1. home Hindi News
  2. national
  3. indias weather lockdown effects on temperature no more heat in summer rain hailstorm

इस साल नहीं पड़ेगी चिलचिलाती और झुलसाने वाली गर्मी, जानिए क्या है मौसम विभाग की भविष्यवाणी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date
prabhat khabar

मई का महीना लगभग आधा गुजर चुका है, लेकिन आसमान में काले बादलों का डेरा है. पूरे देश में रह-रह कर बारिश दस्तक दे रही है. मई महीने में भी गर्म हवाओं का दूर-दूर तक कोई पता नहीं है. मौसम विभाग की माने तो इस साल गर्मी का मौसम असामान्य रहने वाला है. इस साल लोगों को गर्मियों में तपते सूरज की तपिश हर साल की तरह नहीं झेलनी पड़ेगी.

उत्तर, मध्य और पूर्वी भारत में मार्च महीने से ही गर्मी की दस्तक शुरू हो जाती है. अप्रैल-मई में पारा अपने चरम पर पहुंच जाता है. इनके अलावा राजस्थान, गुजरात, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना जैसे राज्यों में तो तापमान 45 डिग्री से भी पार चला जाता है. राजस्थान में तापमान 50 डिग्री सेल्सियस के भी पार चला जाता है.

मौसम विभाग ने इस साल सामान्य से अधिक तापमान का अनुमान लगाया था, लेकिन अभी तक तापमान सामान्य स्तर पर भी नहीं पहुंच पाया है. उल्टे मार्च की पहली तारीख से 13 मई के बीच औसत से 25 फीसदी ज्यादा बारिश हुई है.

भारतीय मौसम विभाग के महानिदेशक मृत्युंजय महापात्रा का कहना है की यह सामान्य घटना नहीं है. वही स्काइमेट वेदर का भी कहना है की बीते अप्रैल महीने में सिर्फ दो ही बार गर्म हवाएं चलीं. हालांकि उन्होंने कहा है कि 16 मई के बाद तापमान में इजाफा हो सकता है.

गौरतलब है की सामान्य से जब 5-6 डिग्री सेल्सियस अधिक तापमान के साथ गर्म हवाएं चलती हैं तो उसे लू कहा जाता है. वहीं, जब तापमान सामान्य से सात डिग्री तक ऊपर पहुंच जाता है तब मौसम विभाग के अनुसार वो प्रचंड गर्मी होता है. लेकिन इस बार ऐसा कुछ नहीं हुआ, मौसम अपनी सामान्य गर्मी तक भी नहीं पहुँच पाया है.

आईएमडी राष्ट्रीय मौसम पूर्वानुमान की प्रमुख सती देवी ने कहा कि अप्रैल महीने में गुजरात में तेज गर्मी की शुरुआत हुई थी, लेकिन उसका ज्यादा असर नहीं हुआ. उसी तारा मई की शुरुआत में राजस्थान के कुछ हिस्से में तापमान 40 के पार पहुंचा था, लेकिन पश्चिमी विक्षोभ के कारण हुई बारिश से तापमान एक बार फिर नीचे चला गया.

Share Via :
Published Date
Comments (0)
metype

संबंधित खबरें

अन्य खबरें