UNESCO में भारत ने फिर पाकिस्तान को लताड़ा, कश्मीर पर झूठ बोलने पर कहा- DNA में है आतंकवाद

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
पेरिसः संयुक्त राष्ट्र के मंच से भारत ने एक बार फिर से पाकिस्तान को लताड़ा है. कश्मीर मसले पर पाकिस्तान के फैलाए झूठे दावों और प्रोपेगैंडा को करारा जवाब देते हुए पूरे दुनिया के सामने पाकिस्तान को बेनकाब किया है. फ्रांस की राजधानी पेरिस में आयोजित यूनेस्को के महासम्मेलन में भारत ने पाकिस्तान को आतंकवाद का डीएनए बताया है.
कश्मीर मुद्दे पर सभी अंतरराष्ट्रीय मंचो पर मुंह की खाने के बाद भी पाकिस्तान ने एक बार फिर 40वें यूनेस्को जनरल कॉफ्रेंस के सामान्य नीति बहस के दौरान अपने प्रोपगेंडा को फैलाने की कोशिश की. इतना ही नहीं, उसने सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या पर दिए गए फैसले का भी जिक्र किया. जिसके बाद से भारत ने पाकिस्तान को आईना दिखाते हुए कहा कि पाकिस्तान द्वारा गढ़े गए आरोप हमारे आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप है, जो बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे.
यूनेस्को के जनरल कॉफ्रेंस में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करने वाली अनन्या अग्रवाल ने कहा है कि, पाकिस्तान के व्यवहार के कारण उसकी कमजोर अर्थव्यवस्था, कट्टरपंथी समाज और आतंकवाद के गहरे जड़ से प्रभावित देश में गिरावट आई है. भारत ने पड़ोसी मुल्क की आलोचना करते हुए कहा कि पाकिस्तान को हमारे अंदरूनी मामलों में टांग अड़ाने की मानसिक बीमारी है. आतंकवाद के मुद्दे पर भारत ने पाकिस्तान को घेरते हुए कहा कि पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवाद से दुनिया परेशान है.
यूनेस्को के जनरल कॉफ्रेंस के 40वें सत्र की सामान्य नीति बहस पर पाकिस्तान के आरोप का जवाब देते हुए भारत ने कहा कि पाकिस्तान प्रोपैंगेडा रच रहा है और भारत के आंतरिक मामले में हस्तक्षेप कर रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने कानून के आधार पर फैसला दिया है. पाकिस्तान हमारे आंतरिक मामले में हस्तक्षेप कर रहा है.
वह जिस तरह की घृणास्पद बातें फैला रहा है वो निंदनीय है.अनन्या अग्रवाल ने पाकिस्तान को फटकार लगाते हुए कहा कि हम भारत के खिलाफ जहर उगलने और यूनेस्को के मंच का कश्मीर मुद्दे की राजनीतिकरण करने के लिए दुरुपयोग करने के लिए पाकिस्तान की कड़ी निंदा करते हैं. उन्होंने याद दिलाया कि सितंबर माह में इमरान खान ने यूनेस्को के मंच से परमाणु युद्ध की धमकी थी. साथ ही परवेज मुशर्फ के उस बयान की चर्चा की जिसमें कहा गया था कि हक्कानी और लादेन जैसे आतंकवादी को उन्होंने संरक्षण दिया था.
अग्रवाल ने कहा कि पाकिस्तान 2018 में नाजुक राज्य सूचकांक में 14वें स्थान पर था. पाकिस्तान में अंधकार है. पाकिस्तान, आतंकवाद की सबसे गहरी शक्तियों और कट्टरपंथ का समर्थक रहा है. आतंकवाद के समर्थन और प्रचार-प्रसार पर पाकिस्तान को लताड़ लगाते हुए उन्होंने आगे कहा कि पाकिस्तान एक ऐसा देश है, जिसका नेता संयुक्त राष्ट्र के मंच का दुरुपयोग खुलेआम परमाणु युद्ध का प्रचार करने और अन्य देशों के खिलाफ हथियार का इस्तेमाल करने के लिए करता है, जिसमें प्रधानमंत्री इमरान खान की टिप्पणियों का जिक्र है.
सितंबर में संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के दौरान नेता ने भारत को चेतावनी दी थी कि अगर यह दो परमाणु हथियारबंद पड़ोसियों के बीच आमने-सामने होता है, तो परिणाम उनकी सीमाओं से परे होंगे.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें