पारादीप (ओड़िशा) से 814 किमी दूर पहुंचा चक्रवाती तूफान ''बुलबुल’, अरब सागर में और भी विकराल हुआ ''महा''

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नयी दिल्ली: भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने बंगाल की खाड़ी में बने निम्न दाब के कारण चल रही हवाओं की वजह से तटवर्ती राज्य ओड़िशा में भीषण चक्रवात की भविष्यवाणी व्यक्त की है. कहा जा रहा है कि पारादीप (ओड़िशा) से लगभग 810 किलोमीटर दूर दक्षिण-दक्षिणपूर्व में ये हवाएं केंद्रित हो गयी हैं. आशंका व्यक्त की गयी है कि अगले 24 घंटों में ये चक्रवाती तूफान तट से टकराएगा और फिर इसका रूख उत्तर-पश्चिम में बढ़ने के साथ-साथ पश्चिम बंगाल की तरफ केंद्रित हो जाएगा. मौसम विज्ञानियों ने इस तूफान को बुलबुल नाम दिया है.

बंगाल की खाड़ी में बना डीप डिप्रेशन

चक्रवात की वजह से ओड़िशा और पश्चिम बंगाल सहित बंंगाल की खाड़ी के तटवर्ती राज्यों में अगले कुछ दिनों में भारी बारिश होगी. आशंका व्यक्त की जा रही है कि बंगाल की खाड़ी में उठे बुलबुल तूफान की वजह से ओड़िशा और पश्चिम बंगाल में तो बारिश होगी ही, झारखंड में भी इसका असर देखने को मिलेगा. आपको बता दें कि किसी भी निम्न दाब वाली हवाओं के खतरनाक हो जाने का तीन स्तर होता है. हवाएं पहले डिप्रेशन बनाती हैं, फिर डीप डिप्रेशन बनाती हैं और फिर ये चक्रवात में तब्दील हो जाती है.

बुललुब तूफान के बारे में ताजा अपडेट्स के मुताबिक बंगाल की खाड़ी में उठी निम्न दाब की हवाएं डिप्रेशन के बाद अब डीप डिप्रेशन के तौर पर तेज हो गयी हैं. अब ये बंगाल की खाड़ी के तटवर्ती इलाकों से 810 किलोमीटर की दूरी में केंद्रित है. मौसम विज्ञानियों के अनुसार ये फिलहाल डीप डिप्रेशन की स्थिति में अगले छह दिन तक खाड़ी में रहेगा और इतना समय इसके चक्रवात में बदल जाने के लिए काफी है.

ओड़िशा और आंध्र को हिट करेगा तूफान

अभी पूरी तरह से पुष्टि नहीं हो पाई है कि बुलबुल तूफान कहां हिट करेगा लेकिन इसकी गति और कोण को देखते हुए आशंका व्यक्त की जा रही है कि ये ओड़िशा तथा आंध्र के तटवर्ती इलाकों को हिट करेगा. जानकारी के लिए बता दें कि बुलबुल इस साल का सातवां चक्रवाती तूफान होगा. हालांकि इस मानसून के बाद बंगाल की खाड़ी में उठने वाला ये पहला तूफान होगा.

और भी ज्यादा विकराल हो गया महा

उधर अरब सागर में चक्रवाती तूफान महा का खतरा बढ़ता जा रहा है. 120 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से महा तूफान गुजरात और कोंकण तट की तरफ बढ़ रहा है. मौसम विज्ञानियों को कहना है कि अगले कुछ घंटों में गुजरात के तटवर्ती इलाकों सहित कोंकण तट में तेज हवाओं के साथ भारी बारिश होगी. गुजरात में, विशेष कर तटवर्ती इलाकों में रेड अलर्ट जारी किया गया है और मछुआरों को खासतौर पर हिदायत दी गयी है कि वो किसी भी परिस्थिति में समुद्र में ना जाएं.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें