टाटा वर्कर्स यूनियन: पीएन सिंह के विकल्पों पर विचार

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

जमशेदपुर: टाटा वर्कर्स यूनियन के अध्यक्ष पीएन सिंह एक अक्तूबर से रिटायर होने वाले हैं. 30 सितंबर को अध्यक्ष का टाटा स्टील में कर्मचारी (सुपरवाइजरी ग्रेड) के तौर पर अंतिम दिन होगा. उनके रिटायरमेंट से एक बार फिर से यूनियन में संवैधानिक संकट उत्पन्न हो जायेगा. इसको लेकर विपक्ष की तैयारी में जुट गया है. सत्ता पक्ष की ओर से इस संकट को टालने का प्रयास किया जा रहा है.

सारे विकल्पों पर विचार किया जा रहा है. पीएन सिंह का जन्म 12 सितंबर 1953 को है. नियमत: वे साठ साल के 2013 में ही हो चुके हैं, लेकिन वे एक साल के मेडिकल एक्सटेंशन (नियमत:) पर काम कर रहे हैं. इस लिहाज से देखा जाये तो वे 12 सितंबर 2014 को 61 साल के हो जायेंगे और कंपनी के नियम के मुताबिक, पूरे माह भर वे नौकरी पर रहेंगे और एक अक्तूबर को रिटायर करेंगे. ऐसे में अगर कंपनी उनको वर्तमान व्यवस्था (कांट्रैक्ट या अस्थायी नहीं) में ही एक्सटेंशन दे देती है तो ठीक नहीं तो को-ऑप्शन करना भी मुश्किल हो सकता है.

वोकाजन व एसबीआइ का फैसला संभव
सुप्रीम कोर्ट की ओर से वोकाजन सीमेंट और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के मामले में अलग-अलग फैसला आया है. इन फैसले में यह कहा गया है कि कार्यकाल समाप्त होने तक अध्यक्ष या कोई भी पदाधिकारी बना रह सकता है.

एसएन सिंह को मिल चुका है एक्सटेंशन. टाटा वर्कर्स यूनियन के पूर्व महासचिव एसएन सिंह को एक्सटेंशन कांट्रैक्ट के आधार पर दिया गया था. फिर भी उस वक्त अध्यक्ष रहते हुए रघुनाथ पांडेय ने वोकाजन सीमेंट के आदेश को आधार बनाते हुए उनको महासचिव के पद पर बनाये रखा था.

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें