1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. gumla
  5. two peoples spreading rumour on social media arrested in gumla district of jharkhand

Coronavirus in Jharkhand : गुमला में सोशल मीडिया पर अफवाह फैलाने वाले दो लोगों को पुलिस ने जेल भेजा

By Mithilesh Jha
Updated Date

कमलेश कुमार

बसिया : झारखंड के उग्रवाद प्रभावित जिला गुमला के बसिया प्रखंड में कोरोना वायरस के संबंध में अफवाह फैलाने वाले दो लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. दोनों रामजड़ी के रहने वाले हैं. इनके नाम जितेंद्र साहू और संदीप चौधरी हैं. कई दिनों से ये दोनों व्हाट्सएप्प (WhatsApp) के जरिये कोरोना वायरस से जोड़कर गलत सूचनाएं प्रसारित कर रहे थे.

आखिरकार पुलिस ने पुख्ता सबूत के आधार पर सोशल मीडिया का दुरुपयोग करके सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने के आरोप में इन्हें गिरफ्तार कर जेल भेज दिया. जानकारी के अनुसार, 6 अप्रैल की शाम करीब 7 बजे बसिया पुलिस को सूचना मिली कि रामजड़ी गांव में कोरोना को लेकर कुछ अफवाह फैल गयी है, जिसकी वजह से भारी संख्या में ग्रामीण एक जगह जमा हो गये हैं.

सूचना मिलते ही थाना प्रभारी उपेंद्र महतो रामजड़ी गांव पहुंचे. उन्होंने देखा कि 40-50 लोग पारंपरिक हथियार के साथ चबूतरा के पास एकत्रित हैं. ये लोग काफी-शोर गुल कर रहे थे. यहीं पता चला कि आसपास के 10-12 गांवों में ऐसी ही अफवाह फैली हुई है.

थाना प्रभारी ने लॉकडाउन के मद्देनजर सभी लोगों को अपने-अपने घर जाने के लिए कहा, लेकिन कोई मानने को तैयार नहीं था. काफी समझाने-बुझाने के बाद देर रात करीब एक बजे लोग अपने-अपने घरों को गये. इस संबंध में पुलिस ने ग्रामीणों से पूछताछ की, तो पता चला की संदीप चौधरी, राकेश कंसारी और एक अन्य व्यक्ति व्हाट्सएप्प पर एक संदेश भेज रहे हैं.

इसमें कहा जा रहा है कि समुदाय विशेष के कुछ लोग गांवों में घुसकर कोरोना महामारी फैला रहे हैं. इसी सूचना की वजह से लोग लॉकडाउन के निर्देशों की अवहेलना करते हुए घर से बाहर निकले और इतनी संख्या में एक जगह पर जमा हो गये.

इसके आधार पर बसिया पुलिस ने दोनों युवकों सहित 40-50 अज्ञात लोगों पर धार्मिक उन्माद फैलाने, सरकारी आदेश की अवहेलना करने एवं अफवाह फैलाने के आरोप में आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005, महामारी अधिनियम 1897 एवं अन्य सुसंगत धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज करते हुए दोनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.

बसिया के एसडीपीओ दीपक कुमार ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया कि वर्तमान दौर में प्राथमिक चुनौती कोरोना जैसी महामारी से निबटने को लेकर है. ऐसे में सोशल मीडिया का दुरुपयोग कर कुछ लोग सामाजिक सौहार्द बिगाड़ने में लगे हुए हैं. उन्होंने कहा कि प्रशासन किसी भी कीमत पर ऐसी हरकतों को नजरअंदाज नहीं करेगा.

उन्होंने यह भी दोहराया कि व्हाट्सएप्प, ट्विटर, फेसबुक, मैसेंजर समेत अन्य सोशल मीडिया साइट्स पर पुलिस की पैनी निगाह है. जो भी व्यक्ति कोरोना वायरस को लेकर या किसी भी तरह की अफवाह फैलाने की कोशिश करेगा या गलत सूचना प्रसारित करेगा, उसके खिलाफ कानून सख्त कार्रवाई करेगा.

उल्लेखनीय है झारखंड पुलिस लगातार लोगों को समझा रही है कि सोशल मीडिया पर किसी भी प्रकार का दुष्प्रचार न करें. कोरोना वायरस से जुड़ी गलत जानकारी को शेयर न करें. बावजूद इसके रामजड़ी गांव के इन दो लोगों ने गलत संदेश प्रसारित किया. इसलिए पुलिस ने इन दोनों को गिरफ्तार कर, उन्हें जेल भेज दिया.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें