28.1 C
Ranchi

BREAKING NEWS

Advertisement

H3N2 Virus in India: एच3एन2 वायरस से घबराएं नहीं, सावधानी बरतें, जानें क्या कहते हैं विशेषज्ञ

H3N2 Virus in India: आईडीएसपी-आईएचआईपी (इंटीग्रेटेड हेल्थ इन्फॉरमेशन प्लेटफॉर्म) पर उपलब्ध ताजा आंकड़ों के अनुसार, नौ मार्च तक इंफ्लूएंजा के विभिन्न स्वरूपों के 3,038 मामले सामने आये हैं, जिनमें एच3एन2 के मामले भी शामिल हैं.

H3N2 Virus in India: भारत में मौसमी इंफ्लूएंजा के सब-वैरिएंट एच3एन2 के मामले बढ़ रहे हैं लेकिन इससे घबराने की जरूरत नहीं है. विशेषज्ञों ने कहा है कि इस वायरस से बचाव के लिए सतर्कता बढ़ाने और एहतियाती कदम उठाने की आवश्यकता है. अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र (सीडीसी) के अनुसार, एच3एन2 एक ऐसा इंफ्लूएंजा वायरस है जो आमतौर पर सूअरों से मनुष्यों में फैलता है. इसके लक्षण मौसमी फ्लू वायरस के समान होते हैं. इसमें बुखार और खांसी एवं बलगम समेत श्वसन संबंधी समस्या के लक्षण दिखाई देते है. इसके अलावा कुछ मरीजों को शरीर में दर्द, मतली, उल्टी या दस्त सहित अन्य समस्याएं भी होती हैं.

एच3एन2 की कोई बड़ी लहर नहीं आएगी

आपको बता दें कि कुछ लोगों को आशंका है कि यह कहीं कोरोना संक्रमण की तरह एक और संक्रमण नहीं हो, लेकिन पल्मोनोलॉजिस्ट अनुराग अग्रवाल ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि इसकी कोई बड़ी लहर आएगी. ‘अपोलो हॉस्पिटल’ के इंटरनल मेडिसिन विभाग में वरिष्ठ सलाहकार तरुण साहनी ने कहा कि अस्पताल में भर्ती होना बहुत आम नहीं है और केवल पांच प्रतिशत मरीजों के ही अस्पताल में भर्ती होने की सूचना मिली है. साहनी ने कहा कि अभी घबराने की आवश्यकता नहीं है और कोविड के समय की तरह की सावधानी बरतने की जरूरत है.

संक्रमण रोग प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने में मदद

‘इंडियन नेशनल यंग एकेडमी ऑफ साइंस’ (आईएनवाईएएस) की पूर्व छात्र और ‘ग्लोबल यंग एकेडमी’ (जीवाईए) की सदस्य उपासना रे ने कहा कि लॉकडाउन और लंबी अवधि के लिए मास्क के व्यापक उपयोग ने वायरस के अधिक खतरनाक उपस्वरूपों के संक्रमण को नियंत्रित करने में मदद की, लेकिन इसने नियमित रूप से होने वाले श्वसन संबंधी मौसमी वायरस संक्रमण से भी सुरक्षा प्रदान की, जबकि ये संक्रमण रोग प्रतिरोधी क्षमता बढ़ाने में मदद करते हैं.

Also Read: H3N2 वायरस : बिहार सरकार ने रैपिड रिस्पॉन्स टीम सक्रिय रखने का दिया निर्देश, जानें इसके लक्षण
रोग प्रतिरोधी क्षमता खत्म हो गयी

विषाणुविज्ञानी रे ने कहा कि कम से कम दो साल तक मास्क के व्यापक उपयोग के कारण लोगों में श्वसन संबंधी समस्या से जुड़े वायरस के अन्य स्वरूपों के खिलाफ भी रोग प्रतिरोधी क्षमता खत्म हो गयी. अशोका विश्वविद्यालय में त्रिवेणी स्कूल ऑफ बायोसाइंसेस के डीन अनुराग अग्रवाल ने कहा कि लोगों में फ्लू के खिलाफ आम तौर पर रोग प्रतिरोधी क्षमता होती है और इसके वैक्सीन भी उपलब्ध है, इसलिए मुझे किसी बड़ी लहर की आशंका नहीं है, लेकिन हां, सभी संक्रमण और उनसे होने वाली मौत कुछ चिंता का कारण तो हैं.

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

Advertisement

अन्य खबरें