नीतीश बोले-किसी की ‘जरूरत’ पूरी की जा सकती है ‘हवस’ नहीं

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

पटना : बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शनिवार को सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर में आयोजित राष्ट्रीय युवा संसद को संबोधित करते हुए कहा कि युवाओं पर ही देश का भविष्य टीका हुआ है. उन्होंने कहा कि अन्य देशों की तुलना में सबसे ज्यादा युवा आबादी हमारे देश में है. बिहार में भी युवा आबादी ज्यादा है. सीएम ने कहा कि बिहार में ऐसे आयोजन होते हैं, तो खुशी होती है. उन्होंने मगध साम्राज्य की चर्चा करते हुए कहा कि उसकी राजधानी पाटलिपुत्र शिक्षा का केंद्र थी. विक्रमशिला, तेलहाड़ा और उतवंतपूरी उसका प्रमाण है. नीतीश कुमार ने जेपी के संपूर्ण क्रांति की चर्चा करते हुए कहा कि जेपी के नेतृत्व में एक बड़ा परिवर्तन आया और लाखों लोग जेल गये. केंद्र में पहली बार गैर कांग्रेसी सरकार बनी. नीतीश ने युवाओं को 1857 की क्रांति में वीर कुंवर सिंह के योगदान और चंपारण सत्याग्रह के बारे में बताया.

उन्होंने कहा कि किसी की जरूरत को पूरा किया जा सकता है, लेकिन किसी की ग्रीड यानी हवस को पूरा नहीं किया जा सकता. उन्होंन यह भी कहा कि बिहार में राजनीतिक चर्चा बहुत होती है. लोग राजनीति में रुचि लेते हैं. गांव की चौपाल हो या फिर चाय की दुकान, सब लोग राजनीति के बारे में जानना चाहते हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि किसी भी सामाजिक अभियान को तब तक कामयाबी नहीं मिल सकती जब तक समाज के लोगों की मानसिकता नहीं बदलती. शराबबंदी की चर्चा करते हुए उन्होंने एक बार फिर कहा कि यह बिहार के लिए बड़ी चुनौती थी, लेकिन लोगों के सहयोग से लगातार कामयाबी मिल रही है.

सीएम ने युवाओं से कहा कि लोगों की मदद नहीं मिलती, तो शराबबंदी के अभियान को लागू करने में सरकार सफल नहीं होती. लोगों की मानसिकता को बदलकर इस पर कामयाबी पायी जा सकती है, यह शराबबंदी ने सिखाया. उन्होंने मानव श्रृंखला की चर्चा करते हुए कहा कि करोड़ों लोगों ने शपथ ली और उसके बाद कई करोड़ लोगों ने मानव श्रृंखला बनायी. लोगों ने शराब सेवन ना करने की शपथ ली, यह बहुत बड़ी बात है. मुख्यमंत्री ने समाज के विकृत मानसिकता के लोगों के बारे में चर्चा करते हुए कहा कि उनकी वजह से ही बाल विवाह और दहेज प्रथा जैसी कुप्रथा फैली है.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें