1. home Hindi News
  2. national
  3. monsoon 2022 tracker india delhi up bihar jharkhand mp cg rain imd alert kerala amh

Monsoon 2022 : भीषण गर्मी के बीच राहत की खबर, इस साल जल्‍द पहुंचेगा मॉनसून, मई में ही होगी झमाझम बारिश

मॉनसून के संबंध में भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा है कि इस साल केरल में दक्षिण पूर्वी मानसून का आगमन समय से पहले हो सकता है. केरल में मानसून 27 मई को दस्तक दे सकता है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Monsoon 2022 updates
Monsoon 2022 updates
pti

Monsoon 2022 Updates : देश की राजधानी दिल्ली सहित कई राज्यों में गर्मी का प्रकोप जारी है. जहां दिल्ली का तापमान 47 डिग्री तक पहुंचने के आसार हैं. वहीं उत्तर प्रदेश शुक्रवार को जबरदस्त तपिश के दौर से गुजरा और कई स्थानों पर दिन का तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा रिकॉर्ड किया गया. इस बीच मॉनसून को लेकर अच्‍छी खबर आ रही है जो इस गर्मी से लोगों को राहत पहुंचाने का काम करेगी.

पांच दिन पहले पहुंचेगा मॉनसून

दरअसल भारत की कृषि आधारित अर्थव्यस्था की जीवनरेखा माना जाने वाला दक्षिण पश्चिमी मॉनसून समय से पांच दिन पहले, 27 मई तक केरल में पहुंच सकता है. यानी मई के अंतिम सप्‍ताह में यहां वर्षा की पहली फुहार के आसार नजर आ रहे हैं. गौर हो कि केरल में मानसून का आगमन आमतौर पर एक जून को होता है.

केरल में मॉनसून 27 मई को दस्तक देगा

मॉनसून के संबंध में भारत मौसम विज्ञान विभाग ने कहा है कि इस साल केरल में दक्षिण पूर्वी मॉनसून का आगमन समय से पहले हो सकता है. केरल में मानसून 27 मई को दस्तक दे सकता है, और इस तारीख में चार दिन आगे पीछे होने का अनुमान है. वर्ष 2009 में दक्षिण पश्चिमी मॉनसून 23 मई को केरल पहुंचा था.

मॉनसून के समय पूर्व आगमन के पीछे चक्रवात

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार केरल में मॉनसून के समय पूर्व आगमन के पीछे चक्रवात असानी के प्रभाव है. दक्षिण पश्चिमी मॉनसून के समय से पहले आगमन की घोषणा ऐसे समय की गई है जब उत्तर पश्चिमी भारत के क्षेत्र अत्यधिक तापमान का सामना कर रहे हैं. मौसम विभाग ने कहा कि अंडमान निकोबार द्वीप समूह में सात दिन पहले 15 मई तक मॉनसून के आगमन का अनुमान है.

इस साल मॉनसून सामान्य रहने की संभावना

आईएमडी ने एक बयान में कहा कि भूमध्यवर्ती हवाओं के बढ़ने के साथ दक्षिण अंडमान सागर, निकोबार द्वीप समूह और दक्षिणपूर्व बंगाल की खाड़ी के कुछ हिस्सों में 15 मई के करीब दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के आगे बढ़ने के लिए परिस्थितियां अनुकूल होंगी. इधर इस साल मॉनसून सामान्य रहने की संभावना है और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) राज्य सरकारों के साथ परामर्श कर बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में मानसून पूर्व तैनाती की योजना बना रहा है. एनडीएमए ने इससे पहले पांच मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में भीषण गर्मी और मानसून को लेकर तैयारियों की समीक्षा की थी.

भाषा इनपुट के साथ

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें