एसडीएम की जांच में मिली गड़बड़ी, होगी कार्रवाई

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

नुआंव : गुरुवार की दोपहर एसडीएम शिव कुमार राऊत ने प्रखंड क्षेत्र के पजराव पंचायत अंतर्गत वार्ड नंबर सात की नाली-गली व नल-जल योजना की जांच धरातल पर जाकर की. मौके पर पहुंचे एसडीएम ने वार्ड सात में बनायी गयी नाली-गली व सात निश्चय योजना के अंतर्गत लगाये गये नल-जल योजना की बारीकी से जांच की.

जांच के बाद एसडीएम ने बताया कि वार्ड सात में नल-जल व बनायी गयी पक्की गली में भारी घोटाला वार्ड क्रियान्वयन समिति व मुखिया के द्वारा किया गया है. इसको लेकर उनपर कानूनी कार्रवाई करते हुए रुपये की रिकवरी की जायेगी. जांच में एसडीएम ने पाया कि वार्ड में पांच लाख 80 हजार की लागत से बनायी गयी पक्की गली, जिसकी लंबाई 60 से 65 फुट, चौड़ाई साढ़े तीन फुट व मोटाई दो इंच है.
धरातल पर हुए कार्य को प्रथम दृष्टया देखने से लगता है कि उक्त कार्य को करने में एक लाख से अधिक रुपये खर्च नहीं किये गये हैं, जबकि वार्ड क्रियान्वयन समिति व मुखिया के द्वारा उक्त योजना से पांच लाख 80 हजार की निकासी कर ली गयी है. वहीं उक्त वार्ड में लगाये गये नल-जल योजना में भी भारी अनियमितता मिली है.
वार्ड में कुल 68 से 69 घरों में पीने वाले पानी के दिये गये कनेक्शन से घरों में केवल एक टोटी लगाये गये हैं. गली के बीच से ले जाये गये पाइप जहां-तहां खुले हैं. एसडीएम की जांच में पाया गया कि घरों में लगाये गये नल के टोटी को स्टैंड के सहारे न रखकर रस्सी से बांधे गये हैं. जो अनियमितता का घोर परिचायक है.
गांव में स्वच्छता अभियान के दौरान बनाये गये शौचालय की स्थिति भी संतोषजनक नहीं है. उक्त मामलों में वार्ड क्रियान्वयन समिति व मुखिया के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई की जायेगी. जांच के बाद उक्त लोगों से राशि की रिकवरी भी कराये जायेंगे. मौके पर बीडीओ अमोल मिश्र, मनरेगा जेइ उपेंद्र कुमार व पीएचइडी के जेई गौतम सहित जनप्रतिनिधि मौजूद थे.
हमने अमाव में नहीं की किसी सामान की सप्लाई
दरअसल, रामपुर प्रखंड के अमाव पंचायत अंतर्गत आठ वार्ड सदस्यों ने लिखित शिकायत दिया कि सात निश्चय योजना में सादे चेकबुक पर हस्ताक्षर करवाने के लिए अमाव के मुखिया प्रर्मिला देवी व उनके पति द्वारा दबाव डाला जा रहा है. उक्त शिकायत पर डीएम ने मामले की जांच एसडीओ को सौंपा.
एसडीएम द्वारा जब बिछीबांध के वार्ड नंबर 12, अमाव के वार्ड नंबर पांच में सात निश्चय के तहत नल जल व अमाव के वार्ड नंबर छह में केश्वर पासवान के घर से वीरेंद्र शर्मा के घर तक पीसीसी सड़क का निर्माण के अभिलेखों की जांच की गयी, तो पाया गया कि उसमें भभुआ शहर के दुकान रेडियो सेंटर, ओम इंटरप्राइजेज एवं ऊषा जोन के द्वारा ईंटा, गिट्टी, बालू, पाइप, नल सहित अन्य सामानों के सप्लाई करने का बिल लगा हुआ है. जांच के क्रम में एसडीएम को आशंका हुई कि रेडियो सेंटर और ऊषा जोन जिनका नाम इलेक्ट्रॉनिक्स दुकान की तरह है उनके द्वारा बालू, ईंटा, गिट्टी, पाइप, नल आदि सप्लाई करने का बिल लगाया गया है.
जिसके बाद उन्होंने उक्त तीनों दुकानों को पत्र लिख अमाव के उक्त योजना में उनके दुकान के नाम का बिल लगाये जाने एवं सामान बिक्री किये जाने के बाबत पूछा गया तो उक्त तीनों दुकानदारों ने एसडीएम को लिखित जवाब दिया गया है कि जो बिल लगाया गया है वह बिल उनका नहीं है और ना ही उनके द्वारा अमांव पंचायत में किसी तरह की सामान का सप्लाई या बिक्री किया गया है. जिसके बाद उक्त योजनाओं में फर्जी बिल लगाकर पैसा निकाले जाने का मामला सामने आने पर एसडीएम ने जांच रिपोर्ट कार्रवाई के लिए डीएम को भेज दिया है.
    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें