1. home Hindi News
  2. state
  3. jharkhand
  4. ranchi
  5. home guard recruitment case jharkhand audio of female candidate is viral srn

झारखंड होमगार्ड बहाली गड़बड़ी मामला: महिला अभ्यर्थी का ऑडियो वायरल, कर रही है ये दावा

झारखंड होमगार्ड बहाली मामले में एक महिला अभ्यर्थी का ऑडियो वायरल हो रहा है. जिसमें वो दावा कर रही है कि हाई जंप, लांग जंप और दौड़ में वह सबसे आगे थी इसके बावजूद उसका नाम मेधा सूची में नहीं है

By Prabhat Khabar Print Desk
Updated Date
झारखंड होमगार्ड बहाली गड़बड़ी मामला
झारखंड होमगार्ड बहाली गड़बड़ी मामला
Prabhat Khabar

रांची : रांची जिले में होमगार्ड बहाली को लेकर जारी तीसरी मेधा सूची में गड़बड़ी के मामला लगातार सामने आ रहे हैं. इस कड़ी में एक ऑडियो वायरल हुआ है. दावा किया जा रहा है कि यह ऑडियो तमाड़ प्रखंड की महिला अभ्यर्थी सावित्री कुमारी और रांची के जिला समादेष्टा हरिहर मुंडा के बीच बातचीत का है.

महिला अभ्यर्थी यह दावा कर रही है कि हाई जंप, लांग जंप और दौड़ में वह सबसे आगे थी, इसके बावजूद मेधा सूची में उसका नाम नहीं है. जबकि, उसके पीछे रह गयीं लड़कियों का नाम मेधा सूची में आ गया है, क्योंकि उन्होंने पैसे दिये हैं. हालांकि, जिला समादेष्टा अभ्यर्थी के दावे को सिरे से खारिज करते हुए उसे आपत्ति देने को कह रहे हैं.

इस ऑडियो की पुष्टि प्रभात खबर नहीं करता है. इधर, झारखंड होमगार्ड वेलफेयर एसोसिएशन के महासचिव राजीव तिवारी ने कहा कि होमगार्ड बहाली को लेकर विज्ञापन संख्या 1/ 2016 करीब छह वर्ष पूर्व निकला. तीन बार मेधा सूची निकाली गयी. लेकिन तीनाें ही मेधा सूची में गड़बड़ी की गयी. इसकी सजा होमगार्ड अभ्यर्थी भुगत रहे हैं. लेकिन गलती पर गलती करनेवाले अफसरों पर आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई. श्री तिवारी ने राज्य सरकार से इस मामले में गलती करने करनेवाले अफसरों पर कार्रवाई की मांग की है.

मेधा सूची में गड़बड़ी

अभ्यर्थी और जिला समादेष्टा के बीच फोन पर हुई बातचीत का ऑडियो हुआ वायरल

एसोसिएशन ने की मांग : मेधा सूची में गड़बड़ी करनेवाले अफसरों पर कार्रवाई करे राज्य सरकार

वायरल ऑडियो में बातचीत

अभ्यर्थी : होमगार्ड का रिजल्ट अब निकल गया है सर.

समादेष्टा : अभी मेधा सूची एनआइसी की वेबसाइट पर अपलोड किया गया है, ताकि आपत्ति दर्ज करायी जा सके.

अभ्यर्थी : मेधा सूची में मेरा नाम नहीं है. मेरे साथ तो सरासर गलत हुआ है सर. हम हाइकोर्ट जायेंगे. जब हम सब में आगे हैं. एक ही जंप में दूसरी लड़कियां पीछे हो गयी हैं. कई ने जंप लगाया भी नहीं था. जिन छह लड़कियों का तमाड़ प्रखंड से चयन हुआ है, वह सब मेरे से पीछे थीं. फिर किस हिसाब से उनका चयन हुआ है? यह हम जानना चाहते हैं. कैसे मास्टर चार्ट गलत हुआ? इतना बड़ा ऑफिसर होकर पेंसिल से मास्टर चार्ट कैसे लिखा?

समादेष्टा : पेन से लिखा गया था. उस पर प्लास्टिक सटा हुआ है. आपके बोलने से नहीं होगा. जो कागज में है, उसी आधार पर काम होगा. आपको जो आपत्ति है, वह डाल दीजिए.

अभ्यर्थी : वह लोग दौड़ भी नहीं निकाल पायी, तब उसका कैसे चयन हो गया. हाई जंप, लांग जप और दौड़ में हम सबसे आगे थे. जिन लोगों का चयन हुआ है, वह लड़की लोग हमको बोली कि उन लोगों ने पैसा दिया है. हम बीपीएल श्रेणी से हैं. हम कहां से पैसा देंगे?

समादेष्टा : आपत्ति में उल्लेख करो कि बहाली का वीडियो फुटेज भी दिखाया जाये.

अभ्यर्थी : हम लिखित पहले दिये थे, लेकिन कुछ नहीं हुआ. हम आगे थे, तो मेरा होना चाहिए. अगर मेरा नहीं होगा, तो मेधा सूची को रद्द किया जाये.

Posted By: Sameer Oraon

Share Via :
Published Date

संबंधित खबरें

अन्य खबरें