मॉब लिंचिंग मामला : आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए पुलिस कर रही छापेमारी, लेकिन, हाथ नहीं आये चारों नामजद

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

रांची : खूंटी जिले के कर्रा थाना क्षेत्र के सुवारी गांव में रविवार को हुई मॉब लिंचिंग की घटना में शामिल आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए मंगलवार को कर्रा पुलिस ने गुमला जिले के सिसई में छापेमारी की, लेकिन आरोपी हाथ नहीं आये. उधर, घटना में शामिल नामजद सभी आरोपी घर छोड़कर फरार हो गये हैं. जबकि आठ लोगों को दोबारा थाना बुलाकर पूछताछ की गयी.

इधर, सुवारी व जलटंडा गांव के लोगों का कहना है कि एक संगठन के द्वारा घटना को अंजाम दिया गया है. हालांकि खूंटी के प्रभारी एसपी आशुतोष शेखर ने कहा कि अभी तक किसी संगठन व संस्था कि संलिप्तता की बात सामने नहीं आयी है.
कर्रा पुलिस के मुताबिक मामले में कुल चार नामजद सहित 15 से 18 लोगों को पुलिस ने आरोपी बनाया है. इनमें पोड़ागांव निवासी रवींद्र सिंह व परमानंद सिंह, कर्रा स्टेशन निवासी पुष्पराज तिवारी उर्फ गुल्लू तिवारी और सुवारी जलटंडा निवासी भुनेश्वर सिंह को नामजद किया गया है. यह प्राथमिकी कर्रा थानेदार मुन्ना कुमार सिंह के बयान पर दर्ज की गयी है.
अज्ञात सभी आरोपी पोड़ा व सवारी जलटंडा गांव के बताये जाते हैं. जिन्होंने चार नामजद लोगों के साथ मिल कर रविवार को सुवारी गांव के नदी के किनारे प्रतिबंधित मांस बेचने के आरोप में सुवारी गांव निवासी फिलीप होरो, महुआटोली कांटी निवासी फागु कच्छप व गोपालपुर लापुंग थाना निवासी कलंतुस बारला को पीटकर घायल कर दिया था.
कर्रा पुलिस ने तीनों घायलों को सीएचसी में भर्ती कराया था. जहां फागु कच्छप व कलंतुस बारला उर्फ केलेम बारला कि स्थिति गंभीर होने के कारण उन्हें रिम्स रेफर कर दिया गया था. जहां कलंतुस बारला कि मौत हो गयी थी. सोमवार को गोपालपुर लांपुग में उसका अंतिम संस्कार किया गया.
बच्चा चोरी के संदेह में दो युवकों को पीटा, पुलिस ने बचाया
रांची़ जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के बरकोचा में मंगलवार को बच्चा चोर होने के संदेह में लोगों ने दो युवकों को घर लिया. नाम-पता पूछने के पर दोनों घबराकर गलत नाम और पता बताने लगे. इस कारण बच्चा चोर होने को लेकर लोगों का संदेह और बढ़ गया. इसके बाद दोनों की पिटाई करने लगे.
सूचना मिलते ही पुलिस वहां पहुंची और लोगों को समझा- बुझाकर कर दोनों युवकों को बचाया. बाद में पुलिस उन्हें लेकर जगन्नाथपुर थाना पहुंची. बताया कि वे चुटिया थाना क्षेत्र के रहनेवाले हैं. यह भी बताया कि वे कचरा चुनकर जीवनयापन करते हैं. वे फेंकी हुई बोलत चुन रहे थे.
उनके पास प्लास्टिक का बोरा भी था. इस कारण लोगों ने दोनों पर बच्चा चोर होने का संदेह होने लगा. पुलिस ने बिरसा चौक सहित आस- पास के लोगों से भी युवकों के बारे में पूछताछ की, तो पता चला कि दोनों कचरा चुनने वाले हैं. वे रात में भी बिरसा चौक के आस- पास नजर आते हैं. सत्यापन के बाद पुलिस ने दोनों को छोड़ दिया. दोनों ने भी मारपीट या किसी के खिलाफ जगन्नाथपुर थाने में प्राथमिकी दर्ज नहीं करायी.
दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले
रांची. झारखंड पार्टी ने खूंटी के सुवारी जलटंडा में हुई मॉब लिंचिंग का विरोध किया है. केंद्रीय महासचिव निकोदिम लकड़ा ने कहा कि इस घटना ने भाजपा सरकार के उस दावे को गलत साबित कर दिया है, जिसमें कहा गया कि झारखंड में मॉब लिंचिंग के लिए कोई जगह नहीं है.
सिर्फ पांच व्यक्तियों को ही नहीं, बल्कि घटना में शामिल सभी लोगों को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए़ उन्होंने केलेम बारला के परिवार को मुआवजा देने व इलाजरत फागू कच्छप व फिलिप होरो का इलाज ठीक से कराने की मांग की. न्याय संगत कार्रवाई नहीं होने पर पार्टी सड़क पर उतरेगी़
मॉब लिंचिंग की निंदा की
रांची. ऑल इंडिया क्रिश्चियन काउंसिल के महासचिव सह ऑल इंडिया कैथोलिक यूनियन के प्रवक्ता जॉन दयाल ने कहा है कि कर्रा, खूंटी के सुवारी जलटंडा में 23 सितंबर को हुई मॉब लिंचिंग की घटना का मानवाधिकार कार्यकर्ता, गैर सरकारी स्वयंसेवी संगठन, मसीही समुदाय और नागरिक संगठन निंदा करते हैं.
जॉन दयाल ने कहा है कि इस तरह की घटनाएं राजनीतिक इच्छा शक्ति की कमी दिखाती है़ं यह पुलिस की निष्क्रियता से बदतर है़, जो घटनास्थल पर देर से पहुंचती है, पीड़ित को अस्पताल पहुंचाने में देरी करती है और लिंचिंग में शामिल लोगों के नाम दर्ज करने में विफल रहती है़
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें