पिछले चुनाव से 6.15 फीसदी अधिक वोटिंग

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
वोट प्रतिशत : बांका में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी, बेगूसराय में सबसे कम वृिद्ध
पटना : बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण में दस जिलों की 49 सीटों पर सोमवार को हुए चुनाव में 2010 के विधानसभा चुनाव में हुए मतदान का रिकॉर्ड टूट गया.2010 के विधानसभा चुनाव में इन जिलों की इतनी ही सीटों पर औसत 50.85 फीसदी वोट पड़े थे. इस बार इन सीटों पर वोट का प्रतिशत 57 रहा. पिछले चुनाव की तुलना में यहां इस बार 6. 15 फीसदी ज्यादा वोट डाले गये. इनमें महिला वोटरों की तादाद 59.5 और पुरुषों की 54.5 फीसदी रही. महिलाओं ने पिछले चुनाव में भी मर्दो की अपेक्षा बढ़-चढ़कर मतदान में हिस्सा लिया था.
हालांकि चुनाव आयोग वोट प्रतिशत को बढ़ाकर 70 फीसदी तक ले जाने के लिए वोटरों के बीच जागरुकता अभियान चला रहा था. इन दस सीटों पर चुनाव के ट्रेंड को देखने से पता चलता है कि यहां एनडीए और महागंठबंधन के बीच बड़ा मुकाबला रहा. वोट प्रतिशत में इजाफे का बड़ा कारण वोटों के तीखे ध्रुवीकरण को भी माना जा सकता है. पिछले विधानसभा चुनाव में 49 सीटों में से जदयू के खाते में 29, भाजपा को 13, राजद को चार, कांग्रेस, झामुमो और भाकपा को एक-एक सीटें मिली थीं. तब जदयू और भाजपा एक साथ मिलकर चुनाव लड़ रहे थे.सबसे ज्यादा मतदान खगड़िया जिले की चार सीटों पर रिकॉर्ड किया गया.
इस जिले की चारों सीटों पर पिछले चुनाव में जदयू की जीत हुई थी. सोमवार को हुए मतदान में यहां 61.32 फीसदी वोट पड़े, जबकि 2010 के चुनाव में इन चारों सीटों पर औसतन 57 फीसदी ही वोट पड़े थे. समस्तीपुर में भी 60 फीसदी वोट पड़े. दस जिलों में भागलपुर जिले की सात सीटों पर 48.57, लखीसराय की दो सीटों पर 47.40 और नवादा की पांच सीटों पर 46.91 फीसदी वोट डाले गये. बाकी सात जिलों में मतदान का औसत इन तीन जिलों की तुलना में अधिक रहा.
लखीसराय जिले में दो सीटें हैं और बीते चुनाव में इन दोनों पर भाजपा को कामयाबी मिली थी. भागलपुर में कम वोटिंग प्रतिशत अबूझ पहेली बनी हुई है. बीते चुनाव में वहां की सात सीटों में से तीन-तीन पर भाजपा व जदयू तथा एक पर कांग्रेस को कामयाबी हासिल हुई थी. हालांकि भागलपुर सीट पर अश्विनी चौबे के लोकसभा के लिए निर्वाचित होने के बाद हुए उप चुनाव में कांग्रेस के अजित शर्मा ने जीत दर्ज की थी.
माओवादियों के वोट बहिष्कार की अपील को नकार कर नौ सीटों पर वोटरों ने भारी मतदान किया.जमुई जिले की चार विधानसभा सीटों पर मतदान का प्रतिशत 55 से 59.5 प्रतिशत के बीच रहा. उस जिले में मतदान का ओवरऑल प्रतिशत रहा 56.85. इसी तरह नक्सलग्रस्त अन्य पांच सीटों पर भी मतदान का प्रतिशत अधिक रहा. मतदान खत्म होने के बाद महागंठबंधन और एनडीए अपने-अपने तरीके से इसका िवश्लेषण कर रहा है. वोिटंग प्रतिशत में बढ़ोतरी का लाभ िकस दल को िमला यह तो आठ नवंबर को ही पता चल पायेगा.
समस्तीपुर
गड़बड़ी के आरोप में अधिकारी हिरासत में
समस्तीपुर : कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच सोमवार को जिले के सभी दस विधानसभा क्षेत्रों में मतदान शांतिपूर्ण रहा. प्रशासनिक आंकड़े के मुताबिक रिकार्डतोड़ 60 प्रतिशत से अधिक मतदाताओं ने इस चुनाव में अपने मताधिकार का प्रयोग किया.
समस्तीपुर व हसम में सबसे कम 56 प्रतिशत व सरायरंजन में सबसे अधिक 63 फीसदी मतदान हुआ. सुबह सात बजे जिले के सभी 2496 मतदान केंद्रों पर वोटिंग आरंभ हुई. इसके साथ ही 39 स्थानों पर इवीएम ने दगा दे दिया. कड़ी भाग दौड़ के बाद प्रशासन ने इन मतदान केंद्रों पर इवीएम को बदला. इसके कारण आधे से डेढ घंटे तक विभिन्न मतदान केंद्रों पर मतदान कार्य बाधित रहा.
जिलाधिकारी प्रणव कुमार के अलावा अलग अलग विधानसभा के लिए प्रतिनियुक्त प्रेक्षक भी विभिन्न मतदान केंद्रों का जायजा लेते रहे. इस क्रम में मोरवा विधानसभा क्षेत्र के बूथ संख्या 125 पर मतदान कार्य में जुटे पी 3 पदाधिकारी राम विलास महतो को प्रेक्षक ने मतदाता को इशारा करने के कारण हिरासत में लेने का आदेश दिया.बाद में इनके विरूद्ध प्राथमिकी भी दर्ज करायी गयी.
नगर और मुफस्सिल थाना क्षेत्र के अलग अलग मतदान केंद्र के आसपास मंडरा रहे पांच लोगों को हिरासत में ले लिया. संध्या पांच बजे मतदान समाप्ति के बाद मतदान का परिदृश्य सामने आया है उससे पता चल रहा है कि आरंभ में मतदाताओं का वोट के प्रति रुझान अच्छा था. लेकिन जैसे जैसे दिन चढने लगा वोट का प्रतिशत गिरता चला गया. हालांकि संध्या 3 बजे के बाद मतदान ने रफ्तार पकड़ लिया.
भागलपुर
कई बूथों पर बहिष्कार के बीच शांतिपूर्ण वोट
भागलपुर : विधानसभा चुनाव के पहले चरण में मतदान शांतिपूर्ण हुआ. जिला कंट्रोल रूम में 112 शिकायतें इवीएम खराबी सहित अन्य मामलों को लेकर मिली.
भागलपुर विधानसभा क्षेत्र में 20 वीवीपैट खराब होने के कारण बदलना पड़ा. सात पोलिंग एजेंट को संबंधित मतदान केंद्र का वोटर नहीं रहने के कारण हिरासत में लिया गया. गोपालपुर विधानसभा क्षेत्र के इस्माईलपुर भिट्ठा पूर्वी के मध्य विद्यालय इस्माईलपुर भिट्ठा में बने मतदान केंद्र संख्या 234, 235, 236 व 237 पर मतदाताओं ने वोट बहिष्कार किया.
बिहपुर विधानसभा क्षेत्र के विक्रामपुर, गौरीपुर, दयालपुर व जयरामपुर के बूथों पर इवीएम खराब हो गये थे. अमरपुर व नरकटिया में बोगस वोट देते तीन लोगों को पकड़ा गया, जिन्हें पुलिस ने पीटा भी.
पीरपैंती विधानसभा क्षेत्र के मधुबन में बूथ नंबर 150 व 151 पर मतदाताओं ने वोट बहिष्कार कर दिया. नाथनगर विधानसभा क्षेत्र के बूथ संख्या 48 व 62 पर इवीएम खराब होने के कारण आधे घंटे देर से मतदान शुरू हुआ. प्राणपुर गांव के लोगों ने गांव में बिजली नहीं होने के कारण वोट बहिष्कार किया. पंचानन झा हाइस्कूल में लोगों ने वोट का बहिष्कार कर दिया. वजह बूथ का गांव से दूर होना था.
नवादा
हिसुआ में दो गुटों के बीच झड़प, तनाव
नवादा : जिले के कुल 1533 मतदान केंद्रों पर करीब 53 फीसदी वोटरों ने मतदान किये. जिला प्रशासन द्वारा मतदान को मोटे तौर पर शांतिपूर्ण माना जा रहा है. कहीं छिटपुट झड़प और रोड़ेबाजी की घटनाएं भी हुई हैं, पर उससे मतदान की प्रक्रिया पर कोई ज्यादा असर नहीं पड़ा. मतदान शुरू होते ही करीब दो दर्जन बूथों पर इवीएम मशीनों के खराब होने की सूचना मिलने लगी है.
वीवीपैट मशीनें भी कई जगह खराब पायी गयीं. इससे कई बूथों पर मतदान में देरी हुई. हिसुआ के अकबरपुर इलाके में स्थित महेशडीह के पास एक जगह मतदान केंद्र पर बूथ लूटे जाने की आशंका के मद्देनजर तनाव व्याप्त हो गया. एक ही गांव के दो समूह आमने-सामने आ गये. बातबिगड़ी तो रोड़ेबाजी भी शुरू हो गयी. हालांकि प्रशासनिक तत्परता से तुरंत स्थिति को नियंत्रित कर लिया गया.
बेगूसराय
महिलाओं में दिखा मतदान का उत्साह
बेगूसराय : सात विधानसभा क्षेत्रों में मतदान कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच संपन्न हो गया. मतदान संपन्न होने के बाद जिला निर्वाची पदाधिकारी सह जिला पदाधिकारी सीमा त्रिपाठी ने बताया कि कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की कोई सूचना नहीं है.
जिले के सात विधानसभा क्षेत्रों के 1753 मतदान केंद्रों पर कड़ी सुरक्षा के बीच मतदान हुआ संपन्न हुआ़ सुबह से ही बूथों पर पुरुष व महिलाओं की भीड.
लगी रही़ नवविवाहिताएं घूंघट में निकली और अपने मताधिकार का प्रयोग किया. वोट देने आयीं ़ बरौनी प्रखंड के प्राथमिक विद्यालय, मालती में बने बूथ पर वोट देने आयीं रानी ने कहा कि ससुराल आने के बाद पहली बार वोट दे रही हूं
वहीं, सोमवारी अमावस्या के कारण महिलाओं ने पहले पूजा की फिर वोट डाले़ इधर बखरी विधानसभा क्षेत्र स्थित राटन के बभई गांव के लोगों ने पुल नहीं, तो वोट नहीं देने के नारे के साथ वोट का बहिष्कार किया़ वहीं, साहेबपुरकमाल में मतदान कराने आये एक जवान की मौत तबीयत खराब होने से रविवार की रात हो गयी़ जिला निर्वाचन पदाधिकारी ने बताया कि में 146 बेगूसराय विधानसभा क्षेत्र में 18 इवीएम में खराबी आने के बाद उसे बदला गया.
मुंगेर
शहर में दो गुटों में झड़प
मुंगेर : जिले के दर्जनों मतदान केंद्र पर इवीएम में तकनीकी खराबी के कारण एक से दो घंटे विलंब से मतदान प्रारंभ हुआ. जबकि तारापुर विधानसभा क्षेत्र के मुश्कीपुर के मतदाताओं ने रोड नहीं तो वोट नहीं का नारा देते हुए मतदान में भाग नहीं लिया. मुंगेर शहर के प्राथमिक शिक्षक संघ भवन मतदान केंद्र पर दो गुटों में जमकर झड़प हुई. जहां पुलिस को बल प्रयोग करना पड़ा.
शहर के नीलम चौक स्थित प्राथमिक शिक्षक संघ भवन मतदान केंद्र संख्या 40, 41, 42, 43 बूथ पर वोकस वोटिंग का विरोध करने के कारण दो गुटों में मारपीट व झड़प हुई. मामले को शांत करने के लिए बल प्रयोग करना पड़ा. जमालपुर विधानसभा क्षेत्र में भी दर्जन भर मतदान केंद्रों पर इवीएम मशीन में तकनीकी खराबी के कारण मतदान प्रभावित हुआ. वहीं हरि सिंह सभा नयागांव मतदान केंद्र संख्या 135, 136 एवं 137 पर गुप्त मतदान की धज्जियां उड़ रही थी.
खगड़िया
रचा इतिहास, रिकॉर्ड वोटिंग
खगड़िया : एक बार फिर जनता ने लोकतंत्र मंे विश्वास दिखाते हुए मतदान के सारे पुराने रिकार्ड तोड़ दिये. इसके साथ ही भविष्य की उम्मीदें भी जगा गयी. इधर, मतदान संपन्न होने के साथ ही जिले के चारों विधानसभा खगडि़या, परबत्ता, बेलदौर, अलौली से भाग्य आजमा रहे 48 प्रत्याशियों के भाग्य इवीएम में बंद हो गये.
कई मतदान केंद्रों पर इवीएम मंे खराबी के कारण देर से मतदान शुरू हुआ. सदर विधानसभा क्षेत्र के जेएनकेटी स्थित बूथ संख्या 124 व नगर परिषद बूथ संख्या 126, आर्य कन्या उच्च विद्यालय मतदान केंद्रों पर ईवीएम की खराबी के कारण आधे घंटे के देर से मतदान शुरू हुआ. जबकि बेलदौर विधानसभा क्षेत्र के ही पिपरा पंचायत के लक्ष्मनियां गांव मंे मतदान के दौरान दो पक्षों के बीच झड़प होने की सूचना है. एहतियात के तौर पर छह लोगों की गिरफ्तारी व एक वाहन के जब्ती की गयी.
लखीसराय
सुरक्षा की कड़ी व्यवस्था में पड़े वोट
लखीसराय : नक्सल प्रभावित सूर्यगढ़ा विधानसभा क्षेत्र में मतदान सुबह सात बजे से शुरू हुआ और अपराह्न तीन बजे तक चला. वहीं लखीसराय विधानसभा क्षेत्र में मतदान सुबह सात बजे से शुरू हुआ और शाम पांच बजे तक संपन्न हुआ.
सूर्यगढ़ा विधानसभा क्षेत्र के पिपरिया प्रखंड अंतर्गत राहटपुर गांव में सड़क नहीं, तो वोट नहीं का नारा देते हुए वोट का बहिष्कार किया. कुछ जगहों पर इवीएम में खराबी की वजह से मतदान बिलंब से शुरू हुआ.
सूर्यगढ़ा प्रखंड मुख्यालय में मध्य वि जकड़पुरा जगदीशपुर स्थित बूथ संख्या 51 में इबीएम मशीन में खराबी की वजह से मतदान 45 मिनट बाद 7.45 बजे से शुरू हो पाया. चानन प्रखंड के
जानकी डीह दक्षिण भाग स्थित मतदान केंद्र संख्या 271 में इवीएम में खराबी की वजह से मतदान एक घंटा विलंब से शुरू हुआ. धर्मरायचक स्थित बूथ संख्या 134 पर ईवीएम में गड़बड़ी के कारण अपराह्न एक बजे आधा घंटा मतदान बाधित रहा.
शेखपुरा
पक्षपात के आरोप में हटे पीठासीन अफसर
शेखपुरा : केंद्रीय अर्धसैनिक बलों के संगीनों के साये में जिले के दोनों विधान सभा क्षेत्रों में मतदान शांतिपूर्ण सम्पन्न हो गया़ मतदान शुरू होते ही खराब हो गये 15 इवीएम मशीन को तुरंत बदला गया़ इसमें 11 बरबीघा तथा 04 शेखपुरा विधान सभा क्षेत्र के थे़ शेखपुरा विधानसभा क्षेत्र के दो मतदान केंद्र पर पक्षपात करते पाये जाने पर दोनों पीठासीन पदाधिकारी को बदल दिया गया़
शेखपुरा विधानसभा क्षेत्र के 15 मतदान केंद्र पर वोट बहिष्कार के घोषणा को वापस लेते हुए तीन घंटे बाद ग्रामीण मतदान के लिए उपस्थित हुए, परंतु बरबीघा विधान सभा क्षेत्र के लक्षणा गांव में अधिकारियों के मान मनौव्वल के बाद में ग्रामीण सड़क की मांग को लेकर वोट बहिष्कार की घोषणा पर अडिग ही रह गये़ मतदाता बिना किसी भय या दबाव के साथ उत्साह के साथ मतदान करने के लिए बड़ी संख्या में घर से बाहर निकले, मतदाता को नहीं ले किसी प्रत्याषी का दबाव था, और नहीं कहीं से अपराधी का भय देखा जा रहा था़
बांका
दो दर्जन बूथों पर देर से मतदान
बांका : जिले के दो विधान सभा क्षेत्र नक्सल प्रभावित होने के कारण वहां पर मतदान सुबह सात बजे से शुरू होकर शाम चार बजे संपन्न हुआ. इन क्षेत्रों में किसी भी प्रकार की कोई अप्रिय घटना की सूचना नहीं है.
वहीं तीन विधान सभा क्षेत्र बांका, अमरपुर एवं धोरैया में मतदान सात बजे से शाम पांच बजे तक हुआ. बांका विधान सभा को छोड़ कर सभी विधान सभा में कुछ एक मतदान केंद्र पर 10 मिनट विलंब से मतदान शुरू हुआ. अधिकतर मतदान केंद्रों पर भी वी पैट मशीन में समस्या आने के कारण लगभग दो दर्जन मतदान केंद्रों पर विलंब से मतदान शुरू हुआ.
मतदान केंद्र संख्या 131 पर मतदाता देर से मतदान शुरू होने के कारण उग्र हो गये और मात्र आठ मतदाता ने ही मतदान किया. इसके बाद ग्रामीणों में वोट का बहिष्कार कर दिया. शहर के मतदान केंद्र संख्या 34 अभ्यास मध्य विद्यालय में दो घंटा चालीस मिनट विलंब से मतदान शुरू हुआ. बांका विधान सभा में बूथ संख्या 98 पर मतदाताओं ने वोट बहिष्कार किया.
जमुई
चकाई में प्रत्याशी पर हमला
जमुई : जिले के चारों विधानसभा क्षेत्रों में सभी मतदान केंद्र पर महिला व पुरुष की अच्छी खासी लंबी कतार देखी गयी. कुछ जगहों पर झड़प व इवीएम मशीन खराब होने के कारण देर से मतदान शुरू होने की बात भी सामने आयी.
सिकंदरा विधानसभा क्षेत्र के आठ बूथों पर ईवीएम की तकनीकी गड़बड़ी की वजह से आधा घंटा विलंब से मतदान शुरू हुआ. उत्क्रमित मध्य विद्यालय देवलाटांड में सत्तार मियां नामक एक व्यक्ति के गायब रहने के वजह से लोगों ने तीन घंटे तक मतदान को बाधित रखा. सोनो प्रखंड क्षेत्र के महेश्वरी गांव से पश्चिम बहियार में लोजपा प्रत्याशी विजय सिंह और एक दल विशेष के समर्थकों के बीच झड़प और गोलीबारी भी हुई. लोजपा प्रत्याशी विजय सिंह ने कहा कि उन्हें सूचना मिली िकबूथ पर उनके मतादाताओं को परेशान किया जा रहा है.
वह महेश्वरी गांव पहुंचे. वह निकल गये लेकिन गांव से बाहर जागीजोर के पास पहले से घात लगाये एक दर्जन युवकों ने उन्हें रोकने का प्रयास करते हुए फायरिंग शुरू कर दिया.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें