1. home Hindi News
  2. religion
  3. surya grahan 2022 sutak kaal remedies and timing know everything about first solar eclipse of the year on shanichari amavasya sry

Surya Grahan 2022: कल लगने वाला है साल का पहला सूर्यग्रहण, जाने सूतक काल, समय और सावधानियां

साल का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल शनिवार को लगने जा रहा है. जिस दिन शनिश्चरी अमावस्या भी है. लेकिन भारत में यह अदृश्य रहेगा. इसलिए यहां सूतक काल मान्य नहीं होगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Surya Grahan 2022
Surya Grahan 2022
Prabhat Khabar Graphics

Surya Grahan 2022: इस साल का पहला सूर्य ग्रहण (Surya Grahan 2022) वाला है. वैसे तो इस साल दो सूर्य ग्रहण है. पहला सूर्य ग्रहण कल यानी 30 अप्रैल 2022 को लग रहा है. जो कि आंशिक होगा. अगला यानी दूसरा सूर्य ग्रहण 25 अक्टूबर, 2022 को लगेगा.

सूर्य ग्रहण कब लगेगा

इस साल का पहला सूर्य ग्रहण 30 अप्रैल 2022 को भारत के समयानुसार मध्यरात्रि को 12 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर सुबह 4 बजकर 7 मिनट तक रहेगा.

जानिए क्या होता है सूर्य ग्रहण

खगोल शास्त्रियों के अनुसार जब चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुजरता है तो उस स्थिति में सूर्य ग्रहण होता है. ग्रहण के दौरान चंद्रमा सूर्य की रोशनी को आंशिक या पूर्ण रूप से ढक देता है और उसकी रोशनी पृथ्वी तक नहीं पहुंच पाती. जिस वजह से पृथ्वी पर अंधेरा छा जाता है.

सूर्य ग्रहण और शनि अमावस्या का साथ-साथ होना एक बड़ा संयोग

साल के पहले सूर्यग्रहण का दिन शनिवार को पड़ रहा है है और अमावस्या यानी शनिश्चरी अमावस्या भी. साथ ही एक दिन पहले अर्थात 29 अप्रैल को शनि देव राशि बदलकर स्वराशि कुंभ राशि में गोचर करेंगे. सूर्य ग्रहण और शनि अमावस्या का साथ-साथ होना एक बड़ा संयोग है. इसका भारतीय ज्योतिष और ग्रह-नक्षत्रों में बड़ा प्रभाव बताया गया है.

सूर्य ग्रहण का सूतक काल

भारत में यह सूर्य ग्रहण नहीं दिखाई देगा. क्योंकि यह सूर्य ग्रहण भारत के समयानुसार मध्यरात्रि के बाद 12 बजकर 15 मिनट से शुरू होकर सुबह 4 बजकर 7 मिनट तक रहेगा. ऐसे में इस सूर्यग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं होगा. ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार, सूतक काल तो सूर्य ग्रहण शुरू होने से 12 घंटे पहले से लग जाता है. मान्यता है कि सूतक काल के दौरान कोई भी शुभ या मांगलिक कार्य करने की मनाही होती है.

ग्रहण के दौरान क्‍या करें

- भोजन- पानी आदि में तुलसी की पत्ती डाल दें, ताकि ग्रहण का नकारात्‍मक असर उन पर न पड़ें और ग्रहण के बाद उनका सेवन किया जा सके.
- घर के मंदिर को ढंक दें. इस दौरान मंदिरों के पट भी बंद रखे जाते हैं.
- ग्रहण के दौरान ज्‍यादा से ज्‍यादा समय भगवान की आराधना में बिताएं.
- ग्रहण के बाद स्‍नान करें और दान अवश्‍य करें. खासतौर पर सफाई कर्मचारियों को दान करना बहुत अच्‍छा माना जाता है.

ग्रहण के दौरान न करें यह काम

- ग्रहण के दौरान नकारात्‍मक ऊर्जा बढ़ जाती है इसलिए इस समय कोई भी शुभ काम नहीं करना चाहिए.
- ग्रहण के दौरान सुई में धागा डालने की मनाही की गई है.
- सूर्य ग्रहण के दौरान ना तो भोजन पकाएं, ना ही काटने-छीलने का काम करें और ना ही भोजन करें.
- खासतौर पर गर्भवती महिलाएं इस दौरान चाकू-कैंची या किसी भी धारदार चीज का इस्‍तेमाल न करें, ना ही ये चीजें हाथ में लें.
- ग्रहण के दौरान यात्रा करने से बचना चाहिए.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें