1. home Hindi News
  2. health
  3. how oxygen works in different parts of body corona increases its demand in body what is spo2 happy hypoxemia know everything in detail smt

विभिन्न अंगों तक कैसे पहुंचता है Oxygen, Corona कैसे शरीर में एकाएक बढ़ता है इसकी डिमांड, क्या है SPO2, Happy Hypoxemia, जानें सबकुछ डिटेल में

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Coronavirus, Spo2 Kitna Hona Chahiye, Oxygen Level Kaise Badhaye, Happy Hypoxia Covid Symptoms
Coronavirus, Spo2 Kitna Hona Chahiye, Oxygen Level Kaise Badhaye, Happy Hypoxia Covid Symptoms
Prabhat Khabar Graphics

Coronavirus Second Wave, How Oxygen Works In Human Body, Spo2 Kitna Hona Chahiye, Oxygen Level Kaise Badhaye, Happy Hypoxia Covid Symptoms: कोरोना की दूसरी लहर ने लोगों को ऑक्सीजन व फेफड़े के महत्व के बारे में समझा दिया. जिस तरह से लोग संक्रमित हो रहे हैं और प्राणवायु कहे जाने वाली ऑक्सीजन के अभाव में लोगों की सांसे थम रही है. ऐसे में हमें इसके बारे में विस्तार से जानकारी रखनी चाहिए. तो आइये जानते हैं कि हमारे बॉडी में ऑक्सीजन कैसे काम करता है. शरीर के किन अंगों को इसके अभाव में हो सकती है क्षती, कैसे कोरोना शरीर में ऑक्सीजन की डिमांड बढ़ा देता है, क्या SPO2, हैप्पी हाइपोक्सिमिया समेत अन्य डिटेल्स...

ऑक्सीजन और हमारा शरीर

अंग्रेजी वेबसाइट द हिंदू में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक आपातकालीन चिकित्सा संस्थान, मीनाक्षी मिशन अस्पताल और अनुसंधान केंद्र, मदुरै के निदेशक व डॉ. नरेंद्र नाथ जेना की मानें तो जिस तरह गाड़ी को चलने के लिए पेट्रोल-डीजल की जरूरत होती है ठीक उसी तरह ऑक्सीजन हमारे शरीर के ईंधन के रूप में कार्य करता है. जो मांसपेशियों को सिकोड़ने से लेकर कोशिकाओं की मरम्मत करने तक में मददगार है. इससे कोशिकाएं ठीक से काम करती है व डेड सेल्स दोबारा जीवित हो सकते हैं. यह हमारे दिमाग से लेकर नसों और हृदय को भी पंप करने में मददगार होता है. यही नहीं ऑक्सीजन की सही मात्रा से शरीर में मौजूद जहरीले पदार्थ भी साफ होते है और शरीर की इम्यूनिटी भी बढ़ाने में यह मददगार होता है.

फेफड़ों तक कैसे पहुंचता है ऑक्सीजन, कोरोना कैसे करता है प्रभावित

दरअसल, क्रिटिकल केयर मेडिसिन के डॉ हिमांशु ठाकुर (Dr. Himanshu Thakur) की मानें तो हवा नाक या मुंह के माध्यम से शरीर में प्रवेश करती हैं तो यह आर्द्र हो जाती हैं. जो बल्ड के माध्यम से प्रवाह होते हुए फेफड़ों तक पहुंचती है और वहां जाकर यह फेफड़ें की दीवार को धकेलती हैं. जिससे कार्बन डाइ ऑक्साइड बाहर आता है और सांस लेने में हमें मदद मिलता है. लेकिन, कोरोना फेफड़ें की इसी दीवार पर एक परत बैठा देता है. जिससे गैस एक्सचेंज होने में दिक्कत होने लगती है. इस दौरान सूजन वाली कोशिकाएं और प्रोटीन भर जाती है जो सांस लेने में बाधा उत्पन्न कर देती है.

रक्त के माध्यम से शरीर के किन हिस्सों में पहुंचता है ऑक्सीजन

डॉ हिमांशु बताते हैं कि ऑक्सीजन को एक स्थान से दूसरे स्थान में ले जाने में बल्ड की सबसे अहम भूमिका होती है. ऑक्सीजन इन्हीं लाल रक्त कोशिकाओं (RBC) द्वारा पर हीमोग्लोबिन (Hb) के रूप में शरीर के महत्वपूर्ण अंगों जैसे दिमाग, कोशिकाएं, हार्ट समेत अन्य अंगों तक ऑक्सीजन की मात्रा पहुंचाता है. लेकिन, एनीमिया मरीजों में हीमोग्लोबिन की कमी हो जाती है. जिससे शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा कम पहुंचती है.

दिल तक कैसे पहुंचता है ऑक्सीजन, हार्ट को कैसे प्रभावित करता है कोरोना

फेफड़ों के माध्यम से ऑक्सीजन युक्त ब्लड हमारे दिल तक पहुंचता है जो आर्टिज के माध्यम से पंप होकर शरीर के बाकी हिस्सों में जाता है. जबकि, दिल का दाहिना भाग नसों के माध्यम से अशुद्ध ऑक्सीजन युक्त ब्लड लेकर फेफड़ों में पंप कर देता है, जहां से कार्बन डाइ ऑक्साइड रिलीज और ऑक्सीजन रिसीव हो जाता है. कोरोना शरीर में ऑक्सीजन की मांग को बढ़ा देता है जिससे फेफड़ों व शरीर के अन्य अंग उत्तेजित होने लगते है जिससे दिल को नुकसान होने लगता है.

इम्यूनिटी बढ़ाने वाले आहार का महत्व

कोरोना से लड़ने के लिए इम्यून का स्ट्रांग होना जरूरी है. अत: इम्यूनिटी बढ़ाने वाले आहार जैसे आयरन और विटामिन युक्त भोजन इम्यून सिस्टम को तो मजबूती देती ही है. साथ ही साथ इससे ब्लड वाहिकाओं को भी बहुत आराम मिलता है. यही कारण है कि शरीर में ब्लड की मात्रा एकाएक नहीं बढ़ती और ऑक्सीजन शरीर के हर जरूरी हिस्सों में बेहतर ढंग से पहुंच पाता है. आपको बता दें कि इम्यूनिटी बूस्टिंग फूड्स के तौर पर आप खट्टे विटामिन-सी युक्त फल, ब्रोकोली, सोया बीन्स, बीन्स, चिकन, गाजर, अखरोट, हरी बीन्स, पालक व अन्य पत्तेदार साग-सब्जियां फायदेमंद होती है.

क्या है SPO2

ऑक्सीजन सैचुरेशन लेवल को SPO2 भी कहा जाता है. इसके बारे में बताते हुए डॉ. हिमांशु कहते हैं कि यहां S का मतलब होता है सीरम P का अर्थ होता है प्रेशर और O2 का अर्थ ऑक्सीजन. डॉक्टरी भाषा में कहे तो हमारे ब्लड में कम से कम 95 प्रतिशत ऑक्सीजन होना ही चाहिए. इससे कम होने पर दिल का लय बिगड़ सकता है. धड़कन तेज गति से काम करने लगता है. मन व दिमाग बेचैन होने लगता है और पूरे शरीर में भ्रम की स्थिति पैदा हो जाती है.

क्या है हैप्पी हाइपोक्सिमिया

Dr Himanshu, Happy Hypoxia Covid Symptoms
Dr Himanshu, Happy Hypoxia Covid Symptoms
Prabhat Khabar Graphics

डॉ हिमांशु ने बताया कि कोरोना से संक्रमित लोगों के ब्लड में ऑक्सीजन की मात्रा 80 प्रतिशत से भी कम हो जाती है फिर भी उन्हें सांस लेने में कोई तकलीफ नहीं होती. ऐसे कंडीशन को हैप्पी हाइपोक्सिमिया कहा जाता है. यह एक साइलेंट किलर का काम करता है. जिस दौरान मरीज खुद को स्वस्थ समझता है. लेकिन, एकाएक परेशानी इतनी बढ़ सकती है मरीज की मौत तक भी हो सकती है.

Posted By: Sumit Kumar Verma

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें