1. home Hindi News
  2. business
  3. world environment day 2021 biggest events organised by the ntpc eastern region 1 in patna bihar to generate awareness about the significance of nature smb

स्वस्थ पहल : पर्यावरण दिवस के मौके पर एनटीपीसी के ईस्टर्न रीजन में बड़े पैमाने पर रोपे गए पौधे, आरईडी प्रवीण सक्सेना ने पटना में पौधारोपण कर कार्यक्रम का किया शुभारंभ

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
World Environment Day 2021 : एनटीपीसी पूर्वी क्षेत्र की सभी परियोजनाओं में चलाया गया पौधारोपण अभियान
World Environment Day 2021 : एनटीपीसी पूर्वी क्षेत्र की सभी परियोजनाओं में चलाया गया पौधारोपण अभियान
NTPC

World Environment Day 2021 NTPC News विश्व पर्यावरण दिवस के मौके पर आज एनटीपीसी पूर्वी क्षेत्र 1 की सभी परियोजनाओं में वृहद पौधारोपण अभियान चलाया गया. इस अवसर पर पूर्व 1 मुख्यालय पर प्रवीण सक्सेना, क्षेत्रीय कार्यकारी निदेशक और श्रीमती नीलम सक्सेना अध्यक्षा सुजाता लेडीज क्लब द्वारा पटना के शास्त्री नगर स्थित 5 एकड़ में ग्रीन बिल्डिंग तकनीक पर आधारित निर्माणाधीन क्षेत्रीय कार्यालय सह आवासीय परिसर में पौधरोपण किया गया. उन्होंने पूर्वी क्षेत्र की समस्त परियोजनाओं और स्टेशनों में होने वाले सघन वृक्षारोपण कार्यक्रम का औपचारिक शुभारंभ भी किया.

वहीं, एनटीपीसी बाढ़ परियोजना के आवासीय परिसर में कार्यकारी निदेशक प्रेम प्रकाश के साथ वरिष्ठ अधिकारियों, कर्मचारियों और परिवारजनों ने मिलकर कुल 50 फलदायक पौधे लगाए और साथ ही पर्यावरण संरक्षण की ओर सजगता से काम करने की शपथ ली. इसके अलावा पर्यावरण प्रबंधन समूह ने वन विभाग, बिहार सरकार के साथ बाढ़ परियोजना के आसपास 1000 फलदायक पेड़ों का पौधारोपण किया. उधर, आर ऐंड आर विभाग द्वारा भी सहरी पंचायत के सामुदायिक भवन में पौधारोपण कार्यक्रम की योजना बनाई गई है. पर्यावरण अनुकूल बिजली उत्पादन करते हुए देश की सबसे बड़ी बिजली कंपनी एनटीपीसी ने विगत वर्षों में कई महत्वपूर्ण पहल की हैं. आइये आज विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर जानते हैं, देश कैसे देश की सबसे बड़ी बिजली कंपनी एनटीपीसी कर रही है बिहार के उद्योगों और लाखों जिंदगियों को रोशन...

आधुनिक प्रौद्योगिकी से कुशल और प्रदूषण मुक्त बिजली उत्पादन

बिहार में एनटीपीसी की स्थापित कुल बिजली उत्पादन क्षमता 6810 मेगावॉट है. राज्य की औद्योगिक आवश्यकताओं को पूरा करते हुए यहां एनटीपीसी ने कुल 6 प्लांट स्थापित किए हैं, जिनकी कुछ यूनिट निर्माणाधीन है. इन सभी संयंत्रों के उत्पादन आंकड़े मिला लिए जाएं, तो पीक डिमांड पर बिहार को हर दिन 4000 से भी अधिक मेगावॉट बिजली आपूर्ति एनटीपीसी के विभिन्न संयंत्रों द्वारा की जा सकती है. एनटीपीसी बाढ़ में पर्यावरण अनुकूल सुपर क्रिटिकल प्रौद्योगिकी से वर्तमान में 1320 मेगावॉट उत्पादन किया जा रहा है. इससे आम सब-क्रिटिक संयंत्रों के मुकाबले यहां प्रतिवर्ष सैकड़ों मीट्रिक टन कोयले की बचत हो रही है. एनटीपीसी ने सर्वप्रथम पहल करते हुए देश में नई व उन्नत प्रौद्योगिकी आधारित सुपर क्रिटिकल व अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल विद्युत संयंत्रों को स्थापित किया है. हाल में छत्तीसगढ़ में एक अल्ट्रा सुपर क्रिटिकल प्लांट भी एनटीपीसी ने देश को समर्पित किया है.

एफजीडी प्रौद्योगिकी भारतीय कंपनियों के साथ साझेदारी

भारत में बिजली की सर्वाधिक आपूर्ति कोयला आधारित संयंत्र करते हैं. इसके साथ ग्रिड फ्रिक्वेन्सी के स्थायित्व और बिजली मांग की त्वरित आपूर्ति करने में भी पारंपरिक ऊर्जा स्रोत सबसे अधिक कारगर होते हैं. लेकिन, भविष्य में प्राकृतिक स्रोतों से उत्पादन बढ़ाने के लिए एनटीपीसी ने एक दूरगामी योजना बनाई है. भारत सरकार की अक्षय ऊर्जा नीति के मुताबिक कंपनी ने वर्ष 2032 तक कुल 32 गीगावॉट उत्पादन नवीकरणीय स्रोतों से करने का लक्ष्य रखा है. अक्षय ऊर्जा के लिए समर्पित कंपनी NREL को पिछले वर्ष अक्तूबर में ही पंजीकृत कर लिया गया था और तब से इलेक्ट्रिक वाहनों और सोलर रूफटॉप जैसी कई पहले बड़े स्तर पर शुरू की गई हैं. बिहार के बाढ़ सुपर थर्मल स्टेशन में टाउनशिप के स्कूल में सोलर रूफटॉप से 100 किलोवॉट सौर ऊर्जा का उत्पादन हाल में शुरू किया गया है.

इसके बावजूद मौजूदा परिस्थितियों में एनटीपीसी के जितने भी संयंत्र हैं, उनमें केंद्रीय प्रदूषण नियामक बोर्ड और मुख्य न्यायालय के दिशानिर्देशों का अनुपालन किया जा रहा है. एनटीपीसी बाढ़ में परिवेशीय वायु की गुणवत्ता की लगातार निगरानी की जाती है. साथ ही परिजोयना ने भारतीय कंपनी BHEL के साथ अपनी सभी इकाइयों के लिए एफजीडी इंफ्रास्ट्रक्चर स्थापित करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है. जिससे आने वाले दिनों में पर्यावरण संरक्षण के राष्ट्रीय मानकों के अनुपालन में यह सहायक सिद्ध होगा.

सड़क और राजमार्ग निर्माण के लिए राख का ऑक्शन, बाढ़ परियोजना ने वित्तीय वर्ष 20-21 में किया 108 प्रतिशत राख उपयोगिकरण राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) के साथ कुशल साझेदारी करते हुए एनटीपीसी प्रतिवर्ष अधिकतम राख उपयोगीकरण का ध्येय हासिल कर रही है. बिहार के प्रमुख हाइवे पटना बख्तियारपुर फोरलेन, पटना रिंग रोड, मुजफ्फरपुर दरभंगा सहित अनेक स्टेट हाइवेज में एनटीपीसी द्वारा प्रदत्त राख का उपयोग किया जा रहा है. ऐसे कई वैज्ञानिक प्रमाण हैं यह साबित करते हैं कि राख के उपयोग से निर्मित सड़कें मजबूत और टिकाऊ होती हैं. सड़कों के अलावा बड़े भवनों की निर्माण ईंटों में और यहां तक कि खेती में भी कुछ फसलों में राख के उपयोग से पैदावार में वृद्धि की संभावनाएं हैं. इन संभावनाओं को वृहद स्तर पर तलाशने की जरूरत है.

जीरो लिक्विड डिस्चार्ज, जल मानकों का अनुपालन

पर्यावरण संरक्षण की और आधुनिक पहले करने के साथ ही एनटीपीसी के 6 प्लांट, बिहार में सजगता से तय मानकों का अनुपालन सुनिश्चित कर रहे हैं. ये संयत्र जीरो लिक्विड डिस्चार्ज (ZLD) का अनुपालन करते है यानी किसी भी तरह के अपशिष्ट जल को संयंत्र के बाहर नहीं छोड़ा जाता है. यह एक ऐसी उपचार प्रक्रिया है जिसका उद्देश्य अपशिष्ट जल के उचित ट्रीटमेंट से स्वच्छ पानी का उत्पादन करना है जो पुन: उपयोग के लिए उपयुक्त होता है. इससे पानी की खपत में काफी अधिक कमी आती है, जिससे पैसे की बचत होती है और पर्यावरण के लिए भी ये फायदेमंद होता है. ZLD सिस्टम लगभग सभी उत्पादित अपशिष्ट जल को शुद्ध और दोबारा उपयोग में लाने के लिए विभिन्न तरह की उन्नत तकनीकों को नियोजित करता है.

ग्रामीण क्षेत्रों में भारी वर्षा के दिनों में होने वाले जलजमाव के कारण रिसाव की आशंका जागती है. लेकिन, एनटीपीसी के संयंत्रों से कोई भी जल अपशिष्ट आसपास के क्षेत्रों में नहीं छोड़ा जाता है. आपातकालीन स्थिति जैसे बाढ़ से बचाव के लिए भी एक बेहद कुशल ड्रेनेज सिस्टम की व्यवस्था बनाई जाती है. कचरा प्रबंधन की बात करें तो बाढ़ टाउनशिप से निकला घरेलू कचरा अपशिष्ट वर्मीकंपोस्ट खाद बनाने में प्रयुक्त किया जाता है. विगत समय में परियोजना के आसपास के क्षेत्रों की 25 ग्रामीण महिलाओं को वर्मीकंपोस्ट खाद बनाने का प्रशिक्षण दिया गया था, जिससे प्रेरणा लेते हुए दो महिलाओं ने घरेलू स्तर पर खाद उत्पादन की सकारात्मक पहल शुरू कर दी है. इसमें परियोजना में उत्पादित खाद का वितरण भी किया गया था.

पौधारोपण युद्धस्तर पर लौटने लगे घुमंतू पक्षी

बिहार और झारखंड में एनटीपीसी की सभी परियोजनाओं द्वारा प्लांट, आवासीय और आसपास के क्षेत्रों में लाखों की संख्या में पेड़ लगवाए गए हैं. यह एनटीपीसी के वृहद पौधारोपण अभियान का नतीजा है कि जहां भी एनटीपीसी की परियोजनाएं अवस्थित हैं, वहां हमेशा एक रमणीय प्राकृतिक वातावरण शोभायमान रहता है. विगत वर्षों में एनटीपीसी बाढ़ ने पीपल, बरगद, नीम, जामुन, करंज, कदम, अमलतास जैसे कई पेड़-पौधे अपने आसपास के क्षेत्रों में लगवाए हैं. पूर्व में जो घुमंतू पक्षी लगातार बढ़ते तापमान के कारण विलुप्त होते जा रहे थे, एनटीपीसी के हरे-भरे कैंपस में उनकी चहक भी लौटने लगी है. इस प्रकार एनटीपीसी की सभी परियोजनाएं, औद्योगिक विकास के ध्येय को पूरा करते हुए, पर्यावरण संरक्षण की ओर अपने दायित्वों को जिम्मेदारी से निभा रही हैं.

Upload By Samir

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें