हजारीबाग : बहन से प्रेम करना नागवार गुजरा पिंटू को, संत कोलंबा कॉलेज के विशाल की चाकू घोंप कर दी हत्या

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
हजारीबाग : प्रेम प्रसंग में मार्खम कॉलेज के इंटर के छात्र पिंटू कुमार ने अपने ही कॉलेज के सीनियर छात्र विशाल की चाकू घोंप कर हत्या कर दी. घटना शुक्रवार दोपहर दो बजे संत कोलंबा कॉलेज कैंपस स्थित यूनाइटेड बैंक के पास घटी. छात्रों ने आरोपी को पकड़ पुलिस के हवाले कर दिया. मृतक विशाल कटकमदाग के कूद निवासी अर्जुन साव का इकलौता पुत्र था. आरोपी पिंटू भी उसी गांव का रहनेवाला है. िवशाल अपनी प्रेमिका और संत कोलंबा कॉलेज पार्ट वन की छात्रा को उसका आइकार्ड देने कॉलेज आया था.
इसी बीच प्रेमिका के भाई पिंटू की नजर विशाल पर पड़ी और उसने सीने और पेट में चाकू घोंप कर विशाल की हत्या कर दी. कोर्रा पुलिस के अनुसार, पिंटू को अपनी बहन से विशाल का प्रेम करना नागवार गुजरा और उसने उसकी हत्या कर दी. विशाल ने इसी साल ग्रेजुएशन किया था. उसके पिता अर्जुन साव ने कहा कि चार बहनों का इकलौता भाई था विशाल. सदमे के कारण परिवार का कोई सदस्य कुछ बोलने की स्थिति में नहीं था.
छात्रा ने कहा- आइ कार्ड लेकर आया था विशाल, भाई ने कर दी हत्या
संत कोलंबा कॉलेज की छात्रा और विशाल की प्रेमिका ने कोर्रा टीओपी प्रभारी रामाशंकर मिश्रा को बताया कि उसके और विशाल के बीच तीन साल से प्रेम प्रसंग था. इस संबंध के बारे में दोनों परिवार के लोग जानते थे. उसने कहा कि उसका भाई पिंटू ने विशाल की हत्या क्यों कर दी, उसे कुछ समझ नहीं आ रहा. उसने कहा कि कुछ दिन पहले उसने अपना बर्थडे विशाल के सेलिब्रेट किया था. उस दिन मेरा आइकार्ड विशाल के पास रह गया था.
शुक्रवार को वह बीए पार्ट वन का फॉर्म भरने कॉलेज गयी थी. उसका आइकार्ड विशाल के पास था. परीक्षा फार्म चालान जमा करने के लिए आइकार्ड की जरूरत पड़ी, तो उसने फोन कर विशाल से आइकार्ड संत कोलंबा कॉलेज लाने को कहा. विशाल आइ कार्ड लेकर कॉलेज आया. बैंक परिसर के पास उसने मुझे आइकार्ड दिया. इसी बीच मेरा भाई विशाल चाकू लेकर आया और विशाल का कॉलर पकड़ लिया. इसके बाद घसीटते हुए उसे एक कोने में ले गया. इसके बाद चाकू घोंप कर विशाल की हत्या कर दी.
पीसीआर वैन के पुलिसकर्मियों पर फुटा गुस्सा
जिस वक्त आरोपी छात्र सीनियर छात्र को चाकू घोंप कर मार रहा था. उस वक्त घटनास्थल से महज 50 कदम की दूरी पर पीसीआर वैन खड़ी थी. कॉलेज परिसर में भगदड़ मच गयी, लेकिन पीसीआर वैन के पुलिस कर्मी गाड़ी से नीचे नहीं उतरे. पुलिस अगर तत्परता दिखाती तो विशाल की जान बच सकती थी. कॉलेज के छात्रों ने ही हिम्मत दिखा कर आरोपी छात्र को पकड़ कर एक कमरे में बंद कर दिया.
इसके बाद घटनास्थल पर पहुंची पुलिस को आरोपी को सौंप दिया. यदि पीसीआर के पुलिसकर्मी समय पर विशाल को अस्पताल पहुंचाते तो हो सकती है उसकी जान बच जाती. लोगों और विद्यार्थियों में पीसीआर वैन के पुलिसकर्मियों के खिलाफ काफी नाराजगी दिखी.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें