जिला चेंबर चुनाव में मचेगा घमासान

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

सुधीर सिन्हा, धनबाद : जिला चेंबर चुनाव में इस बार घमासान तय है. चुनाव की तिथि की घोषणा अब तक नहीं हुई और दावेदारों की लंबी फेहरिस्त तैयार है. कुछ दिन पहले तक छह लोगों के नामों की चर्चा थी. लेकिन रविवार को बैंक मोड़ चेंबर अध्यक्ष प्रभात सुरोलिया के अध्यक्ष पद, सचिव प्रमोद गोयल के महासचिव पद व धनबाद डिस्ट्रिक्ट डीलर एसोसिएशन के कोषाध्यक्ष संजय लोधा के कोषाध्यक्ष पद पर दावेदारी की घोषणा से चुनाव का समीकरण बदल गया है. अब अध्यक्ष पद पर चार, सचिव पद पर तीन व कोषाध्यक्ष पद पर दो दावेदार हो गये हैं. चुनाव की तिथि की घोषणा के बाद कई और दावेदार सामने आ सकते हैं.

जिला चेंबर चुनाव के दावेदार
अध्यक्ष : चेतन गोयनका, राजीव शर्मा, प्रभात सुरोलिया, विनोद गुप्ता
महासचिव : शिवाशीष पांडेय, अजय नारायण लाल, प्रमोद गोयल
कोषाध्यक्ष : श्याम गुप्ता, संजय लोधा
49 में 10 चेंबर ने ही जमा किये सदस्यता शुल्क
49 में मात्र 10 चेंबरों ने ही सदस्यता शुल्क जमा किया है. जिला चेंबर अध्यक्ष राजेश गुप्ता ने कहा कि 15 सितंबर तक सदस्यता शुल्क जमा करने की अंतिम तिथि थी. जब तक चेंबरों का सदस्यता शुल्क जमा नहीं होता है, आम सभा की घोषणा नहीं की जायेगी. संभवत: आम सभा की तिथि बढ़ सकती है.
जिला चेंबर व बैंक मोड़ चेंबर फिर आमने-सामने
जिला चेंबर व बैंक मोड़ चेंबर फिर एक बार आमने-सामने आ गया है. जिला चेंबर चुनाव में बैंक मोड़ चेंबर की भागीदारी पर वर्तमान अध्यक्ष राजेश गुप्ता ने सवाल उठाया है. उन्होंने स्पष्ट कहा कि मीडिया के सामने बैंक मोड़ चेंबर के पदाधिकारियों ने जिला चेंबर के किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं लेने की घोषणा की है.
जब तक बैंक मोड़ चेंबर लिखित रूप से माफीनामा नहीं देगा, जिला चेंबर के किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं लेगा. इधर, बैंक मोड़ चेंबर अध्यक्ष प्रभात सुरोलिया व सचिव प्रमोद गोयल ने कहा कि जिला चेंबर के वर्तमान अध्यक्ष की तानाशाही व कार्यशैली का विरोध किया गया था. जिला चेंबर का अंग है बैंक मोड़ चेंबर. जिला चेंबर की आम सभा है. नयी कमेटी के लिए चुनाव होना है. लिहाजा आम सभा में भाग लेने के साथ चुनाव भी लड़ेंगे.
...भाई हम भी हैं मैदान में
चुनाव को लेकर दूरभाष पर कैंपेनिंग भी शुरू हो गयी है. भाई जी ध्यान रखियेगा हम भी मैदान में है. जो-जो दावेदार हैं वे सभी 49 चेंबर के पदाधिकारियों के बीच संपर्क स्थापित कर रहे हैं. बताते चले कि बरमसिया चेंबर ऑफ कॉमर्स, वासेपुर चेंबर, भूली मोड़ चेंबर, रहमतगंज चेंबर, महुदा चेंबर व तोपांचाची चेंबर का अस्तित्व बहुत पहले ही समाप्त हो गया है. उपरोक्त चेंबर के पदाधिकारी न तो सक्रिय हैं और न ही जिला चेंबर के किसी भी कार्यक्रम में भाग लेते है.
चुनाव नहीं कराने के पक्ष में हैं कई दावेदार : चेंबर सूत्रों की मानें तो चेंबर चुनाव में दावेदारी करनेवाले कई लोग चुनाव के पक्ष में नहीं हैं. उन्हें बैठे-बिठाये गद्दी चाहिए. इसको लेकर पर्दे के पीछे से कैंपेनिंग हो रही है. हालांकि जो समीकरण बन कर सामने आ रहा है, उससे आम सहमति के आसार कम दिख रहे हैं.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें