राज्य में डेंगू के मरीजों की संख्या में लगातार हो रहा इजाफा और ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स की भारी कमी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : राज्य में डेंगू मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. ये दो केस बता रहे हैं कि इसकी वजह से राजधानी के दो बड़े ब्लड बैंक में प्लेटलेट्स नहीं मिल रहे हैं. रेडक्रॉस में जहां राेज औसतन 30 यूनिट प्लेटलेट्स बनाया जाता है, वहां स्टॉक खत्म हो जा रहा है. बुधवार को जहां 27 यूनिट प्लेटलेट्स बनाया गया और गुरुवार को 12 यूनिट. सभी स्टॉक खत्म हाे गया. यहां के लैब टेक्निशियन अंशुल रंजन ने बताया कि ओ पॉजिटिव और बी पॉजिटिव कॉमन ग्रुप हैं.

इसके प्लेटलेट्स ज्यादा बनते हैं और खत्म भी हो जाते हैं. निगेटिव ग्रुप के प्लेटलेट्स रेयर होते हैं. यही हाल पीएमसीएच के ब्लड बैंक का भी है, वहां भी प्लेटलेट्स की कमी हो जा रही है. पीएमसीएच के ब्लड बैंक को रेगुलर डोनर नहीं मिल रहे हैं, इस कारण यहां सभी ग्रुप्स के प्लेटलेट्स नहीं मिल रहे हैं.
मरीजों का आंकड़ा 1650 तक पहुंचा
अब तक इस मौसम में डेंगू मरीजों का आंकड़ा आधिकारिक तौर पर 1650 के पास पहुंच गया है. वहीं, प्राइवेट अस्पतालों में भी डेंगू मरीजों की संख्या दिन प्रतिदिन बढ़ी है. आंकड़ों को देखें तो जिन जिलों के मरीज ज्यादा मिले हैं. उसमें पटना के सर्वाधिक मरीज हैं. वहीं गया, सीवान, सारण, पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, भागलपुर, कटिहार, नवादा और नालंदा आदि जिले के भी मरीज इसमें शामिल हैं. इसके साथ ही चिकुनगुनिया और जेई मरीजों की संख्या भी बढ़ रही है.
क्या कहते हैं अधिकारी?
कई ग्रुप के होल ब्लड हमें नहीं मिल रहे हैं, इस कारण प्लेटलेट्स की कमी है. यही
कारण है कि डोनर के लाने पर कई ग्रुप के प्लेटलेट्स दिये जा रहे हैं. रेडक्रॉस पूरी क्षमता के साथ काम कर रहा है और हम उसी के अनुसार रोज प्लेटलेट्स बना रहे हैं. हम 30 यूनिट प्रतिदिन प्लेटलेट्स बना रहे हैं.
- देवेंद्र नाथ, मेडिकल अफसर, रेडक्रॉस
डोनर की तो काफी कमी है. जबकि प्लेटलेट्स ताजा खून से ही बनता है. लोगों में प्लेटलेट्स को लेकर कम जानकारी भी है, जबतक 20 हजार प्लेटलेट्स न हो जाये तबतक शरीर को उसकी जरूरत नहीं होती है. लोगों को रक्तदान के लिए आगे आना चाहिए, ताकि अधिक से अधिक
डेंगू मरीजों को प्लेटलेट्स मुहैया करायी जा सके.
- डॉ उपेंद्र सिन्हा, ब्लड
बैंक प्रमुख, पीएमसीएच
रेडक्रॉस में दिन के साढ़े 12
बजे हैं. तारा कुटीर कॉलोनी, बिस्कोमान के रहनेवाले सौरभ प्रशांत की भाभी को डेंगू हो गया है. उन्हें ओ पॉजिटिव ग्रुप के तीन यूनिट प्लेटलेट्स की जरूरत है. वह रेडक्रॉस पहुंचे हैं, यहां उन्हें एक यूनिट प्लेटलेट्स मुहैया कराने की बात कही जाती है. डोनर अनिवार्य देना है. जरूरी होने के कारण उसी ग्रुप के डोनर को बुलाना पड़ा.
धनरूआ के सिम्हारी गांव के सागर कुमार पौने तीन
बजे पीएमसीएच के ब्लड बैंक में लाइन में लगे हुए हैं. उनको अपने पिता जगदीश प्रसाद के लिए ओ निगेटिव ग्रुप का प्लेटलेट्स चाहिए. उन्हें बताया गया कि यहां उपलब्धता नहीं है. आप यदि उसी ग्रुप का डोनर लेकर आयेंगे, उसके बाद खून लेकर प्लेटलेट्स बनाकर मिलेगा.
Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें