निर्देशक की गहरी दृष्टि से बनती हैं अच्छी फिल्में

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

दृश्यम. डीपीएस में बोकारो इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल शुरू, बोले फिल्म समीक्षक अखिलेश

बोकारो : दिल्ली पब्लिक स्कूल बोकारो की ओर से आयोजित तीसरा अंतरराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल 'दृश्यम' शुक्रवार को सेक्टर चार स्थित डीपीएस के अवघोष कला भवन में शुरू हुआ. उद्घाटन मुख्य अतिथि मुख्य अतिथि प्रसिद्ध चित्रकार व कला व फिल्म समीक्षक अखिलेश, विशिष्ट अतिथि वरिष्ठ चित्रकार व फिल्मकार श्रीधर अय्यर, सुपरिचित फिल्म व कला समीक्षक विनोद भारद्वाज, डीपीएस बोकारो की निदेशक व प्राचार्य डॉ हेमलता एस मोहन व फिल्म उत्सव के निदेशक अभिषेक कश्यप ने संयुक्त रूप से किया. कार्यक्रम में डीपीएस के साथ-साथ चिन्मय विद्यालय, डीपीएस चास, जीजीपीएस, श्री अय्यप्पा पब्लिक स्कूल व अन्य स्कूलों के बच्चों ने भी हिस्सा लिया.
मुख्य अतिथि श्री अखिलेश ने कहा : अच्छी फिल्में निर्देशक की गहरी दृष्टि से ही संभव है. इस संदर्भ में उन्होंने महान चित्रकार लिर्योनादो द बिंची के वैनिशिंग प्वाइंट की चर्चा की. हिंदी सिनेमा की चर्चा करते हुए कहा : हमारे यहां सिनेमा में यथार्थवाद की तुलना में भावपक्ष महत्वपूर्ण रहा है. कई बार हमारे निर्देशक यथार्थ का ऐसा चित्रण करते हैं, जो वास्तविक नहीं लगता. डॉ हेमलता ने कहा : बच्चों को देश-विदेश की उद्देश्यपरक अच्छी फिल्में दिखाना व फिल्म निर्माण से जुड़ी जरूरी जानकारी देना इस फिल्म उत्सव का मुख्य उद्देश्य है. श्रीधर अय्यर ने 'कला में सिनेमा' विषय पर चर्चा करते हुए कहा : आज दृश्य कलाओं में वीडियो इंस्टालेशन कलाकार की कलात्मक अभिव्यक्ति का एक सशक्त माध्यम है.
विनोद भारद्वाज ने कहा : इस महोत्सव के माध्यम से बच्चों को विशेषज्ञों के मार्गदर्शन में कला व सिनेमा की बारीकियों को समझने का अवसर मिलेगा. इससे उनकी रचनात्मक व कलात्मक प्रतिभा का विकास होगा. उन्होंने अच्छी फिल्मों के सकारात्मक पहलुओं की चर्चा करते हुए चार्ली चौपलिन की बहुप्रसिद्ध फिल्म 'मर्डन टाइम्स' की बारीकियों पर प्रकाश डाला. फिल्म उत्सव के निदेशक अभिषेक कश्यप ने कहा : सिनेमा का गहरा अंतसंर्बंध अन्य कलाओं से भी रहा है. सिनेमा सिर्फ मनोरंजन नहीं, एक कलात्मक अभिव्यक्ति है. हिंदुस्तान में विश्व में सबसे अधिक फिल्में बनती हैं, लेकिन जरूरत है क्वांटिटी से अधिक क्वालिटी पर ध्यान केंद्रित करने की.
कला शिक्षकों के साथ 'आर्ट एजुकेशन' विषय पर व्याख्यान : डीपीएस बोकारो की निदेशक व प्राचार्या डॉ हेमलता एस मोहन की पुस्तक 'अनलॉक द चाइल्ड-इंसाइड द चाइल्ड' का विमोचन अतिथियों ने किया. साथ ही अभिषेक कश्यप के संपादन में प्रकाशित पत्रिका 'हमारा भारत' के नये अंक का लोकार्पण भी हुआ. उद्घाटन समारोह के बाद विद्यार्थियों के लिए महान अभिनेता-फिल्मकार चार्ली चौपलिन की बहुप्रसिद्ध फिल्म 'मर्डन टाइम्स' का प्रदर्शन किया गया. 'कला संवाद' कार्यक्रम के अंतर्गत चित्रकार अखिलेश ने डीपीएस बोकारो और बोकारो के अन्य विद्यालयों के कला शिक्षकों के साथ 'आर्ट एजुकेशन' विषय पर व्याख्यान दिया, जिसमें उन्होंने कला शिक्षा की नयी प्रविधियों पर चर्चा की.
सरस्वती वंदना पर आधारित समूह नृत्य की मनोहारी प्रस्तुति
स्वागत भाषण हेडब्यॉय प्रत्युश कुमार शांडिल्य व हेड गर्ल शालू अग्रवाल ने दिया. बच्चों ने आगत अतिथियों के सम्मान में सुमधुर स्वागत गीत 'आपके स्वागत में मंगलदीप जलायें...' व स्कूल गीत 'आया है नया सवेरा, ज्ञान का जहां बसेरा़...' की प्रस्तुति की. सरस्वती वंदना पर आधारित समूह नृत्य की मनोहारी प्रस्तुति से सबको आनंदित किया. मंच संचालन छात्रा श्रेयसी शेखर, अनुराग सिन्हा, टिवंकल व मान्या शर्मा ने किया. एआरएस पब्लिक स्कूल के प्राचार्य बी पात्रा, जीजीपीएस-चास के प्राचार्य जॉस थॉमस सहित विभिन्न विद्यालयों के प्राचार्य सहित डीपीएस बोकारो के उप प्राचार्य प्रवीण कुमार शर्मा, हेडमिस्ट्रेस डॉ मनीषा तिवारी सहित अन्य शिक्षक व काफी संख्या में बच्चे उपस्थित थे.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें