1. home Hindi News
  2. state
  3. bihar
  4. bihar vidhan parishad was mumtaz begum shahjahan 13th wife or 14th leaders debate in funny mode patna news in hindi upl

मुमताज बेगम शाहजहां की13वीं बीबी थीं या 14 वीं? इस सवाल पर बिहार विधान परिषद में छिड़ी बहस

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
बिहार विधानमंडल का बुधवार का दिन कई मायनों में ऐतिहासिक रहा
बिहार विधानमंडल का बुधवार का दिन कई मायनों में ऐतिहासिक रहा
File

बिहार विधानमंडल का बुधवार का दिन कई मायनों में ऐतिहासिक रहा. विधानसभा में जहां सरकार के एक मंत्री के बोल से अध्यक्ष आहत हुए. वहीं विधान परिषद में इस बात पर देर तक बहस छिड़ी रही कि मुमताज बेगम मुगल सम्राट शाहजहां की 13 वीं बीबी थीं या 14 वीं.

दरअसल राजद सदस्य सुनील कुमार सिंह बजट पर चर्चा के दौरान राज्य सरकार के कुछ बड़े निर्माणों की चर्चा करते हुए कहा कि इतिहास के पन्नों में उतर आये. उन्होंने कहा कि शाहजहां ने अपनी की 13वें नंबर की पत्नी के लिए ताजमहल बनवा डाला था. इस संदर्भ में कुछ क्षण तक विधान पार्षद हंसे, लेकिन तभी कुछ सदस्यों ने इस पर गहरी आपत्ति जाहिर की.

मजाक-मजाक में एक- दूसरे पर साधे गंभीर निशाने

बजट पर बहस में हिस्सा लेते हुए कांग्रेस के प्रेमचंद मिश्रा ने एक छींटाकसी पर आपत्ति जाहिर करते हुए मंत्री अशोक चौधरी पर कहा कि आपको कांग्रेस ने बहुत कुछ दिया है. इसलिए कांग्रेस पर आपको कटाक्ष नहीं करना चाहिए. अशोक चौधरी भी पीछे नहीं हटे, उन्होंने भी मजाक-मजाक में कह दिया कि जब तक मिश्रा प्रदेश अध्यक्ष नहीं बनेंगे तब तक दूसरे अध्यक्ष को टिकने नहीं देंगे.

कहा कि वर्तमान अध्यक्ष भी इन्हीं की वजह से परिषद में बहुत कम ही आते हैं. आरोप-प्रत्यारोप के इस दौर में सभापति के आसन पर बैठे प्रोफेसर नवल किशोर यादव ने भी चुटकी लेते हुए कहा कि गंभीर पर मजाक नहीं होगा तो क्या मजाक- पर -मजाक करेगा?

निरुत्तर भी होते हैं, कुछ प्रश्न

संविदाकर्मियों के मानदेय पुनरीक्षण संबंधी सवाल पर सामान्य प्रशासन विभाग के प्रभारी मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव जवाब दे रहे थे. अल्पसूचित प्रश्न के माध्यम संजय कुमार सिंह ने इसे उठाया था. जब मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने अपना उत्तर दे दिया तो संजय कुमार सिंह ने कहा कि उनकी प्रश्न का उत्तर नहीं मिला. इस पर शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने चुटकी लेते हुये कहा कि सभी प्रश्नों के उत्तर नहीं मिलते कुछ निरुत्तर भी होते हैं. इस पर सदन में हंसी गूंजने लगी.

आप खड़े हैं तो मैं क्यों बैठूं

इसी बीच मंत्री रामसूरत राय अपने स्थान पर खड़े हो गये और उन्होंने राजद के सुबोध कुमार को बैठ जाने का इशारा किया. फिर भी सुबोध कुमार नहीं बैठे तो मंत्री रामसूरत राय ने उनकी ओर इशारा कर कहा, 'हम खड़े हैं इसलिये आप बैठिये'. जवाब में सुबोध कुमार ने कहा, 'आप खड़े हैं तो मैं क्यों बैठूं?' बात आगे बढ़ती इसके पहले कार्यकारी सभापति अवधेश नारायण सिंह ने कहा कि मंत्री खड़े हैं इसलिये आपको बैठना होगा. इसके बाद सुबोध कुमार बैठे और सदन की कार्यवाही आगे बढ़ी.

Posted By: Utpal Kant

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें