1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. coronavirus news jharkhand no entry of outside tourists in jharkhand government hotels due to corona infection srn

Coronavirus news jharkhand : कोरोना संक्रमण की वजह से झारखंड सरकार के होटलों में अभी बाहरी पर्यटकों की नो इंट्री

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
कोविड-19 के संक्रमण की आशंका को देखते हुए राज्य में बाहर से आने वाले पर्यटकों को घूमने की अनुमति नहीं दी गयी
कोविड-19 के संक्रमण की आशंका को देखते हुए राज्य में बाहर से आने वाले पर्यटकों को घूमने की अनुमति नहीं दी गयी
prabhat khabar

रांची : कोविड-19 के संक्रमण की आशंका को देखते हुए राज्य में बाहर से आने वाले पर्यटकों को घूमने की अनुमति नहीं दी गयी है. झारखंड टूरिज्म डेवलपमेंट अॉथोरिटी (जेटीडीसी) के होटलों में बाहर के पर्यटकों को ठहरने की अनुमति नहीं होगी. झारखंड से बाहर के पर्यटकों को पर्यटन विभाग के होटलों या टूरिस्ट कांपलेक्स में बुकिंग नहीं दी जा रही है.

होटलों में केवल राज्य के पर्यटकों को ही कमरे दिये जा रहे हैं. जेटीडीसी के अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण की संभावना के कारण बाहर के पर्यटकों का राज्य में अभी स्वागत नहीं किया जा रहा है. संपर्क करने पर उनको विनम्रता से मना कर दिया जा रहा है.

पश्चिम बंगाल के पर्यटकों को निराशा :

झारखंड, पश्चिम बंगाल के पर्यटकों की पसंदीदा जगह है. दुर्गा पूजा के मौके पर पश्चिम बंगाल से बड़ी संख्या में पर्यटक बेतला व नेतरहाट समेत राज्य के अन्य रमणीय स्थानों का भ्रमण करने आते हैं. लेकिन, इस बार उनको निराशा हाथ लग रही है. जेटीडीसी के अधिकारियों के मुताबिक कोविड-19 संक्रमण के खतरे के बावजूद बड़ी संख्या में रोज होटलों की बुकिंग के लिए लोग जानकारी प्राप्त करने के लिए संपर्क कर रहे हैं.

दूसरे राज्यों से आने वालों के लिए 14 दिनों तक कोरेंटिन में रहना अनिवार्य

झारखंड में दूसरे राज्यों से आने वाले लोगों के लिए 14 दिनों तक कोरेंटिन में रहना अनिवार्य है. हालांकि, राज्य सरकार द्वारा निर्धारित नियमों के मुताबिक राज्य में 72 घंटों के प्रवास के लिए कोरेंटिइन से छूट प्रदान की गयी है. लेकिन व्यवसाय या अति आवश्यक कारणों से राज्य में आने वालों को ही यह सुविधा दी जा रही है. पर्यटकों को कोरेंटाइन से छूट प्रदान करने से संबंधित कोई नियम राज्य सरकार ने नहीं बनाया है. इसके अलावा विशेष परिस्थितियों में प्रशासन की अनुमति से ही कोरेंटिइन में भी ढील दी जाती है.

posted by : sameer oraon

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें