झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 : पांचवें चरण में भी कम वोटिंग

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

रांची : राज्य में विधानसभा चुनाव का अंतिम चरण शांतिपूर्वक संपन्न हुआ. पहले के चार चरणों की तरह अंतिम चरण में भी 2014 की तुलना में कम मतदाता वोट देने घरों से बाहर निकले. चुनाव आयोग को शाम पांच बजे तक मिली रिपोर्ट के मुताबिक कुल 70.83 प्रतिशत लोगों ने मतदान किया. इससे अधिक 71.66 मतदाता प्रतिशत 2019 के लोकसभा चुनाव में दर्ज किया गया था. जबकि, 2014 के चुनाव में मतदाताओं का कुल प्रतिशत 73.52 रिकार्ड किया गया था.

संताल परगना प्रमंडल की 16 सीटों पर हुई वोटिंग में चार सीटों बोरियो, पोड़ैयाहाट, गोड्डा व महागामा को छोड़ कर शेष सभी सीटों पर 2014 की तुलना में कम मतदान हुआ. सबसे अधिक मतदान नाला में 78.01 प्रतिशत किया गया. दूसरे नंबर पर 76.10 मतदान प्रतिशत के साथ पाकुड़ रहा. इस चरण में सबसे कम मतदान दुमका में हुआ. वहां मतदान प्रतिशत 59.73 दर्ज किया गया. 2014 के विधानसभा चुनाव की तुलना में दुमका के मतदान प्रतिशत में करीब 10 प्रतिशत की गिरावट आयी.

सुरक्षाबलों ने दांव पर लगायी अपनी जिंदगी : मीणा

रांची. झारखंड विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया पूरी हाेने तक इस कार्य में लगे 17 लोगों ने अपनी जान गवां दी. चुनाव के दौरान माओवादी हमले के चलते किसी सुरक्षाबल की जान नहीं गयी.

इसके बावजूद 10 की मौत विभिन्न तरह की बीमारियों व अन्य कारणों के चलते, जबकि दो सीआरपीएफ और दो छत्तीसगढ़ पुलिस के जवान की मौत आपसी झड़प और गोलीबारी के कारण हो गयी. वहीं पांच चरणों के दौरान एक सेक्टर ऑफिसर के साथ दो अन्य मतदान कर्मी की मौत भी बीमारी के कारण हो गयी. स्टेट नोडल अधिकारी (झारखंड पुलिस) एमएल मीणा ने कहा कि शांतिपूर्ण चुनाव के लिए सुरक्षाबलों ने अपनी जिंदगी तक दांव पर लगा दी.

चुनाव में करीब 87 फीसदी दिव्यांगों ने किया अपने मताधिकार का उपयोग

रांची : राज्य के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी विनय कुमार चौबे ने कहा कि पांचवें चरण के मतदान में दिव्यांग मतदाताओं ने बड़ी संख्या में वोट दिया. 92.76 प्रतिशत दिव्यांग मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया. दिव्यांग मतदाताओं की सहूलियत के लिए मतदान केंद्रों पर 2065 व्हील चेयर और 7505 वॉलेंटियर्स का इंतजाम किया गया था.

वहीं 2766 वाहनों का इस्तेमाल किया गया था. श्री चौबे ने कहा कि इससे पहले चौथे चरण में 92 प्रतिशत, तीसरे चरण में 88.48 प्रतिशत, दूसरे और पहले चरण में लगभग 84 प्रतिशत दिव्यांग मतदाताओं ने मतदान किया था. पांच चरणों में हुए मतदान में 88.86 प्रतिशत दिव्यांगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया.

चुनाव के दौरान लगे थे 227629 सुरक्षाकर्मी

झारखंड में शांतिपूर्ण चुनाव कराना प्रारंभ से ही चुनाव आयोग और प्रशासन के लिए चुनौती माना जाता रहा था. कई क्षेत्रों में उग्रवाद के प्रभाव को देखते हुए मतदाताओं में विश्वास जगाने को लेकर और चुनावी प्रक्रिया को पूरी करने के लिए भारी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गयी थी.

शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने की रणनीति के तहत झारखंड की 81 विधानसभा सीटों के लिए पांच चरणों में मतदान कार्यक्रम के दौरान 2, 27, 629 सुरक्षाबलों को लगाया गया था. चुनाव के दौरान पहले चरण में 43933 सुरक्षा बलों की तैनाती की गयी थी. इसी तरह दूसरे चरण में 51616, तीसरे चरण में 36079, चौथे चरण में 47691 और पांचवें चरण में 48292 सुरक्षाबलों की तैनाती की गयी थी.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें