एस्सेल इंफ्रा को डिबार करें : मंत्री

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने मंगलवार को रांची नगर निगम में साफ-सफाई के लिए चयनित कंपनी एस्सेल इंफ्रा को डिबार करने का आदेश दिया है. यह कंपनी राजधानी में रांची नगर निगम के साथ ज्वाइंट वेंचर के ताैर पर ‘रांची एमएसडब्ल्यू’ के नाम से सॉलिड वेस्ट मैनेजेंट का काम कर रही है.
रांची: नगर विकास मंत्री सीपी सिंह मंगलवार को रांची की योजनाओं को लेकर अपने कार्यालय कक्ष में समीक्षा बैठक कर रहे थे. इसमें उन्होंने रांची में चल रही विभिन्न योजनाओं की धीमी प्रगति पर नाराजगी जतायी. साथ ही संबंधित कंपनियों को फटकार भी लगायी.

एस्सेल इंफ्रा के काम करने के तरीके से नगर विकास मंत्री खासा नाराज दिखे. इस कंपनी को जनवरी 2017 तक सभी 55 वार्डों में सफाई का काम शुरू कर देना था, लेकिन कंपनी अब तक केवल 21 वार्डों में ही साफ-सफाई का काम शुरू कर पायी है. जिन वार्डों की सफाई की जिम्मा कंपनी को मिला है, उनमें भी हालात कुछ बेहतर नहीं हैं. मंत्री ने कहा कि जनता उन्हें परेशान कर रही है. शहर नरक हो गया है. जहां-तहां कचरे के ढेर लगे हुए हैं. कंपनी के लोग केवल टाल-मटोल कर रहे हैं. यदि काम नहीं करना है, तो साफ-साफ बतायें. मंत्री ने कंपनी के अधिकारी को भी फटकार लगायी, कहा : आपलोग हम झारखंडियों को मूर्ख समझते हैं क्या? मंत्री ने नगर आयुक्त को तत्काल कंपनी को डिबार करने का आदेश देते हुए कहा कि यदि तब भी काम न करें, ताे कंपनी को ब्लैक लिस्ट करें.
चलना दूभर हो गया है, कंपनी क्या कर रही है : मंत्री ने रांची में सीवरेज-ड्रेनेज का काम कर रही कंपनी ज्योति बिल्डटेक को ब्लैक लिस्टेड करने की चेतावनी दी है. उन्होंने कहा कि शहर में जहां-तहां गड्ढा खोद दिया गया है. सड़कों पर चलना दूभर हो गया है. कंपनी क्या कर रही है? बरसात के कारण कीचड़ हो गया है. कंपनी के लोग लापरवाही कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि जो भी अधूरा काम है, कंपनी पहले उसे पूरा करें. शेष काम अब सेप्टेज सिस्टम से होगा. पहले जहां गड्ढा खोदा है, उसे ठीक करें. मंत्री ने चेतावनी देते हुए कहा कि कंपनी की सिक्यूरिटी मनी भी जब्त कर ली जायेगी.
एनजेएएस को ब्लैक लिस्ट करने की चेतावनी : मंत्री ने बताया कि रांची में पाइप लाइन के लिए फेज-1 और फेज-2 का डीपीआर जापान की कंपनी एनजीएएस द्वारा तैयार किया जा रहा है, पर कंपनी क इसमें लापरवाही कर रही है. काफी विलंब हो चुका है, जिसके कारण कंपनी को हाल ही में डिबार कर दिया गया है. अब उसे चेतावनी दी गयी है कि जुलाई तक काम नहीं हुआ तो कंपनी को ब्लैक लिस्टेड कर दिया जायेगा. जुडको को भी कहा गया है कि हर दिन इसकी प्रगति की समीक्षा करें. बैठक में नगर विकास के प्रधान सचिव अरुण सिंह, सुडा निदेशक राजेश शर्मा, नगर आयुक्त शांतनु अग्रहरी समेत अन्य अधिकारी मौजूद थे.
धराशायी हो चुकी है शहर की सफाई व्यवस्था
दो अक्तूबर 2016 को तामझाम के साथ रांची एमएसडब्ल्यू के हाथों में शहर की सफाई व्यवस्था सौंपी गयी. तब कंपनी ने दावा किया था कि जनवरी 2017 तक वह शहर के सभी 55 वार्डों की सफाई का शुरू कर देगी, लेकिन सारे दावे धरे के धरे रह गये. हालात यह है कि बीते नौ महीने में रांची एमएसडब्ल्यू ने शहर के केवल 21 वर्डों में सफाई का काम शुरू किया है, लेकिन इन वार्डों की हालत भी खस्ता है. अब तो इन वार्डों के पार्षद भी गुहार लगा रहे हैं कि नगर निगम उनके वार्ड की सफाई व्यवस्था अपने हाथों में ले ले तो बेहतर होगा.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें