1. home Home
  2. business
  3. this 1 rupee note can get you rs 45000 know how to get benefit vwt

1 रुपये का यह नोट आपको करा सकता है 45,000 रुपये तक मोटी कमाई, जानिए कैसे?

आपके कलेक्शन बॉक्स या वॉलेट में 1 रुपये का यह भारतीय मुद्रा पड़ा हुआ है, तो आप हजारों रुपये आराम से कमा सकते हैं.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
एक रुपये के दुर्लभ नोट बन सकते हैं कमाई का जरिया.
एक रुपये के दुर्लभ नोट बन सकते हैं कमाई का जरिया.
फोटो : ट्विटर.

नई दिल्ली : क्या आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं कि मार्केट में चलन से करीब-करीब गायब हो चुके 1 रुपये के नोट की कीमत कितनी हो सकती है? नहीं न... तो हम आपको बता देते हैं कि अगर आप देश में पुराने करेंसी नोटों की खरीद-बिक्री करते हैं, तो इस 1 रुपये के पुराने नोट की कीमत आपके अंदाज से कहीं अधिक होगी.

आपके कलेक्शन बॉक्स या वॉलेट में 1 रुपये का यह भारतीय मुद्रा पड़ा हुआ है, तो आप हजारों रुपये आराम से कमा सकते हैं. इसके लिए आपको इस बात का ख्याल रखना होगा कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की ओर से जारी यह नोट निर्धारित मानदंडों पर खरा उतरे.

कितनी होगी कमाई

अगर आपके पास पड़ा हुआ 1 रुपये का नोट सभी मानदंडों पर खरा है, तो आप उसे बेचकर कम से कम 45,000 रुपये तो कमा ही सकते हैं. इसमें शर्त यह है कि इस 1 रुपये के नोट पर वित्त मंत्रालय के पूर्व प्रधान सचिव एचएम पटेल का हस्ताक्षर हो और उसका नंबर 12345 हो. तब आप इस 1 रुपये के नोट को 'क्वाइनबाजार' की वेबसाइट पर बेच सकते हैं.

कैसे करें बिक्री?

1 रुपये के पुराने नोट को बेचने के लिए आपको 'क्वाइनबाजार' वेबसाइट 'शॉप' सेक्शन में जाना होगा. वेबसाइट पर दी गई जानकारी के अनुसार, 1 रुपये का यह नोट एचएम पटेल के हस्ताक्षर वाला वर्ष 1957 के 12345 नंबर वाला होना चाहिए.

आरबीआई के निर्देशों का पालन करना जरूरी

इस बीच, आपको बता दें कि इस साल अगस्त में आरबीआई ने पुराने नोटों और सिक्कों की ऑनलाइन खरीद-बिक्री के संबंध में एक निर्देश भी जारी किया है. आरबीआई की ओर से जारी एक बयान के अनुसार, आरबीआई के संज्ञान में आया है कि कुछ शरारती तत्व धोखाधड़ी के जरिए पुराने नोटों और सिक्कों की ऑनलाइन या ऑफलाइन लेन-देन करने के लिए आरबीआई के नाम और लोगो का इस्तेमाल कर जनता से शुल्क, कमीशन और टैक्स की मांग कर रहे हैं.

धोखाधड़ी से बचने के लिए आरबीआई का अलर्ट

केंद्रीय बैंक स्पष्ट किया है कि वह ऐसे मामलों से किसी प्रकार का संबंध नहीं रखता और वह कभी भी किसी भी प्रकार के शुल्क और कमीशन की मांग नहीं करता. उसने कहा कि आरबीआई ने इस तरह के लेनदेन में अपनी ओर से शुल्क और कमीशन लेने के लिए किसी भी संस्थान, फर्म और व्यक्ति आदि को अधिकृत नहीं किया है.

नोट : प्रभात खबर इस प्रकार के फेक बिजनेस को बढ़ावा नहीं देता है.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें