जूट मिल के सीईओ की हत्या से उबले सिलीगुड़ी के व्यवसायी

By Prabhat Khabar Digital Desk
Updated Date

सिलीगुड़ी: हुगली जिले में नॉर्थ ब्रुक जूट मिल के सीईओ हरि किशन माहेश्वरी की दिन-दहाड़े मिल के ही श्रमिकों द्वारा पीट-पीटकर हत्या किये जाने का मामला अब तूल पकडने लगा है. पूरे बंगाल में इस वारदात के बाद उद्योग जगत में आतंक का माहौल व्याप्त हो गया है. रविवार को हुई इस दर्दनाक वारदात को लेकर प्रभात खबर ने सिलीगुड़ी के उद्योग जगह से जुड़े उद्योगपतियों व संगठनों से प्रतिक्रिया ली. प्रस्तुत है उसी प्रतिक्रिया के प्रमुख अंश.

ओम प्रकाश अग्रवाल ने जूट मिल के सीईओ हरि किशन माहेश्वरी की हत्या पर काफी अफसोस जाहिर किया. उनकी हत्या का समाचार एक ऐसा भयानक और दुखद घटना है जैसे अचानक भरी दुपहरिया में अंधेरा छा जाना. जब पश्चिम बंगाल में दशकों से लंबित आर्थिक विकास को नवगति एवं नवलय प्रदान करने का समय आया उसी समय ऐसी वारदातें उद्योग और व्यवसायी परिवेश में भय और आतंक का माहौल पैदा कर दिया है. यह कतई विश्वास नहीं होता कि जिस उद्योग से स्थायी और अस्थायी करीब चार हजार श्रमिकों का भरण-पोषण होता है, वही श्रमिक ऐसे आपराधिक कार्यो को अंजाम देंगे, यह सोचने वाली बात है. ऐसे माहौल के लिए इस समय सबसे अधिक जरूरत है संपूर्ण प्रशासनिक सक्रियता की. इनके हत्यारों तथा षडय़ंत्रकारियों को सबके सामने लाने की आवश्यकता है. जल्द से जल्द इन्हें गिरफ्तार कर कठोर दंड देना चाहिए. सरकार को भी इस वारदात को लेकर राजनीति न करके घटना के बाद उद्योग जगत एवं व्यवसायी माहौल में छायी आतंक, भय और आक्रोश को दूर कर पुन: लोगों का विश्वास अजिर्त करना चाहिए.

ओम प्रकाश अग्रवाल, अध्यक्ष, सिलीगुड़ी मर्चेट एसोसिएशन
सीताराम डालमिया ने इस वारदात की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि जूट मिल के सीईओ हरि किशन की केवल हत्या नहीं हुई है, बल्कि उद्योग जगत की हत्या है. इस वारदात ने जाहिर किया है कि एक बार फिर बंगाल में औद्योगिक माहौल नष्ट होगा. बंगाल में तीन वर्ष पहले सत्ता बदला, राजनैतिक दल बदला, दल का रंग बदला, लेकिन राजनीति नहीं बदली. बंगाल में अगर ऐसी ही राजनीति चली तो एक दिन यहां कोई औद्योगिक, कल-कारखाने नहीं होंगे. बंगाल में कोई निवेश नहीं करेगा. वैसे भी लोकसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री ममता बनर्जी व उनके पार्टी के नेता, मंत्रियों ने चुनाव प्रचार के दौरान भड़काउ भाषण देकर उद्योगपतियों व व्यापारियों को चिंतित कर दिया है.

सीताराम डालमिया, उपाध्यक्ष, सिलीगुड़ी मर्चेट एसोसिएशन
सत्य नारायण अग्रवाल ने इस दुखद घटना पर अफसोस जाहिर करते हुए एसोसिएशन की ओर से स्वर्गीय हरि किशन माहेश्वरी की आत्मा की शांति एवं परिवार को शक्ति देने की कामना की. उन्होंने कहा कि इस वारदात की जीतनी भी निंदा की जाय, काफी कम है. बंगाल में अगर उद्योगपतियों एवं छोटे-बड़े कारोबारियों के साथ अगर ऐसा ही सलूक रहा, तो बंगाल की आर्थिक अवस्था काफी कमजोर हो जाएगी. लोग बंगाल में नया उद्योग लगाने से पहले सोचने को मजबूर होंगे. उन्होंने इस वारदात के आरोपियों को जल्द गिरफ्तार करने की पुलिस प्रशासन से अपील की है. श्री अग्रवाल ने कहा कि कल दोपहर को जब हरि किशन माहेश्वरी की हत्या की खबर सुनी तो सुनकर सकते में रह गया.

सत्य नारायण अग्रवाल, अध्यक्ष, हार्डवेयर मर्चेट एसोसिएशन
हुगली जिला अंतर्गत भद्रेश्वर थाना क्षेत्र के चाम्पदानी स्थित नॉर्थ ब्रुक जूट मिल के श्रमिकों द्वारा ही कथित तौर पर मिल के सीईओ हरि किशन माहेश्वरी की हत्या की निंदा करते हुए प्रद्युमन सिंह चौहान ने गहरा अफसोस जाहिर किया. साथ ही इस वारदात पर गहरा चिंता व्यक्त किया. उन्होंने कहा कि किसी भी उद्योग, कल-कारखाने या व्यवसायिक प्रतिष्ठान की बुनियाद वहां के श्रमिक व कर्मचारियों के कंधों पर ही टिकी होती है. अगर श्रमिक व कर्मचारी ही अपने मालिक या प्रबंधक की हत्या करने लगे, तो जाहिर सी बात है उस प्रतिष्ठान की नींव कमजोर हो उठी है. किसी भी समस्या का समाधान बातचीत से ही संभव है न कि हत्याएं जैसी जघन्य वारदातें. श्री चौहान ने कहा कि बंगाल में वैसे भी कारोबार दिन-प्रतिदिन कमजोर होते जा रहा है और ऐसे में इस तरह की वारदातें उद्योगपति व कारोबारियों के साथ हो तो बंगाल की आर्थिक स्थिति और कमजोर हो जाएगी.

प्रद्युमन सिंह चौहान, महासचिव, हार्डवेयर मर्चेट एसोसिएशन

    Share Via :
    Published Date
    Comments (0)
    metype

    संबंधित खबरें

    अन्य खबरें