1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. singhbhum west
  5. irctcindian railways news south eastern railway despite the cyclonic storm yaas the chakradharpur railway division has sent more than 110 oxygen express trains to many states of the country grj

IRCTC/Indian Railways News : चक्रवाती तूफान यास के बावजूद चक्रधरपुर रेल मंडल ने देश के कई राज्यों को भेजी 110 से अधिक ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
IRCTC/Indian Railways News : ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन
IRCTC/Indian Railways News : ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन
प्रभात खबर

IRCTC/Indian Railways News, Jharkhand News, चक्रधरपुर (शीन अनवर) : चक्रवाती तूफान यास की बाधाओं और खराब मौसम के बावजूद दक्षिण पूर्व रेलवे का चक्रधरपुर रेल मंडल देश के विभिन्न हिस्सों में 110 से अधिक ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें भेजने में सफल रहा. लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (एलएमओ) पहुंचाकर राहत देने के लिए गाड़ियों का परिचालन जारी रहा. दक्षिण पूर्व रेलवे के चक्रधरपुर रेल मंडल ने देश भर के विभिन्न राज्यों में 575 से अधिक टैंकरों व कंटेनरों में 8996 मीट्रिक टन से अधिक एलएमओ भेजा है. दक्षिण पूर्व रेलवे के मुताबिक अनुरोध करने वाले राज्यों को कम से कम समय में अधिक से अधिक एलएमओ वितरित करने का प्रयास किया जा रहा है.

यास तूफान के दौरान 110 और आज शनिवार की सुबह तक 48 समेत कुल 158 ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेनें भेजी गई हैं. दक्षिण पूर्व रेलवे के अधिकार क्षेत्र में तीन प्रमुख एलएमओ लोडिंग पॉइंट्स में से टाटानगर ने 5343 एमटी, राउरकेला 3773 एमटी और बोकारो ने 2094 एमटी एलएमओ भेजा गया है. दक्षिण पूर्व रेलवे से ऑक्सीजन एक्सप्रेस द्वारा 12 राज्यों उत्तराखंड, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, हरियाणा, तेलंगाना, पंजाब, केरल, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और असम को ऑक्सीजन भेजा गया है.

भारतीय रेलवे ने ऑक्सीजन आपूर्ति स्थानों के साथ विभिन्न मार्गों की मैपिंग की है और राज्यों की जरूरत के साथ रेलवे को तैयार रखा गया है. इसमें एलएमओ लाने के लिए राज्य भारतीय रेलवे को टैंकर प्रदान कर रहा है ताकि ऑक्सीजन जल्द से जल्द पहुंच सके. रेलवे उच्च प्राथमिकता वाले ग्रीन कॉरिडोर द्वारा ऑक्सीजन एक्सप्रेस के संचालन में नये मानक और अभूतपूर्व बेंचमार्क बना है. इस क्षेत्र की संचालन टीम सबसे चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में चौबीसों घंटे काम कर रही है.

Posted By : Guru Swarup Mishra

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें