1. home Hindi News
  2. tech and auto
  3. tata motors news commercial vehicle industry to run at high speed in the current financial year rjv

Tata Motors को उम्मीद, इस साल तेज रफ्तार से दौड़ेगा कमर्शियल व्हीकल सेक्टर

टाटा मोटर्स के कार्यकारी निदेशक गिरीश वाघ ने यह उम्मीद जतायी है. वाघ का कहना है कि अनुकूल मांग परिस्थितियों और आर्थिक गतिविधियों में तेजी से इस साल वाणिज्यिक वाहन उद्योग तेजी से आगे बढ़ेगा.

By Prabhat khabar Digital
Updated Date
tata motors
tata motors
tata motors

Tata Motors News: वाणिज्यिक वाहन उद्योग की वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष में दो अंकीय यानी 10 प्रतिशत से अधिक रहने की उम्मीद है. टाटा मोटर्स के कार्यकारी निदेशक गिरीश वाघ ने यह उम्मीद जतायी है. वाघ का कहना है कि अनुकूल मांग परिस्थितियों और आर्थिक गतिविधियों में तेजी से इस साल वाणिज्यिक वाहन उद्योग तेजी से आगे बढ़ेगा. हालांकि, इसके साथ ही उन्होंने कहा कहा कि ईंधन के ऊंचे दाम और वाहन ऋण महंगा होने से इस उद्योग के रास्ते में अड़चनें आ सकती हैं.

वित्त वर्ष 2018-19 में वाणिज्यिक वाहन उद्योग ने अपना अच्छा समय देखा था. उस समय ऐसे वाहनों की बिक्री का आंकड़ा 10 लाख इकाई को पार कर गया था. हालांकि, उसके बाद के दो वित्त वर्षों में इस उद्योग में गिरावट आई थी, लेकिन पिछले वित्त वर्ष में इसने फिर रफ्तार पकड़ी है. वाघ ने कहा, हालांकि, बिक्री की मात्रा के लिहाज से उच्चतम स्तर पर पहुंचने में अभी समय लगेगा, लेकिन पेलोड (भार ढोने की क्षमता) के मामले में उद्योग पिछले शीर्ष स्तर पर जल्द पहुंच सकता है, क्योंकि अधिक भार क्षमता वाले वाणिज्यिक वाहनों की मांग बढ़ रही है.

वाघ ने कहा, मुझे लगता है कि पिछले साल अर्थव्यवस्था ने फिर से अच्छा प्रदर्शन किया है और वाणिज्यिक वाहन बाजार में लगभग 26 प्रतिशत की वृद्धि देखने को मिली है. टाटा मोटर्स में हमने 33 प्रतिशत की वृद्धि हासिल की है. पिछले तीन वर्षों के संदर्भ में उन्होंने कहा, वित्त वर्ष 2018-19 हमारा पिछला सबसे अच्छा स्तर था. उस समय वाणिज्यिक वाहन उद्योग ने 10 लाख इकाइयों की बिक्री के आंकड़े को पार किया था.

उसके बाद इसमें गिरावट आयी. 2019-20 देश में भारत चरण-छह (बीएस-छह) की ओर स्थानांतरण के लिए तैयारियों का साल था. वहीं 2020-21 कोविड महामारी से प्रभावित वर्ष था. इन दोनों वर्षों में बाजार में गिरावट आयी और 2020-21 में वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री 2018-19 का मात्र 52 प्रतिशत थी. वाणिज्यिक वाहन उद्योग में कुल स्थिति पर उन्होंने कहा, हम उद्योग की स्थिति में सुधार देख रहे हैं.

हालांकि, मात्रा के लिहाज से पिछले उच्चस्तर पर पहुंचने में कुछ समय लगेगा, लेकिन पेलोड के मामले में हम पिछले शीर्षस्तर पर जल्द पहुंच जाएंगे. इसकी वजह यह है कि आज 2018-19 की तुलना में अधिक भार क्षमता वाले वाहन बिक रहे हैं. उन्होंने कहा कि सरकार ने बजट में बुनियादी ढांचा क्षेत्र पर खर्च बढ़ाया है. बुनियादी ढांचा क्षेत्र में हो रहे काम की वजह से आज वाणिज्यिक वाहनों की मांग बढ़ी है. वाणिज्यिक वाहन क्षेत्र की वृद्धि के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस साल यह क्षेत्र दो अंकीय बढ़ोतरी दर्ज करेगा.

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें