनी चाहिए. मानव निर्मित धातु में से केवल पीतल खरीदा जा सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस के दिन नकली मूर्तियों की नहीं करना चाहिए पूजा

धनतेरस के दिन नकली मूर्तियों की पूजा भूलकर भी नहीं करना चाहिए. इस दिन सोने, चांदी या मिट्टी की बनी हुई मां लक्ष्मी की मूर्ति की पूजा करें. स्वास्तिक और ऊं जैसे प्रतीकों को कुमकुम, हल्दी या किसी शुभ चीज से बनाएं. नकली प्रतीकों को घर में ना लाएं.

email
TwitterFacebookemailemail

इस दिन किसी को नहीं देनी चाहिए उधार

धनतेरस के दिन किसी भी व्यक्ति को उधार नहीं देना चाहिए. मान्यता है कि इस दिन अपने घर से लक्ष्मी का प्रवाह बाहर नहीं होने देना चाहिए. ऐसा करने से आप पर देनदारी और कर्ज का भार पड़ सकता है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस के दिन ये चीजें भूलकर भी न खरीदें

धनतेरस के दिन शीशे का बर्तन भूलकर भी नहीं खरीदना चाहिए. मान्यता है कि इस दिन शीशे के बर्तन खरीदने पर काफी नुकसान होता है. धनतेरस के दिन सोने चांदी की कोई चीज या नए बर्तन खरीदने पर अत्यंत शुभ माना जाता है और घर में सुख-समृद्धि आती है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस के दिन ये गलतियां भूलकर भी न करें

अगर आप धनतेरस पर सिर्फ कुबेर की पूजा करने वाले हैं तो ये गलती ना करें, क्योंकि ऐसा करने पर आप पूरे साल परेशान रह सकते है. धनतेरस के दिन कुबेर के साथ माता लक्ष्मी और भगवान धन्वंतरि की भी उपासना जरूर करें वरना पूरे साल बीमार रहेंगे.

email
TwitterFacebookemailemail

जानें धनतेरस पर क्यों होती है कुबेर की पूजा

धनतेरस का पर्व धन और आरोग्य से जुड़ा हुआ है. धन के लिए इस दिन कुबेर की पूजा की जाती है और आरोग्य के लिए धनवन्तरि की पूजा की जाती है. इस दिन मूल्यवान धातुओं, नए बर्तनों और आभूषणों की खरीदारी का विशेष विधान होता है. धनतेरस पर कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पर इनकी होती है पूजा

धनतेरस के दिन कुबेर देवता के साथ धन की देवी लक्ष्मी और भगवान गणेश की पूजा की जाती है. इस दिन किसी भी वस्तु को खरीदना शुभ माना जाता है. कुबेर देवता लोगों को धन और समृद्धि प्रदान करने वाले हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

27 मिनट तक है शुभ मुहूर्त

इस साल धनरेसत की पूजा का शुभ मुहूर्त शाम 5 बजकर 32 मिनट से शुरू होकर 5 बजकर 59 मिनट तक रहेगा. इस बार महज 27 मिनट के इस शुभ मुहूर्त में पूजा करना फलदायी माना जाएगा. इसी वक्त अगर कोई दीपदान करता है तो भी शुभ होगा. जानकारी के लिए बता दें कि 13 नवंबर को धनतेरस पर खरीदारी के लिए पहला मुहूर्त सुबह 7 से 10 बजे तक है. जबकि दूसरा शुभ मुहूर्त दोपहर 1 से 2.30 बजे तक रहेगा.

email
TwitterFacebookemailemail

अखंड दीपक पूजा घर में जरूर जलाएं

निर्धनता दूर करने के लिए अपने पूजाघर में धनतेरस की शाम को अखंड दीपक जलाना चाहिए, जो दीपावली की रात तक जरूर जलता रहे. अगर दीपक भैयादूज तक अखंड जलता रहे तो घर के सारे वास्तुदोष भी समाप्त हो जाते हैं और आपके घर से सारी नेगेटिव एनर्जी दूर हो जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस का प्रसाद

धनतेरस के दिन प्रसाद में और भगवान को अर्पित करने के लिए खील-बताशे, फल, मेवा, मिष्ठान आदि पूजन में शामिल कर लें.

email
TwitterFacebookemailemail

12 नवंबर को चौघड़िया अनुसार खरीदी-पूजन के मुहूर्त्त

सुबह 06.01 से 7.30 बजे तक शुभ

सुबह 07.31 से 9.00 बजे तक रोग

सुबह 09.01 से 10.30 बजे तक उद्वेग

सुबह 10.31 से 12.00 बजे तक चर

दोपहर 12.01 से 1.30 बजे तक लाभ

दोपहर 01.31 से 03.00 बजे तक अमृत

दोपहर 03.01 से 04.30 बजे तक काल

शाम 04.31 से 06.00 बजे तक शुभ

email
TwitterFacebookemailemail

13 नवम्बर चौघडियानुसार खरीदी व पूजन के मुहूर्त

प्रात: 06:00 से 07:30 तक चर

प्रातः 07:30 से 09:00 तक लाभ

प्रातः 09:00 से 10:30 बजे तक अमृत

प्रातः10:30 बजे से 12:00 बजे तक काल

दोपहरः 12:00 से 01:30 बजे तक शुभ

दोपहरः 01:30 से 03:00 बजे तक रोग

दोपहरः 03:00 से 04:30 बजे तक उद्वेग

शामः 04:30 से 06:00 तक चर

email
TwitterFacebookemailemail

कल रात में कर सकते है धनतेरस की खरीदारी

कल रात में त्रयोदशी तिथि लग जाएगी. कल शाम के समय धनतेरस की खरीदारी की जा सकती है. वहीं, 13 नवंबर दिन शुक्रवार को धनतेरस का पर्व मनाया जाएगा.

email
TwitterFacebookemailemail

धनतेरस पूजा विधि Dhanteras Puja Vidhi

धनतेरस के दिन शाम के समय उत्तर दिशा में कुबेर, धन्वंतरि भगवान और मां लक्ष्मी की पूजा की जाती है. पूजा के समय घी का दीपक जलाएं. कुबेर को सफेद मिठाई और भगवान धन्वंतरि को पीली मिठाई चढ़ाएं. पूजा करते समय “ॐ ह्रीं कुबेराय नमः” मंत्र का जाप करें. इसके बाद “धन्वन्तरि स्तोत्र” का पाठ करें. धन्वान्तारी पूजा के बाद भगवान गणेश और माता लक्ष्मी की भी पूजा करें. भगवान गणेश और माता लक्ष्मी के लिए मिट्टी का दीपक जलाएं. उन्हें फूल चढ़ाएं और मिठाई का भोग लगाएं.

email
TwitterFacebookemailemail

यहां जानें यम के नाम दीप जलाने की विधि

धनतेरस के दिन यम के नाम दीप जलाया जाता है. इस दिन दीपक जलाने से पहले पूजा की जाती है. किसी लकड़ी के बेंच या जमीन पर तख्त रखकर रोली से स्वास्तिक का निशान बनायें. फिर मिट्टी या आटे के चौमुखी दीपक को उस पर रख दें. दीप पर तिलक लगाएं. चावल और फूल चढ़ाएं. चीनी डालें. इसके बाद 1 रुपये का सिक्का डालें और परिवार के सदस्यों को तिलक लगाएं. दीप को प्रणाम कर उसे घर के मुख्य द्वार पर रख दें. ये ध्यान दें कि दीपक की लौ दक्षिण दिशा की तरफ हो. क्योंकि ये यमराज की दिशा मानी जाती है. ऐसा करने से अकाल मृत्यु टल जाती है.

email
TwitterFacebookemailemail

ये सामग्री पूजा थाली में करें शामिल

21 कमल बीज, ग्यारह दीपक, मणि पत्थर के 5 प्रकार, 5 सुपारी, लक्ष्मी-गणेश के सिक्के ये 10 ग्राम या अधिक भी हो सकते हैं, पत्र, अगरबत्ती, चूड़ी, तुलसी, पान, सिक्के, काजल, चंदन, लौंग, नारियल, दहीशरीफा, धूप, फूल, चावल, रोली, गंगा जल, माला, हल्दी, शहद, कपूर, खील, बताशे, मिठाई, वस्त्र, आभूषण, चन्दन का लेप, सिन्दूर, कुंकुम, सुपारी, पान फूल, दुर्वा, चावल, लौंग, इलायची, केसर-कपूर, हल्दी-चूने का लेप, सुगंधित पदार्थ, धूप, अगरबत्ती, एक दीपक पूजा थाली में रखें.

email
TwitterFacebookemailemail

कल रात में आप कर सकते है खरीदारी

इस बार धनतेरस 13 नवंबर को मनाई जाएगी. कल रात में त्रयोदशी तिथि शुरू हो जाएगी. धनतेरस पर व्यापारी लोग भी अपनी दुकान और व्यापार की जगह में पूजा कर मां लक्ष्मी की अराधना करते हैं. इस दिन कुछ खास चीजों को घर में खरीदकर लाना बहुत ही शुभ होता है. माना जाता है कि इस दिन इन चीजों को खरीदने से घर में सुख-समृद्धि आती है.

email
TwitterFacebookemailemail

यहां जानें इस दिन किन चीजों की करनी चाहिए खरीदारी

धनतरेस के दिन घर में झाड़ू खरीदकर लाएं एवं शुभ मुहूर्त में पूजन करें. इसके साथ ही रात में घर, दुकान और ऑफिस में दीप जलाने चाहिए. इस दिन लोग बर्तन, आभूषण आदि भी खरीदकर लाते हैं. इस दिन लोहे का सामान नहीं खरीदना चाहिए. इस दिन अपने सामर्थ्य के अनुसार धातु के बर्तन एवं कलश ही खरीदना चाहिए. इस दिन घर, आफिस, दुकान, प्रतिष्ठान को को साफ कर अच्छे से दीपक जलाना चाहिए. धनतेरस पर शुभ मुहूर्त में सूखे धनिए के बीज खरीदकर घर मे रखने से परिवार में धन संपदा बढ़ती है. इस दिन सुबह सवेरे उठकर माता लक्ष्मी, कुबेर एवं धन्वन्तरि महाराज की पूजा करें.

email
TwitterFacebookemailemail

13 नवंबर को खरीदारी का शुभ मुहूर्त

13 नवंबर दिन शुक्रवार की सुबह 5 बजकर 59 मिनट से 10 बजकर 06 मिनट तक

13 नवंबर दिन शुक्रवार की सुबह 11 बजकर 08 मिनट से दोपहर 12 बजकर 51 मिनट तक

13 नवंबर दिन शुक्रवार की दोपहर 3 बजकर 38 मिनट से शाम 05 बजे तक

email
TwitterFacebookemailemail

News posted by : Radheshyam kushwaha

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें