1. home Hindi News
  2. life and style
  3. gandhi jayanti 2020 speech essay nibandh bhashan poem slogan quotes kavita shayari in hindi for students teachers speeches by famous personalities on gandhi jayanti happy gandhi jayanti 2020 sry

Gandhi Jayanti speech 2020: महात्मा गांधी की जयंती पर यहां से तैयार करें स्पीच और भाषण

By Prabhat khabar Digital
Updated Date

Gandhi Jayanti 2020 Per Speech, Essay, Nibandh, Bhashan, Poem, Kavita, Slogan, Quotes in Hindi for Students, Teachers: मोहनदास करमचंद गांधी जिन्हें राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता है का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. इस बार गांधीजी की 151वीं जयंती मना रहा है. महात्मा गांधी को हमारे देश में राष्ट्रपिता का दर्जा दिया गया है जिन्हें प्यार से बापू कहकर भी बुलाते हैं. महात्मा गांधी जी ने अपने जीवन काल में अहिंसा और सत्य का ही पालन किया था और लोगों को भी इसी की सीख दी. हर साल 02 अक्टूबर को भारत के हर कोने के साथ-साथ दुनिया के कई हिस्सों में भी महात्मा गांधी की जयंती मनाई जाती है. इस अवसर पर जगह-जगह रैली, पोस्टर प्रतियोगिता, स्पीच, डिबेट, नाटक समेत कई तरह के आयोजन किए जाते हैं. अगर इस अवसर पर आपको स्पीच देनी है, तो यहां आपको कुछ आइडियाज बताए जा रहे हैं. इन्हें अपनाकर आप अपने दर्शकों, श्रोताओं से खूब तालियां व तारीफ बटोर सकते हैं.

email
TwitterFacebookemailemail

गांधी जयंती पर भाषण

सभी माननीय, आदरणीय प्रधानाध्यापक, शिक्षकगण और मेरे प्यारे दोस्तों आप सभी को सुबह का नमस्कार. मेरा नाम राहुल है, मैं कक्षा 7 में पढ़ता हूँ. मैं गाँधी जयंती के अवसर पर एक भाषण देना चाहूँगा। सबसे पहले मैं अपने क्लासटीचर को धन्यवाद देना चाहूँगा जिन्होंने इतने महान अवसर पर भाषण देने के लिये मुझे मौका दिया. जैसा कि हम सभी जानते है कि हर साल 2 अक्टूबर को महात्मा गाँधी का जन्मदिन मनाने के लिये हम सब इकट्ठा होते हैं. मेरे प्यारे दोस्तों, गाँधी जयंती केवल अपने देश में ही नहीं मनाया जाता है बल्कि अंतरराष्ट्रीय अहिंसा दिवस के रुप में पूरे विश्व भर में मनाया जाता है क्योंकि वह अपने पूरे जीवनभर अहिंसा के एक पथ-प्रदर्शक थे.

उनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गाँधी है हालाँकि वह बापू और राष्ट्रपिता तथा महात्मा गाँधी के नाम से प्रसिद्ध हैं। उनका जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. इस दिन पर, नयी दिल्ली के राजघाट पर महात्मा गाँधी को उनके समाधि स्थल पर भारत के प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के द्वारा प्रार्थना, फूल, भजन आदि के द्वारा श्रद्धाजलि अर्पित की जाती है.

गाँधी जयंती भारत के सभी राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों में गाँधी को याद करने के लिये मनायी जाती है जिन्होंने हमेशा सभी धर्मों और समुदायों को एक नजर से सम्मान दिया. इस दिन पर पवित्र धार्मिक किताबों से दोहा और प्रार्थना पढ़ा जाता है खासतौर से उनका सबसे प्रिय भजन “रघुपति राघव राजा राम”. देश में राज्यों के राजधानियों में प्रार्थना सभाएँ रखी जाती है। जैसा कि भारत सरकार के द्वारा इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश के रुप में, सभी स्कूल, कॉलेज, कार्यालय आदि पूरे देश में बंद रहते हैं.

महात्मा गाँधी एक महान व्यक्ति थे जिन्होंने ब्रिटिश शासन से भारत की आजादी को प्राप्त करने में बहुत संघर्ष किया और एक महत्वपूर्ण भूमिका निभायी. वह ब्रिटिश शासन के खिलाफ भारत के लिये आजादी प्राप्त करने के अहिंसा के अनोखे तरीके के केवल पथ-प्रदर्शक ही नहीं थे बल्कि उन्होंने दुनिया को साबित किया कि अहिंसा के पथ पर चलकर शांतिपूर्ण तरीके से भी आजादी पायी जा सकती है। वह आज भी हमारे बीच शांति और सच्चाई के प्रतीक के रुप में याद किये जाते हैं.

जय हिन्द

धन्यवाद

email
TwitterFacebookemailemail

गांधी जयंती पर भाषण

मोहनदास करमचंद गांधी, जिन्हें राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता है, का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. 2 अक्टूबर को हर साल विश्व अहिंसा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है. बापू के अंहिसा वाले पथ पर आज भी कई सारे लोग चलते हैं उनके विचार आज भी हमारा मार्ग दर्शन कर रहे हैं और कल भी करेंगे.

गांधी जी भले ही गुजरात में पैदा हुए लेकिन उनकी पूरी पढ़ाई लंदन से पूरी हुई, उन्होंने लंदन से बैरिस्टर की डिग्री ली और उसके बाद जब वो वापस स्वदेश लौटे तो उन्होंने अपना पूरा जिवन भारत को आजाद करने में लगा दिया. सत्य और अंहिसा के मार्ग पर चलकर उन्होंने अंग्रेजों से भारत को मुक्त कराया था. यही वजह है की दुनिया उन्हें आज भी अहिंसा का सबसे बड़ा प्रतीक मानती हैं और उनके विचार सदियों तक लोगों के जेहन में जिंदा रहेंगे.

महात्मा गांधी के असहोयग आंदोलन और दांड़ी मार्च या नमक सत्याग्रह से लेकर अंग्रेजो भारत छोड़ा का नारा आज भी हर किसी के जेहन में ताजा है. गांधी जी का चंपारण सत्याग्रह भी उनकी मजबूत छवि को दिखाता है. महात्मा गांधी को विश्व पटल पर अहिंसा के प्रतीक के तौर पर जाना जाता है. बापू ने सालों पहले जो हमें राह दिखाई है हम उसी पर चलकर अपने देश का नाम रौशन करेंगे और हिंसा की जगह हमेशा अहिंसा का रास्ता लेंगे क्योंकि सत्य की हमेशा जीत होती है. ये बापू के विचार हमें लोगों तक पहुंचाने चाहिए….जय हिंद जय भारत

email
TwitterFacebookemailemail

इन आइडियाज़ पर छात्र भाषण तैयार कर सकते हैं:

  • गांधी जी ने महज सत्य और अहिंसा के पथ पर चलकर देश को अंग्रेजों से मुक्ति दिलाई

  • 21वीं सदी में गांधी के क्या मायने हैं

  • गांधी के अस्पृश्यता पर विचार

  • मुस्लमानों के लिए गांधी का संदेश

  • इंसानियत के लिए गांधी का संदेश

  • छात्रों को गांधी का संदेश

  • गांधी के आंदोलन: दांडी यात्रा, भारत छोड़ो आंदोलन, असहयोग आंदोलन, विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार

  • गांधी के शिक्षा पर विचार

  • गांधी: सरल जीवन और उच्च विचार का व्यक्ति

  • गांधी: साधारण बैरिस्टर से लेकर एक राष्ट्र के पिता तक की कहानी

email
TwitterFacebookemailemail

कुछ अन्य टॉपिक्स

21वीं सदी में गांधी और उनकी विचारधारा के मायने

'अछूत' प्रथा पर गांधी की विचारधारा

मुस्लिम समुदाय के लिए गांधी के संदेश

मानवता के लिए गांधी के संदेश

विद्यार्थियों के लिए गांधी के संदेश

शिक्षा पर गांधी के विचार

गांधी - सादा जीवन, उच्च विचार

गांधी के आंदोलन - डांडी यात्रा, भारत छोड़ो आंदोलन, स्वदेशी आंदोलन, असहयोग आंदोलन, आदि।

email
TwitterFacebookemailemail

गांधी जयंती पर भाषण 

... आदरणीय अध्यापकगण और मेरे साथियों...

मोहनदास करमचंद गांधी, जिन्हें राष्ट्रपिता के नाम से भी जाना जाता है, का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. 2 अक्टूबर को हर साल विश्व अहिंसा दिवस के रूप में भी मनाया जाता है. बापू के अंहिसा वाले पथ पर आज भी कई सारे लोग चलते हैं उनके विचार आज भी हमारा मार्ग दर्शन कर रहे हैं और कल भी करेंगे.

गांधी जी भले ही गुजरात में पैदा हुए लेकिन उनकी पूरी पढ़ाई लंदन से पूरी हुई, उन्होंने लंदन से बैरिस्टर की डिग्री ली और उसके बाद जब वो वापस स्वदेश लौटे तो उन्होंने अपना पूरा जिवन भारत को आजाद करने में लगा दिया. सत्य और अंहिसा के मार्ग पर चलकर उन्होंने अंग्रेजों से भारत को मुक्त कराया था. यही वजह है की दुनिया उन्हें आज भी अहिंसा का सबसे बड़ा प्रतीक मानती हैं और उनके विचार सदियों तक लोगों के जेहन में जिंदा रहेंगे.

महात्मा गांधी के असहोयग आंदोलन और दांड़ी मार्च या नमक सत्याग्रह से लेकर अंग्रेजो भारत छोड़ा का नारा आज भी हर किसी के जेहन में ताजा है. गांधी जी का चंपारण सत्याग्रह भी उनकी मजबूत छवि को दिखाता है. महात्मा गांधी को विश्व पटल पर अहिंसा के प्रतीक के तौर पर जाना जाता है. बापू ने सालों पहले जो हमें राह दिखाई है हम उसी पर चलकर अपने देश का नाम रौशन करेंगे और हिंसा की जगह हमेशा अहिंसा का रास्ता लेंगे क्योंकि सत्य की हमेशा जीत होती है. ये बापू के विचार हमें लोगों तक पहुंचाने चाहिए….

जय हिंद जय भारत

email
TwitterFacebookemailemail

गांधी जयंती पर यहां से करें स्पीच . . .

यहां हम आपको गांधी जयंती पर आसान भाषण बता रहे हैं जिसे देकर आप अच्छा प्रदर्शन कर सकते हैं -

... आदरणीय अध्यापकगण और मेरे साथियों...

आज 2 अक्टूबर है और न सिर्फ पूरा हिन्दुस्तान, बल्कि दुनिया के कई देश 151वीं गांधी जयंती मना रहे हैं. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. उनका पूरा नाम मोहनदास करमचंद गांधी था. आगे चलकर लोगों के बीच वह बापू के नाम से पुकारे जाने लगे. बापू ने देश को अंग्रेजों के चंगुल से आजाद करवाने में सबसे अहम भूमिका निभाई. उन्होंने अपने सत्य और अहिंसा के सिद्धांत के दम पर अंग्रेजों को कई बार घुटने टेकने पर मजबूर कर दिया. उनके अहिंसा के सिद्धांत को पूरी दुनिया ने सलाम किया, यही वजह है कि पूरा विश्व आज का दिन अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के तौर पर भी मनाता है. महात्मा गांधी के विचार हमेशा से न सिर्फ भारत, बल्कि पूरे विश्व का मार्गदर्शन करते आए हैं और आगे भी करते रहेंगे.

धन्यवाद।

जय हिन्द!

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें