1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. bokaro
  5. united front wants to end coal india hindi news prabhat khabar coal india strike labour union

कोल इंडिया को खत्म करना चाहती है सरकार : संयुक्त मोर्चा

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
कोल इंडिया को खत्म करना चाहती है सरकार  : संयुक्त मोर्चा
कोल इंडिया को खत्म करना चाहती है सरकार : संयुक्त मोर्चा
Prabhat Khabar

फुसरो : संयुक्त ट्रेड यूनियन मोर्चा की ओर से तीन दिवसीय हड़ताल को लेकर बुधवार को अलग-अलग प्रेस कॉन्फ्रेंस की गयी. ढोरी कैंटिन में पत्रकारों से बातचीत में यूसीडब्ल्यूयू के महामंत्री व जेबीसीसीआइ सदस्य लखनलाल महतो ने कहा कि संयुक्त मोर्चा की यह हड़ताल ऐतिहासिक होगी. सरकार कॉमर्शियल माइनिंग को मंजूरी देकर कोल इंडिया को खत्म करना चाहती है. पूर्व में आवंटित 110 कोल ब्लॉक को रद्द किया जाये.

गिरिजाशंकर पांडेय राजेश कुमार सिंह, रवींद्र कुमार मिश्रा, भागीरथ शर्मा, हीरालाल मांझी व सूरज महतो ने कहा कि यह सरकार देश व मजदूरों को उलझाना चाहती है. सरकार लॉकडाउन का फायदा उठाकर कॉमर्शियल माइनिंग लाना चाह रही है. मौके पर जवाहर लाल यादव, शिवनंदन चौहन, आर उनेश, कैलाश ठाकुर, सुरेंद्र सिंह, जयनारायण महतो, घूनू हांसदा, भीम महतो, गोवर्धन रविदास, महेंद्र चौधरी, मधु पासवान, विरन लौहार, भोलू खान, मदन महतो, दीपक महतो, सूरज, एमडी अख्तर, भीम महतो आदि मौजूद थे.

इधर, करगली ऑफिसर्स क्लब में हुई प्रेस वार्ता में श्यामल कुमार सरकार, सुजीत कुमार घोष, अरुण कुमार सिंह, ओम प्रकाश सिंह, सुशील कुमार सिंह, हीरालाल मांझी, गणेश प्रसाद महतो, विजय भोइय, आभाष गांगुली आदि ने कहा कि कोल इंडिया में किसी कीमत पर कॉमर्शियल माइनिंग लागू नहीं होने देंगे. सुबोध सिंह पवार, गजेंद्र प्रसाद सिंह, खुर्शीद आलम, अकबर अली, संतोष प्रसाद सिन्हा, संतोष ओझा, वीरेंद्र तिवारी, संजय पांडेय, प्रदीप नंदी, जयनारायण महतो, बिनोद कुमार, संजय सिंह, शंकर नायक आदि मौजूद थे.

माकपा करेगी हड़ताल का समर्थन : गोमिया. माकपा के गोमिया प्रखंड सचिव राकेश कुमार ने स्वांग स्थित पार्टी कार्यालय में कहा कि कोयला उद्योग में हड़ताल को पार्टी समर्थन करेगी. कोलियरियों के निजीकरण के खिलाफ शुरू से ही पार्टी संघर्ष करती रही है.

दुगदा में संयुक्त मोर्चा ने निकाला बाइक जुलूस : तीन दिवसीय हड़ताल को लेकर दुगदा में संयुक्त ट्रेड यूनियन मोर्चा की ओर से बुधवार को बाइक जुलुस निकाला गया. विभिन्न क्षेत्रों से होकर जुलूस दुगदा मोड़ पहुंचा और नुक्कड़ सभा में तब्दील हो गया. सभा की अध्यक्षता जनता मजदूर संघ के सचिव गुलाब चंद चौहान व संचालन इंटक के अजय कुमार सिंह ने किया़ वक्ताओं ने कहा कि कोयला मजदूर अपनी एकता का परिचय देते हुए सरकार को जवाब दें. सभा को बीएमएस के एसके मिश्रा, घुरन प्रसाद, एटक के अध्यक्ष साहेब राम मांझी, सचिव आसनी मांझी, जमसं बच्चा गुट के सचिव रजनीकांत मिश्रा, सहायक सचिव प्रदीप महतो, सीटू के अध्यक्ष धनेश्वर सोरेन, सत्यनारायण महतो ने भी संबोधित किया.

कथारा : संयुक्त मोर्चा ने कई जगह की पिट मीटिंग : कथारा. कोयला उद्योग में तीन दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल को सफल बनाने के लिए कथारा क्षेत्र की सभी शाखाओं में संयुक्त मोर्चा की ओर से मजदूरों के साथ बुधवार को पिट मीटिंग की गयी. कथारा कोलियरी में हुई पिट मीटिंग में बालेश्वर गोप, राजू स्वामी, गणेश गोप, मथुरा यादव, इस्लाम अंसारी, गणेश राम, देवेंद्र यादव, जारंगडीह में वरूण कुमार सिंह, एसबी सिंह दिनकर, कमलेश कुमार गुप्ता, सचिन कुमार, गोविंदपुर परियोजना में रामेश्वर साव, बुधन प्रजापति और स्वांग में विजयानंद प्रसाद, पीके विश्वास, पीडी वर्मन, अर्जुन महतो आदि मौजूद थे.

ऐसे पहुंचा हड़ताल तक मामला :

16 मई : देश की वित्त मंत्री ने कोयला खनन में कॉमर्शियल माइनिंग को मंजूरी का एलान किया. यूनियनों ने इसका विरोध शुरू किया

10-11 जून : कोलकर्मियों ने सभी जीएम कार्यालयों के समक्ष विरोध-प्रदर्श किया गया. मजदूरों ने काला बिल्ला लगा कर काम किया.

14 जून : प्रधानमंत्री द्वारा कोल ब्लॉक नीलामी की प्रक्रिया के उद्घाटन की खबर के बाद बीएमएस, एटक, एचएमस, इंटक और सीटू के नेताओं ने वर्चुअल मीटिंग कर दो से चार जुलाई तक हड़ताल करने का निर्णय लिया.

18 जून : सभी एरिया व कंपनी मुख्यालय पर प्रदर्शन कर कोल सचिव के नाम हड़ताल का नोटिस दिया गया.

26 जून : कोयला मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने यूनियनों के नेताओं के साथ वर्चुअल मीटिंग बुलायी, जिसे यूनियन नेताओं ने ठुकरा दिया.

30 जून : चीफ लेबर कमिश्नर के आदेश पर उप मुख्य श्रमायुक्त ने बैठक बुलायी. इसमें बीसीसीएल, सीसीएल, इसीएल सहित सभी कोयला कंपनियों के डीपी को शामिल होना था. इंटक के दोनों गुट सहित एचएमएस, बीएमएस, सीटू व एटक के प्रतिनिधियों को भी बुलाया गया था. मजदूर यूनियनों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया.

30 जून : कोल सचिव अनिल कुमार जैन ने मजदूर यूनियनों के साथ वर्चुअल मीटिंग की, लेकिन वार्ता विफल रही.

एक जुलाई : कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने मजदूर संगठनों के साथ वर्चुअल मीटिंग की, लेकिन वार्ता विफल रही.

हड़ताल को लेकर प्रबंधन ने बनायी रणनीति : सीसीएल बीएंडके प्रबंधन ने करगली रेस्ट हाउस में बुधवार को पुलिस व सीआइएसएफ के साथ बैठक की. जीएम एमके राव ने कहा कि यदि कोई श्रमिक हड़ताल में शामिल होना चाहता है तो उसे रोका न जाये. कोई श्रमिक नेता अगर किसी परियोजना को बंद कराने या किसी को जबरन हड़ताल में शामिल कराया गया है तो उचित कार्रवाई की जायेगी. जो मजदूर हड़ताल से अलग रह कर ड्यूटी पर जायेंगे, उनकी सुरक्षा के लिए जगह-जगह पर जवानों की तैनाती हो.

सीआइएसएफ व प्रशासन साइडिंग में तैनात रहेंगे, ताकि उपद्रवी तत्वों पर लगाम लगायी जा सके. उपद्रवियों की पहचान के लिए वीडियोग्राफी और फोटोग्राफी भी करायी जायेगी. हड़ताल में शामिल होने वाले मजदूरों का वेतन काटा जायेगा. मौके पर बेरमो थाना प्रभारी सुधीर सुरीन, गांधीनगर थाना प्रभारी पंकज कश्यप, सीआइएसएफ के ददन सिंह, एसओपी प्रतुल कुमार, पीओ तपन कुमार राय, राजीव कुमार सिंह, आलोक कुमार मिश्रा, निखिल अखोरी आदि मौजूद थे.

Post by : Pritish Sahay

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें