1. home Hindi News
  2. business
  3. epf news epfo may deposit interest on deposits for 2020 21 meeting will be held in srinagar on march 4 vwt

2020-21 के लिए जमा पर ब्याज जमा कर सकता है ईपीएफओ, 4 मार्च को श्रीनगर में होगी बैठक

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
श्रीनगर में होगी ईपीएफ न्यासी बोर्ड की बैठक.
श्रीनगर में होगी ईपीएफ न्यासी बोर्ड की बैठक.
प्रतीकात्मक फोटो.
  • अभी तक तय नहीं की गई है पीएफ जमा पर ब्याज दर

  • वर्ष 20219-20 के लिए 8.5 फीसदी तय की गई थी ब्याज

  • 2015-16 के लिए 8.8 फीसदी से घटकर 20219-20 में 8.5 फीसदी हो गया ब्याज

EPF News : सेवानिवृत्ति कोष प्रबंधन निकाय ईपीएफओ वित्त वर्ष 2020-21 के लिये भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर की घोषणा चार मार्च को कर सकता है. 4 मार्च 2021 को कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के केंद्रीय न्यासी मंडल की श्रीनगर में बैठक है. इस बैठक में 2020-21 के लिए ब्याज दर की घोषणा करने के प्रस्ताव पर फैसला किये जाने की संभावना है.

ईपीएफओ के एक न्यासी केई रघुनाथन ने समाचार एजेंसी पीटीआई-भाषा से कहा कि उन्हें न्यासियों के केंद्रीय बोर्ड की अगली बैठक श्रीनगर में चार मार्च को होने की सूचना सोमवार को मिली. बैठक का एजेंडा शीघ्र ही भेजा जाने वाला है. उन्होंने कहा कि बैठक की सूचना से संबंधित मेल में 2020-21 के लिए ब्याज दर पर चर्चा का कोई उल्लेख नहीं है. इस बात की अटकलें हैं कि ईपीएफओ इस वित्त वर्ष (2020-21) के लिए भविष्य निधि जमा पर ब्याज दर घटा सकता है, जो 2019-20 के लिए 8.5 फीसदी थी.

दरअसल, कोरोना वायरस महामारी के चलते चालू वित्त वर्ष के दोरान पीएफ से सब्सक्राइबर्स ने निकासी ज्यादा की और योगदान कम हुआ. पिछले साल मार्च में ईपीएफओ ने पीएफ जमा पर ब्याज दरें घटाकर 2019-20 के लिए 8.5 फीसदी कर दी थी. बीते सात साल में यह सबसे कम ब्याज है. इससे पहले 2012-13 में ब्याज दरें 8.5 फीसदी पर थीं. 2018-19 में पीएफ जमा पर सब्सक्राइबर्स को 8.65 फीसदी ब्याज मिला था.

ईपीएफओ ने सब्सक्राइबर्स को 2016-17 के लिए पीएफ जमा पर 8.65 फीसदी, 2017-18 के लिए 8.55 फीसदी और 2015-16 के लिए 8.8 फीसदी ब्याज दिया था. 2013-14 में पीएफ जमा पर 8.75 फीसदी का ब्याज मिलता था, जोकि 2012-13 के 8.5 फीसदी से अधिक था.

Posted By : Vishwat Sen

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें