1. home Home
  2. life and style
  3. ank jyotish rashifal of 22 october 2021 future prediction mulank bhagyank numerology number and horoscope of friday yearly prediction for 22 october born people sry

जन्मदिन विशेष: 22 अक्टूबर को जन्म लेने वाले लोगों का ऐसा रहेगा साल, आत्मविश्वास और कार्यक्षमता का लाभ मिलेगा

व्यक्ति का मूलांक 4 ( mulank 4 ) एवं युरेनस, सूर्य, शुक्र, और शनि कारक गृह होंगे. 4, 13 या 22 अक्टूबर को जातक का जन्म होने पर युरेनस और शनि गृह का मिश्रित प्रभाव होता है.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
Ank Jyotish, 22 October
Ank Jyotish, 22 October
Prabhat khabar Graphics

व्यक्ति का मूलांक 4 ( mulank 4 ) एवं युरेनस, सूर्य, शुक्र, और शनि कारक गृह होंगे. 4, 13 या 22 अक्टूबर को जातक का जन्म होने पर युरेनस और शनि गृह का मिश्रित प्रभाव होता है. यह वर्ष आपके लिए समान्य रूप से अनुकूल रहेगा. सामाजिक कार्यों में आपकी व्यस्तता बढ़ेगी. आत्मविश्वास और कार्यक्षमता का लाभ मिलेगा. विरोधियों पर हावी रहेंगे.

अनेक ऐसे परिवर्तन और विचित्र अनुभव होंगे जिन पर आपका नियंत्रण नहीं रहेगा। शुक्र के सौम्य भाव में होने कारण प्रेम और विवाह से सम्बंधित अद्वितीय अनुभव होंगे.

ऐसे व्यक्ति करते हैं आपको आकर्षित

आप विचित्र और काफी हद तक सनकी व्यक्तियों की ओर आकर्षित होते है, जो सामान्यतया आपके लिए भाग्यशाली नहीं है. यदि आप किसी को मन से प्रेम करेंगे तो उसके कामो को कितनी भी आलोचना हो आप उसे सदैव करेंगे. चाहे आपको अपने परिवार का विरोध और मन मुटाव ही क्यों ना सहना पड़े.

छात्रों के लिए कैसा रहेगा ये साल

छात्रों को परीक्षाओं में सफलता मिलेगी. चिकित्सा, सेना, पुलिस, पैरा मेड़िकल, इंजीनियरिंग, बैंकिंग, वकालत आदि क्षेत्रों में करियर बनाने के अवसर मिलेंगे.

ऐसा रहेगा करियर

नई-नई योजनाएं आपके जहन में आ सकती हैं. यदि आप व्यापार करते हैं तो आपके लिए ये समय अच्छा रहने वाला है. लेकिन किसी सहयोगी के साथ व्यापार कर रहे जातकों को हानि होने की आशंका अधिक है. इस वर्ष करियर के लिहाज़ से कन्या राशि के जातकों को मिश्रित परिणाम हासिल होंगे.

आप अपनी बातो के लेकर काफी जिद्दी होंगे. संपर्क में आने वाले व्यक्तियों से आपको दुःखद अथवा सनसनीखेज अनुभव हो सकते है और निर्दोष होते हुए भी बदनामी का दाग लग सकता है.

22 अक्टूबर को जन्मे लोग करें ये उपाय

काली वस्तुओं का दान करें. अपने बड़े-बुजुर्गों, गुरुओं का आशीर्वाद लें. दुर्गा चालीसा का पाठ करें. माता के मंदिर में जाकर माता रानी को लाल फूल और लाल फल अर्पित करें.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें