इस्राइली हमले में हमास के सैन्य प्रमुख की पत्नी, बेटी मृत

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
एजेंसियां, गाजा सिटी (एजेंसियां)इस्राइल ने फिलीस्तीन में कई दिनों से चल रहे संघर्ष विराम को खत्म करते हुए गाजा सिटी पर हमला कर हमास के कई ठिकानों को निशाना बनाया. इस्राइली हमले में हमास के सैन्य प्रमुख मोहम्मद दीफ की पत्नी और बेटी की मौत हो गयी. हमास के निर्वासित उप नेता अबू मारजुक ने फेसबुक पर लिखा कि बुधवार रात हमले में 'महान नेता की पत्नी अपनी बेटी के साथ शहीद हो गयीं.' मारजुक ने हालांकि, दीफ के बारे में कुछ नहीं लिखा है. फिलीस्तीनी आपातकालीन सेवाओं ने पूर्व में शहर के शेख रादवान में एक बड़े मकान पर हुए हमले में तीन लोगों के मारे जाने की खबर दी थी, लेकिन बाद में इसे संशोधित करते हुए कहा है कि हमले में एक महिला और दो साल की एक बच्ची ही मारी गयी है. हमले में 45 अन्य लोग घायल हो गये हैं. 2002 में हमास के सैन्य प्रमुख बने थे दीफ वर्ष 2002 में हमले में सलाह शेहादे के मारे जाने के बाद दीफ को हमास की सैन्य इकाई एजेदिन अल कसम का प्रमुख नियुक्त किया गया था. दीफ पूर्व में इस्राइल के हमलों में कम से कम पांच बार बच चुका है. ब्रिगेड ने इस हमले के बाद कहा कि इस्राइल ने हमला कर अपने लिए खुद नरक के द्वार खोल लिये हैं.संघर्षविराम टूटने की संयुक्त राष्ट्र ने की निंदा संयुक्त राष्ट्र. संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख बान की-मून ने गाजा पट्टी में मानवीय संघर्षविराम के टूटने की कड़ी निंदा करते हुए इस्राइल और फिलीस्तीनी धड़ों से तत्काल स्थायी संघर्षविराम पर सहमति बनाने के लिए कहा. बान के प्रवक्ता द्वारा जारी बयान में कहा गया कि वे दोनों पक्षों के शत्रुता पर उतर आने से 'बेहद निराश' हैं. मिस्र की मध्यस्थता में किये गये मानवीय संघर्षविराम के उल्लंघन की 'कड़े शब्दों में निंदा' करते हैं. बयान में कहा गया, महासचिव 'दोनों पक्षों को इस स्थिति को आगे न बढ़ने देने की जिम्मेदारी याद दिलाते हैं.' इसमें कहा गया,'गाजा के लोगों की एक बेहतर भविष्य की उम्मीदें और इस्राइल के लोगों की स्थायी सुरक्षा की उम्मीदें काहिरा में होनेवाली वार्ताओं में निहित हैं.' ''युद्धविराम खत्म हो गया है. इसके लिए इस्राइल जिम्मेदार है. फिलीस्तीनी अपने युद्धविराम प्रस्ताव पर इस्राइल के जवाब का इंतजार कर रहे थे. हम तब तक (काहिरा) वापस नहीं आयेंगे, जब तक कि इस्राइल जवाब नहीं देता है. आजम अल अहमद, प्रमुख फिलीस्तीनी प्रतिनिधिमंडल ''इस्राइल को तब तक चैन से नहीं रहने दिया जायेगा जब तक कि फिलीस्तीनी लोग सुरक्षित नहीं हो जाते. हमास
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें