1. home Hindi News
  2. health
  3. dr minu budhia is counseling women caring minds gives psychological help rjh

अपने दोस्त बनें और खुद से करें प्यार, कई समस्याओं का पल में होगा समाधान, डॉ मीनू बुधिया ऐसे कर रही हैं महिलाओं की मनोवैज्ञानिक मदद

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Dr Minu Budhia
Dr Minu Budhia
Caring Minds

केयरिंग माइंड्स एक मनोवैज्ञानिक वेलनेस सेंटर है जहां महिलाओं की काउंसलिंग की जाती है और उन्हें इस बात की सलाह दी जाती है कि वे किस प्रकार खुद को असुरक्षा, आत्मसंदेह से उबार सकती हैं और अपना आत्मसम्मान सुरक्षित रख सकती हैं. महिलाओं की काउंसलिंग मनोचिकित्सक मीनू बुधिया करती हैं.

मीनू बुधिया एक मनोचिकित्सक हैं जो केयरिंग माइंड्स की निदेशक हैं साथ ही परामर्शदाता और संस्थापक हैं. वह टीईडीएक्स की प्रवक्ता व पैटॉन ग्रुप में निदेशक हैं. केयरिंग माइंड्स की स्थापना मीनू बुधिया के नेतृत्व हुई है. यह एक मनोवैज्ञानिक कल्याण केंद्र है, जिसका उद्देश्य ऐसे लोगों की मदद करना है, जिन्हें अपने संपूर्ण भावनात्मक कल्याण के लिए मार्गदर्शन की आवश्यकता है.

खुद को स्वीकारते हुए एक स्वस्थ जीवन जीने का रहस्य यहां बताया जाता है. कभी-कभी, हम सभी को स्वयं को प्रोत्साहित करने के लिए एक गॉडमदर की आवश्यकता होती है और यही काम यह संस्था करती है. यहां कुछ पाठकों के प्रश्नों का उत्तर दिया जा रहा है.

अपने दोस्त बनें और खुद से करें प्यार, कई समस्याओं का पल में होगा समाधान, डॉ मीनू बुधिया ऐसे कर रही हैं महिलाओं की मनोवैज्ञानिक मदद

मुझे लगता है कि मेरे दोस्त मुझसे तभी संपर्क करते हैं जब उन्हें मेरी किसी चीज़ की जरूरत होती है, इसलिए, मैं अपनी भावनाओं को उसके साथ साझा नहीं करती हूं. मैं उनपर विश्वास नहीं कर पाती हूं. इतना ही नहीं, मुझे भी किसी से प्यार हो गया था, लेकिन वो पूरा नहीं हो पाया. इससे मेरा दिल टूट गया और मुझे बहुत अकेलापन महसूस होने लगा. मैं इस अकेलेपन से कैसे निपट सकती हूं?

अपने आप से हमारा रिश्ता सबसे पवित्र होता है क्योंकि यह हर दूसरे रिश्ते को प्रभावित करता है चाहे, दोस्त, परिवार, सहकर्मी और साथी हो. शायद आप बॉलीवुड के इस बात पर यकीन कर लें, लेकिन आप रुबिक्स क्यूब नहीं है. जो किसी अनछुए होने का इंतज़ार कर रहे हों! वास्तव में कोई "मिस्टर राइट" नहीं है जो जादुई रूप से आपके जीवन को सुंदर बना सकता है. वहीं आपके जीवन में ऐसा कोई जादुई मूंवेंट नहीं आ जाएगा, जिससे सबकुछ बदल जाएगा. इसलिए आपको एक साथी के साथ आपको अपनी समस्याओं आदि के बारे में साझा करना चाहिए.

मेरे दिमाग में कई बार बुरे विचार आते रहते हैं, जिसकी वजह से मुझे लगता है मैं हार गया. मैं इस सामान्य नकारात्मकता को कैसे दूर करूं और खुश रहूं?

इस समस्या से निजात पाने के लिए आपको सबसे पहले खुद से प्यार करना होना होगा. सेल्फ लव यानी की स्वयं से प्रेम ही आपके खुशहाल रिश्ते को हमेशा बनाए रखता है. खुद से प्रेम ही हमारे सभी रिश्तों को प्रभाव करता है. इसके अलावा, आप अपने अंदर के नकरात्मक प्रभाव को कम करने के लिए सकरात्मक चीजों को पढ़ें. इतना ही नहीं, आप हेल्दी भोजन ससमय करें और सोशल मीडिया से दूरी बनाने का प्रयत्न करें.

पिछले कुछ वर्षों में लोगों पर विश्वास करने में हिचकिचाहट महसूस कर रही हूं. इस वजह से प्रेम करने में मैं बहुत ही सिलेक्टिव हो गयी हूं. किसी के करीब आने में भी मुझे डर लगता है इस समस्या से मैं कैसे निपटूं?

किसी के प्रेम के रिश्तों को खत्म करने के लिए कम आत्म-मूल्य और आत्म-सम्मान काफी है. हमें इन चीजों के लिए स्वयं ही आत्मलोकन करना चाहिए.इसके अलावा, प्रेम में पड़ने के लिए हम अक्सर असफलताओं और होने वाले संभावित दुष्प्रभावों से डर जाते हैं. वहीं विश्वास के बिना कोई भी रिश्ता पूर्ण और खुशहाल नहीं हो सकता है.

अपने सवाल इस ईमेल आईडी पर भेजें - askminubudhia@caringminds.co.in

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें