16.1 C
Ranchi
Sunday, February 25, 2024

BREAKING NEWS

Trending Tags:

HomeएजेंसीChatGPT का एक साल पूरा : AI ने कैसे बदल दी हमारी दुनिया

ChatGPT का एक साल पूरा : AI ने कैसे बदल दी हमारी दुनिया

चैटजीपीटी ने दुनिया भर की सरकारों को इस विचार को समझने के लिए मजबूर किया कि एआई महत्वपूर्ण चुनौतियां पैदा करता है - न केवल आर्थिक चुनौतियां, बल्कि सामाजिक और अस्तित्व संबंधी चुनौतियां भी.

ChatGPT Completes One Year: ओपनएआई की कृत्रिम बुद्धिमत्ता (एआई) चैटबॉट चैटजीपीटी को ठीक एक साल पहले आम जनता के सामने पेश किया गया था. दूसरे महीने के अंत तक 10 करोड़ उपयोगकर्ताओं के साथ यह अब तक का सबसे तेजी से बढ़ने वाला ऐप बन गया. आज, यह माइक्रोसॉफ्ट के बिंग सर्च, स्काइप और स्नैपचैट के माध्यम से एक अरब से अधिक लोगों के लिए उपलब्ध है- और अनुमान है कि ओपनएआई वार्षिक राजस्व में एक अरब अमेरिकी डॉलर से अधिक एकत्र करेगा. हमने पहले कभी किसी प्रौद्योगिकी को इतनी तेजी से विस्तार करते नहीं देखा. अधिकांश लोगों को वेब का उपयोग शुरू करने में लगभग एक दशक का समय लग गया था. लेकिन इस बार तैयारी पहले से ही मौजूद थी. परिणामस्वरूप, चैटजीपीटी का प्रभाव शेक्सपियर की शैली में कैरोल की सेवानिवृत्ति के बारे में कविताएँ लिखने से कहीं आगे निकल गया है. इसने कई लोगों को हमारे एआई-संचालित भविष्य का स्वाद चखाया है. यहां पांच तरीके बताए गए हैं जिनसे इस तकनीक ने दुनिया को बदल दिया है.

एआई सुरक्षा

चैटजीपीटी ने दुनिया भर की सरकारों को इस विचार को समझने के लिए मजबूर किया कि एआई महत्वपूर्ण चुनौतियाँ पैदा करता है – न केवल आर्थिक चुनौतियाँ, बल्कि सामाजिक और अस्तित्व संबंधी चुनौतियाँ भी. अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन ने एक राष्ट्रपति कार्यकारी आदेश के साथ अमेरिका को एआई नियमों में सबसे आगे खड़ा कर दिया, जो एआई सुरक्षा और संरक्षा के लिए नए मानक स्थापित करता है. इसका उद्देश्य समानता और नागरिक अधिकारों में सुधार करना है, साथ ही नवाचार और प्रतिस्पर्धा तथा एआई में अमेरिकी नेतृत्व को भी बढ़ावा देना है. इसके तुरंत बाद, यूनाइटेड किंगडम ने बैलेचले पार्क में पहला अंतर-सरकारी एआई सुरक्षा शिखर सम्मेलन आयोजित किया – वह स्थान जहां द्वितीय विश्व युद्ध में जर्मन एनिग्मा कोड को क्रैक करने के लिए कंप्यूटर का जन्म हुआ था. और हाल ही में, यूरोपीय संघ एआई को विनियमित करने में अपनी शुरुआती बढ़त का त्याग करता हुआ दिखाई दे रहा है, क्योंकि उसे चैटजीपीटी जैसे सीमांत मॉडलों द्वारा उत्पन्न संभावित खतरों के साथ अपने एआई अधिनियम को अनुकूलित करने में दिक्कतें पेश आईं. हालाँकि ऑस्ट्रेलिया विनियमन और निवेश के मामले में पिछड़ रहा है, लेकिन दुनिया भर के देश इस मुद्दे को संबोधित करने के लिए अपना पैसा, समय और ध्यान तेजी से लगा रहे हैं, जो पांच साल पहले ज्यादातर लोगों के दिमाग में नहीं आया था.

Also Read: WhatsApp यूजर्स को मिलेगा गायब होने वाले ऑप्शन के साथ टेक्स्ट स्टेटस फीचर, जानें कैसे करता है काम
नौकरी की सुरक्षा

चैटजीपीटी से पहले, शायद कार कर्मचारी और अन्य ब्लू कॉलर कर्मचारी ही रोबोट के आने से सबसे ज्यादा डरते थे. चैटजीपीटी और अन्य जेनरेटिव एआई टूल ने इस परिदृश्य को बदल दिया है. ग्राफिक डिजाइनर और वकील जैसे सफेदपोश ओहदेदारों को भी अब अपनी नौकरी की चिंता सताने लगी है. ऑनलाइन जॉब मार्केटप्लेस के एक हालिया अध्ययन में पाया गया कि चैटजीपीटी लॉन्च होने के बाद से लेखन और संपादन नौकरियों की कमाई में 10 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई है. इस बात को लेकर भारी अनिश्चितता है कि क्या एआई जितनी नौकरियां पैदा करेगा उससे ज्यादा नौकरियां खत्म कर देगा. लेकिन एक बात अब निश्चित है: एआई हमारे काम करने के तरीके में बेहद विघटनकारी होगा.

निबंध का खात्मा

चैटजीपीटी के आगमन पर शिक्षा क्षेत्र ने कुछ द्वेषपूर्ण प्रतिक्रिया व्यक्त की, कई स्कूलों और शिक्षा अधिकारियों ने इसके उपयोग पर तत्काल प्रतिबंध जारी कर दिया. यदि चैटजीपीटी निबंध लिख सकता है, तो होमवर्क का क्या होगा? बेशक, हम लोगों से निबंध लिखने के लिए नहीं कहते क्योंकि उनकी कमी है, या इसलिए भी कि कई नौकरियों के लिए इसकी आवश्यकता होती है. हम उनसे निबंध लिखने के लिए कहते हैं क्योंकि इसमें शोध कौशल की आवश्यकता होती है, संचार कौशल, आलोचनात्मक सोच और डोमेन ज्ञान में सुधार होता है. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि चैटजीपीटी क्या पेशकश करता है, इन कौशलों की अभी भी आवश्यकता होगी, भले ही हम उन्हें विकसित करने में कम समय खर्च करें. और ऐसा नहीं है कि केवल स्कूली बच्चे ही एआई के साथ धोखाधड़ी कर रहे हैं. इस साल की शुरुआत में, एक अमेरिकी न्यायाधीश ने चैटजीपीटी के साथ लिखी गई एक अदालती फाइलिंग के लिए दो वकीलों और एक कानूनी फर्म पर 5,000 अमेरिकी डॉलर का जुर्माना लगाया था, जिसमें नकली कानूनी उद्धरण भी शामिल थे. मैं कल्पना करता हूं कि ये बढ़ते दर्द हैं. शिक्षा एक ऐसा क्षेत्र है, जिसके लिए एआई के पास देने के लिए बहुत कुछ है. उदाहरण के लिए, चैटजीपीटी जैसे बड़े भाषा मॉडल को उत्कृष्ट सुकराती ट्यूटर्स के रूप में तैयार किया जा सकता है। और सटीक लक्षित पुनरीक्षण प्रश्न उत्पन्न करते समय बुद्धिमान शिक्षण प्रणालियाँ असीम रूप से धैर्यवान हो सकती हैं.

Also Read: DeepFake का इस्तेमाल कर साइबर ठगों ने किया बुजुर्ग को प्रताड़ित, FIR दर्ज
कॉपीराइट अराजकता

यह व्यक्तिगत है, दुनिया भर के लेखक यह जानकर क्रोधित हुए कि चैटजीपीटी जैसे कई बड़े भाषा मॉडलों को उनकी सहमति के बिना वेब से डाउनलोड की गई सैकड़ों हजारों पुस्तकों पर प्रशिक्षित किया गया था. एआई मॉडल एआई से लेकर प्राणीशास्त्र तक हर चीज के बारे में धाराप्रवाह संवाद कर सकते हैं, इसका कारण यह है कि उन्हें एआई से लेकर प्राणीशास्त्र तक हर चीज के बारे में पुस्तकों पर प्रशिक्षित किया गया है. और एआई के बारे में पुस्तकों में मेरी अपनी कॉपीराइट पुस्तकें भी शामिल हैं. विडंबना देखिए कि एआई के बारे में एक एआई प्रोफेसर की किताबें एआई को प्रशिक्षित करने के लिए विवादास्पद रूप से इस्तेमाल की जा रही हैं. यह निर्धारित करने के लिए कि क्या यह कॉपीराइट कानूनों का उल्लंघन है, अमेरिका में कई मुकदमे चल रहे हैं. चैटजीपीटी के उपयोगकर्ताओं ने ऐसे उदाहरण भी बताए हैं जहां चैटबॉट्स ने कॉपीराइट पुस्तकों से लिए गए पाठ के पूरे हिस्से को शब्दशः तैयार किया है.

ग़लत सूचना और दुष्प्रचार

अल्पावधि में, एक चुनौती जो मुझे सबसे अधिक चिंतित करती है वह है गलत सूचना और दुष्प्रचार पैदा करने के लिए चैटजीपीटी जैसे जेनेरिक एआई टूल का उपयोग. यह चिंता सिंथेटिक पाठ से परे, डीपफेक ऑडियो और वीडियो तक जाती है जिसे पहचान पाना मुश्किल है. एआई-जनित क्लोन आवाजों का उपयोग करके एक बैंक को लूटा भी जा चुका है. चुनाव भी अब खतरे में नजर आ रहे हैं. डीपफेक ने 2023 स्लोवाक संसदीय चुनाव अभियान में एक दुर्भाग्यपूर्ण भूमिका निभाई. चुनाव से दो दिन पहले, चुनावी धोखाधड़ी के बारे में एक नकली ऑडियो क्लिप जिसमें कथित तौर पर एक स्वतंत्र समाचार मंच के एक प्रसिद्ध पत्रकार और प्रोग्रेसिव स्लोवाकिया पार्टी के अध्यक्ष को दिखाया गया था, हजारों सोशल मीडिया उपयोगकर्ताओं तक पहुंच गया. टिप्पणीकारों ने सुझाव दिया है कि ऐसी नकली सामग्री चुनाव परिणामों पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है.

विभिन्न चुनावों में चार अरब से अधिक लोग वोट देने वाले हैं

द इकोनॉमिस्ट के अनुसार, अगले साल विभिन्न चुनावों में चार अरब से अधिक लोग वोट देने वाले हैं. ऐसे चुनावों में क्या होता है जब हम सोशल मीडिया की पहुंच को एआई-जनित नकली सामग्री की शक्ति और अनुनय के साथ जोड़ते हैं? क्या यह हमारे पहले से ही कमजोर लोकतंत्रों पर गलत सूचना और दुष्प्रचार की लहर फैला देगा? यह अनुमान लगाना कठिन है कि अगले वर्ष क्या होगा. लेकिन मेरा सुझाव है कि हम अभी से कमर कस लें.

You May Like

Prabhat Khabar App :

देश, एजुकेशन, मनोरंजन, बिजनेस अपडेट, धर्म, क्रिकेट, राशिफल की ताजा खबरें पढ़ें यहां. रोजाना की ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज कवरेज के लिए डाउनलोड करिए

अन्य खबरें